BREAKING NEWS

FB ने अपना नाम बदल कर किया Meta , फेसबुक के CEO मार्क जुकरबर्ग का ऐलान◾T20 World CUP : डेविड वॉर्नर की धमाकेदार पारी, ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को सात विकेट से हराया◾जी-20 की बैठक में महामारी से निपटने में ठोस परिणाम निकलने की उम्मीद : श्रृंगला◾क्रूज ड्रग केस : 25 दिन के बाद आखिरकार आर्यन को मिली जमानत, लेकिन जेल में ही कटेगी आज की रात ◾विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी ने 2020-21 में हर दिन दान किए 27 करोड़ रु, जानिये कौन है टॉप 5 दानदाता ◾नया भूमि सीमा कानून पर चीन की सफाई- मौजूदा सीमा संधियों नहीं होंगे प्रभावित, भारत निश्चिन्त रहे ◾कांग्रेस ने खुद को ट्विटर की दुनिया तक किया सीमित, मजबूत विपक्षी गठबंधन की परवाह नहीं: टीएमसी ◾त्योहारी सीजन को देखते हुए केंद्र सरकार ने कोविड-19 रोकथाम गाइडलाइन्स को 30 नवंबर तक बढ़ाया ◾नवाब मलिक का वानखेड़े से सवाल- क्रूज ड्रग्स पार्टी के आयोजकों के खिलाफ क्यों नहीं की कोई कार्रवाई ◾बॉम्बे HC से समीर वानखेड़े को मिली बड़ी राहत, गिरफ्तारी से तीन दिन पहले पुलिस को देना होगा नोटिस◾समीर की पूर्व पत्नी के पिता का सनसनीखेज खुलासा- मुस्लिम था वानखेड़े परिवार, रखते थे 'रमजान के रोजे'◾कैप्टन के पार्टी बनाने के ऐलान ने बढ़ाई कांग्रेस की मुश्किलें, टूट के खतरे के कारण CM चन्नी ने की राहुल से मुलाकात ◾अखिलेश का भाजपा पर हमला: यूपी चुनाव में 'खदेड़ा' तो होगा ही, उप्र से कमल का सफाया भी होगा ◾दूसरे राज्यों में बढ़ रहे कोरोना के केस से योगी की बड़ी चिंता, CM ने सावधानी बरतने के दिए निर्देश ◾भारत के लिए प्राथमिकता रही है आसियान की एकता, कोरोना काल में आपसी संबंध हुए और मजबूत : PM मोदी◾वानखेड़े की पत्नी ने CM ठाकरे को चिट्ठी लिखकर लगाई गुहार, कहा-मराठी लड़की को दिलाए न्याय ◾सड़क हादसे में 3 महिला किसान की मौत पर बोले राहुल गांधी- देश की अन्नदाता को कुचला गया◾नीट 2021 रिजल्ट का रास्ता SC ने किया साफ, कहा- '16 लाख छात्रों के नतीजे को नहीं रोक सकते'◾देश में कोरोना के मामलों में उतार-चढ़ाव का दौर जारी, पिछले 24 घंटे के दौरान संक्रमण के 16156 केस की पुष्टि ◾प्रियंका का तीखा हमला- किसान विरोधी योगी सरकार की नीति और नीयत में खोट, कानों पर जूं तक नहीं रेंगता ◾

पाकिस्तान का नया ढोंग, इस्लामाबाद अदालत ने जाधव मामले में सुनवाई के लिए दो सदस्यीय पीठ गठित की

इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने भारतीय कैदी कुलभूषण जाधव के मामले में पाकिस्तान सरकार द्वारा दायर पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई के लिए बृहस्पतिवार को दो सदस्यीय पीठ का गठन किया। पाकिस्तान के मीडिया ने यह बात कही। जियो न्यूज समेत पाकिस्तान के मीडिया ने खबर प्रकाशित-प्रसारित की कि इस्लामाबाद हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश अतहर मिनल्ला और साथी जज मियांगुल हसन औरंगजेब की पीठ सोमवार को सरकार की याचिका पर सुनवाई करेगी। 

