BREAKING NEWS

भारत-सियेरा लियोन के बीच छह समझौतों पर हस्ताक्षर◾प्रदूषण को लेकर केजरीवाल सरकार के खिलाफ मनोज तिवारी ने बांटे ‘मास्क’◾अखिलेश ने कहा भाजपा कर रही है बदनाम, सरकार ने कहा 'खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे''◾फडणवीस ने ‘नटरंग’ का जिक्र करते हुए पवार पर साधा निशाना◾UP : अयोध्या फिर छावनी में तब्दील, लगाई गई धारा 144, ये है वजह !◾वंदे भारत एक्सप्रेस में आई तकनीकी खामी, एसी और पंखे के बिना करीब एक घंटे तक रहे यात्री ◾Instagram पर PM मोदी के हैं तीन करोड़ से अधिक फॉलोवर ◾फडणवीस ने ‘नटरंग’ का जिक्र करते हुए पवार पर साधा निशाना◾महाराष्ट्र के लोगों को कश्मीर की है फिक्र : रविशंकर प्रसाद ◾राजनाथ के फ्रांस दौरे पर राहुल ने कहा : भाजपा नेताओं को राफेल सौदे का हो रहा अपराधबोध ◾पाकिस्तान ने बारामूला में किया संघर्षविराम का उल्लंघन, एक जवान शहीद ◾चीन को पीछे छोड़ भारत की जनसंख्या हुई 150 करोड़ : गिरिराज ◾PM मोदी ने जम्मू-कश्मीर को बनाया भारत का अभिन्न अंग : शाह◾एशियाई संसदीय सभा की बैठक में कश्मीर मुद्दा उठाने पर थरूर ने पाकिस्तान की निंदा की ◾पश्चिम बंगाल भाजपा 15 अक्टूबर से गांधी संकल्प यात्रा निकालेगी ◾महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना सरकार की योजनाएं जनकल्याण के लिए : योगी ◾मैसेज की राजनीति की आड़ में लोकतंत्र को खत्म कर रहे हैं PM मोदी : अशोक गहलोत ◾रविशंकर प्रसाद ने फिल्म की कमाई से जोड़ने वाला बयान वापस लिया ◾TOP 20 NEWS 13 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾महाराष्ट्र : लातूर में बोले राहुल-मुख्य मुद्दों से लोगों का ध्यान भटका रही है मोदी सरकार ◾

विदेश

लंदन : ब्रिटिश अदालत ने एक व्यक्ति को मुसलमान विरोधी सन्देश पोस्ट करने पर दोषी ठहराया

लंदन : पिछले साल अगस्त में सोशल मीडिया पर एक वयक्ति ने हिंसक संदेश पोस्ट किया था जिसमे वह फर्जी मशीनगन लिये हुए अपने फोटो के साथ मुसलमानों के बारे में हिंसक संदेश दे रहा था जिसके बाद ब्रिटेन की एक अदालत ने उसे नफरत आधारित अपराध का दोषी ठहराया है। 

सन्देश पोस्ट करने वाले व्यक्ति का नाम जे डेवीसन है उसने यह पोस्ट इंस्टाग्राम पर किया था उस पर उसके 394 फोलोवर्स थे। उसने उसका स्क्रीनशॉट एक व्हाट्सग्रुप में भी डाल दिया था। उस ग्रुप का एक सदस्य इस बात पर चिंता में पड़ गया और उसने पुलिस को इसकी सूचना दे दी। 

ब्रिटेन की क्राउन प्रोस्क्यूशन सर्विस के स्पेशल क्राइम एंड काउंटर टेरेरिज्म डिवीजन की प्रमुख जेनी हॉपकिंसने कहा, ‘‘ यह लोगों के लिए चेतावनी है कि ऑनलाइन पोस्ट करने का ऑफलाइन दुष्परिणाम हो सकता है। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘ जे डिवीजन ने जो सामग्री पोस्ट की थी, वह धमकीभरा, गालियों वाला और अपमानजनक है। उसका मंसूबा बस धार्मिक एवं नस्लीय नफरत फैलाना था। 

अपने बचाव में उसका यह कहना कि उसे अपने किये पर अफसोस है और वह नशे में था, को जूरी ने खारिज कर दिया।’’ पिछले साल इस पोस्ट के कुछ दिन बाद 38 वर्षीय इस व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया। उसने कहा कि एक शाम नशे में उसने ऐसा किया और उसके विचार नस्ली कतई नहीं हैं और न ही उसकी मंशा नस्लीय नफरत फैलाना था।