BREAKING NEWS

CAA और NRC को लेकर प्रशांत किशोर की शाह को चुनौती, कहा-परवाह नहीं तो आगे बढ़िए और लागू कीजिए कानून◾पहाड़ो पर हिमपात से राजधानी में बढ़ी ठंड, कोहरे के चलते दिल्ली एयरपोर्ट से पांच विमानों के बदले गए मार्ग◾CAA को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट आज करेगा सुनवाई◾जेपी नड्डा और अमित शाह ने दिल्ली भाजपा की चुनावी तैयारियों का लिया जायजा◾JNU में हिंसा से पहले चार पत्र लिखकर प्रशासन को छात्रों से वार्ता करने को कहा गया था : दिल्ली पुलिस◾यात्रीगण कृपया ध्यान दें, दिल्ली आने वाली 22 ट्रेनें आज 1 से 8 घंटे तक लेट◾आप नेता सुनीता, उमेद और अनवर भाजपा में शामिल◾बैंक धोखाधड़ी : हीरा कारोबारी के 13 ठिकानों पर सीबीआई छापे◾केजरीवाल के नामांकन पत्र दाखिले में चुनाव आयोग ने जानबूझकर विलंब नहीं किया : दिल्ली निर्वाचन कार्यालय◾केजरीवाल के पास कुल 3.4 करोड़ रुपये की संपत्ति, 2015 से 1.3 करोड़ रुपये बढ़त◾दावोस में डोनाल्ड ट्रंप से मिले इमरान , अमेरिकी राष्ट्रपति बोले- कश्मीर पर करीबी नजर◾टुकड़े-टुकड़े गैंग का अस्तित्व है और वह सरकार चला रहा है : थरूर◾गणतंत्र दिवस : 23 जनवरी को परेड रिहर्सल, दिल्ली पुलिस ने जारी की सूचना, ये मार्ग रहेंगे बंद, यहां से जाना होगा !◾ब्राजील के राष्ट्रपति बोलसोनारो शुक्रवार को चार दिवसीय यात्रा पर आएंगे भारत◾दिल्ली को सर्दी से मिली फौरी तौर पर राहत, उत्तर प्रदेश और हरियाणा में अभी भी शीत लहर ◾भारत कठिन दौर से गुजर रहा है, नीचे बनी रहेगी आर्थिक वृद्धि दर : अर्थशास्त्री◾अदालत ने आजाद की जमानत शर्तों में बदलाव कर चिकित्सा, चुनावी कारणों से दिल्ली आने की इजाजत दी◾अमित शाह की रैली में शरणार्थियों का छलका दर्द◾जम्मू कश्मीर के लोगों से उनकी समस्याओं के बारे में सुनना चाहता है केंद्र : नकवी ◾छह घंटे के इंतजार के बाद केजरीवाल ने नामांकन पत्र किया दाखिल◾

इराकी नेता निजी तौर पर चाहते हैं अमेरिकी सेना की मौजूदगी : पोम्पिओ

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने सोमवार को कहा कि इराकी नेताओं ने उन्हें निजी तौर पर बताया है कि वे अमेरिकी सेना की मौजूदगी का समर्थन करते हैं। बगदाद हवाईअड्डे पर अमेरिकी हवाई हमले में ईरान के एक शीर्ष जनरल के मारे जाने के बाद इराक की संसद ने गत सप्ताह विदेशी सेनाओं के आमंत्रण को रद्द करने के लिए वोट दिया। हालांकि पोम्पिओ ने कहा कि उन्होंने इराक के करीब 50 नेताओं के साथ बातचीत में अलग ही बात सुनी। 

पोम्पिओ ने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के एक फोरम में एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘वे सार्वजनिक रूप से ऐसा नहीं करेंगे लेकिन निजी तौर पर वे सभी इस बात का स्वागत करते हैं कि अमेरिका अब भी आतंकवाद के खिलाफ अपना अभियान चलाए हुए है।’’ 

विदेश मंत्री ने कहा कि अमेरिकी बल यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि इस्लामिक स्टेट के चरमपंथी फिर न उभरे और इराकियों को संप्रभुता तथा आजादी हासिल करने का अवसर मिले जो ज्यादातर इराकी चाहते हैं। पोम्पिओ ने कहा कि उन्होंने शिया बहुल नेताओं समेत इराक में सभी पृष्ठभूमियों के नेताओं से बात की थी जिनके ईरान से धार्मिक संबंध हैं।