पाकिस्तान ने 22 जुलाई को एकपक्षीय कदम उठाते हुए अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) में याचिका दाखिल कर जाधव के लिए कानूनी प्रतिनिधि नियुक्त करने की मांग की थी। हालांकि पाकिस्तान के कानून और न्याय मंत्रालय द्वारा 20 मई को लागू अध्यादेश के तहत आवेदन दाखिल किये जाने से पहले भारत सरकार समेत मुख्य पक्षों से परामर्श नहीं किया गया। 

अंतरराष्ट्रीय न्याय समीक्षा और पुनर्विचार अध्यादेश 2020 के तहत किसी सैन्य अदालत के फैसले पर पुनर्विचार के लिए याचिका अध्यादेश लागू होने के 60 दिन के अंदर एक आवेदन के माध्यम से इस्लामाबाद हाई कोर्ट में दाखिल की जा सकती है। 

पाक संसद ने इसी सप्ताह अध्यादेश को मंजूरी दी थी। 

भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव (50) को अप्रैल 2017 में जासूसी और आतंकवाद के आरोपों में पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने मौत की सजा सुनाई थी। जाधव को पाकिस्तान द्वारा राजनयिक पहुंच नहीं दिये जाने के खिलाफ और उन्हें सुनाई गयी मौत की सजा को चुनौती देने के लिए भारत ने आईसीजे का रुख किया था। 

हेग स्थित आईसीजे ने जुलाई 2019 में व्यवस्था दी थी कि पाकिस्तान को जाधव की दोषिसिद्धि और उन्हें सुनाई गयी मौत की सजा पर प्रभावी तरीके से पुनर्विचार करना चाहिए। स्थानीय मीडिया की खबरों के अनुसार पाकिस्तान सरकार ने अपनी याचिका में इस्लामाबाद हाई कोर्ट से कहा है कि जाधव के लिए एक कानूनी प्रतिनिधि नियुक्त किया जाए ताकि पाकिस्तान आईसीजे के फैसले के क्रियान्वयन की अपनी जिम्मेदारी पूरी कर सके। 

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय की प्रवक्ता आइशा फारूकी ने पिछले सप्ताह कहा था कि आईसीजे के निर्णय को लागू करने के लिए आवश्यक कदम उठाये गये हैं। पाकिस्तान सरकार ने दावा किया था कि जाधव ने फैसले पर पुनर्विचार करने के लिए याचिका दाखिल करने से इनकार किया है। 

नयी दिल्ली में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने पिछले सप्ताह कहा था कि पाकिस्तान ने जाधव को सुनाई गयी मौत की सजा के खिलाफ उन्हें उपलब्ध कानूनी उपाय मुहैया नहीं कराके एक बार फिर ‘कपटपूर्ण’ रुख अपनाया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने इस मामले में भारत के पास उपलब्ध सभी रास्ते बंद कर दिये हैं। 

श्रीवास्तव ने इस बात का जिक्र किया कि नयी दिल्ली ने पिछले एक साल में जाधव से राजनयिक संपर्क कराने का 12 बार अनुरोध किया है। उन्होंने कहा, ‘‘बार-बार के अनुरोध के बावजूद मामले से जुड़े दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराने की पूरी कवायद, निर्बाध राजनयिक संपर्क मुहैया नहीं कराने देने और पाकिस्तान द्वारा कुछ कथित एकतरफा कार्रवाई करते हुए एक बार फिर से उच्च न्यायालय का रुख करना पाकिस्तान के कपटपूर्ण रवैया को बेनकाब करता है।’’ विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘पाकिस्तान न सिर्फ आईसीजे के निर्णय का, बल्कि अपने खुद के अध्यादेश का भी उल्लंघन कर रहा है। ’’ 

भारत को राफेल मिलने पर बौखलाया पाकिस्तान, कहा - इससे हथियारों की दौड़ बढ़ेगी, इसे रोकना होगा