BREAKING NEWS

LIVE : ताजमहल का दीदार करके बोले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प- ताज ने हमें प्रेरित और चकित किया◾जाफराबाद में CAA को लेकर पथराव, गाड़ियों में लगाई गई आग, एक पुलिसकर्मी की मौत◾मोटेरा स्टेडियम में दिखी ट्रंप और मोदी की दोस्ती, दोनों दिग्गज ने एक-दूसरे की तारीफ में पढ़ें कसीदे ◾दिल्ली के मौजपुर में लगातार दूसरे दिन CAA समर्थक एवं विरोधी समूहों के बीच झड़प ◾CM केजरीवाल और मनीष सिसोदिया ने दिल्ली विधानसभा की सदस्यता की शपथ ली◾ट्रम्प के स्वागत में अहमदाबाद तैयार, छाए भारत-अमेरिकी संबंधों वाले इश्तेहार◾दिल्ली और झारखंड में BJP विधानमंडल दल के नेता का आज होगा ऐलान ◾जाफराबाद में CAA को लेकर हुई पत्थरबाजी के बाद इलाके में तनाव, मेट्रो स्टेशन बंद◾Modi सरकार ने पद्म सम्मान के लिये ‘गुमनाम’ चेहरे खोजे : केंद्रीय मंत्री◾अब कुछ ही घंटो में भारत यात्रा के लिए अहमदाबाद पहुंचेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति Trump , मोदी को बताया दोस्त◾मेलानिया का स्वागत करके खुशी होती, हमने अमेरिकी दूतावास की चिंताओं का किया सम्मान : मनीष सिसोदिया◾Trump की भारत यात्रा से किसी महत्वपूर्ण परिणाम के सकारात्मक संकेत नहीं हैं : कांग्रेस◾US राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत के लिए रवाना, कल सुबह 11.55 बजे पहुंचेंगे अहमदाबाद, जानिए ! पूरा कार्यक्रम◾अमेरिकी दूतावास की सफाई - स्कूल में मेलानिया के साथ CM केजरीवाल की मौजूदगी से कोई आपत्ति नहीं◾ट्रंप की भारत यात्रा को लेकर PM मोदी बोले - अमेरिकी राष्ट्रपति के स्वागत को लेकर हिंदुस्तान उत्सुक◾ट्रम्प की थाली में परोसे जाएंगे गुजराती व्यंजन, सूची में खमण भी शामिल ◾नमस्ते ट्रंप : एयर इंडिया ने जारी की एडवाइजरी - यात्रियों को अहमदाबाद हवाईअड्डा जल्द पहुंचने की जरूरत◾भारत 24वां देश जिसके दौरे पर आ रहे हैं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप◾डिजिटल कंपनियों पर वैश्विक कर व्यवस्था समावेशी हो: सीतारमण ◾प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के लाभार्थियों के खाते में भेजे गए 50850 करोड़ रुपये◾

लंदन से मोदी की कर्नाटक चुनाव पर नजर, लिंगायत समुदाय को मनाने की कोशिश

नई दिल्ली: कर्नाटक विधानसभा चुनाव पर जीत हासिल करने के लिए बीजेपी और कांग्रेस ने अपनी पूरी ताकत लगा दी है। बता दें कि कांग्रेस और सीएम सिद्धारमैया ने राज्य में जीत के लिए किंगमेकर माने जाने वाले लिंगायत समुदाय  को एक अलग धर्म का दर्जा देने के लिए Masterstroke चला था तो वहीं दूसरी ओर बीजेपी भी अपने परंपरागत लिंगायत वोट को पाने के लिए की कोशिशे तेज कर दी है। आज प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी लंदन से तो बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह बंगलुरु से लिंगायत कार्ड  खेलने की रणनीति बनाई हुई है।

12 वीं सदी लिंगायत समुदाय के दार्शनिक और सबसे बड़े समाज सुधारक बासवन्ना की आज जयंती है। कर्नाटक विधानसभा चुनाव को देखते हुए बीजेपी इस मौके को अपने हाथों से जाने नहीं देना चाहती है। श्री नरेंद्र मोदी ने लंदन से ट्वीट करके कहा कि मैं भगवान बसवेशेश्वर की जयंती के मौके पर उनको नमन करता हूं। भारत के इतिहास और संस्कृति में उनका विशेष स्थान और माहत्व है। उनके द्वारा किये गये समाज सुधारक कार्य से हम हमेशा प्रेरणा लेते रहेंगे। भगवान बसवेशेश्वर जी ने हमारे समाज को एक करने का कार्य किया था और ज्ञान के प्रसार को महत्व दिया।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी काॉमनवेल्थ समिट में हिस्सा लेने के लिए लंदन पहुंचे हैं। मोदी लंदन की जमीन से ‌लिंगायत समुदाय का दिल जीतने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसा बताया जा रहा है कि लंदन के टेम्स नदी के पास लिंगायत समुदाय के समाज सुधारक की मूर्ति (भगवान बसवेशेश्वर) पर श्री नरेंद्र मोदी अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। एक रिपोर्ट के अनुसार यह कार्यक्रम द बसावेश्वर फांउडेशन  द्वारा आयोजित हो रही है।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की इस कोशिश को कर्नाटक विधानसभा चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है। दरअसल कर्नाटक में लिंगायत समुदाय का 17 प्रतिशत वोट है। यह समुदाय बीजेपी का मूल वोटबैंक माना जाता है। बता दें कि कांग्रेस कुछ दिन पहले ही इस समुदाय को अपने पाले में लाने के लिए उनकी वर्षों पुरानी अलग धर्म की मांग को मानकर बीजेपी को वैकफुट पर लाकर रख दिया था। पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह कांग्रेस द्वारा किये गये इस कोशिश की भरपाई करने के लिए काम कर रहे हैं।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह समाज सुधारक बासवन्ना की जयंती के अवसर पर कर्नाटक में हैं। वे कर्नाटक में दो दिन रहेंगे। इस दौरान शाह बंगलुरु में स्थापित बासवन्ना की मूर्ति की प्रतिमा पर अपना श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। इसके बाद शाम के समय में लिंगायत समुदाय के एक कार्यक्रम को भी संबोधित करेंगे। अमित शाह लिंगायत लेखक चिदानंद की मूर्ति पर भी श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे।

वैसे पीछले कर्नाटक चुनाव को देखते हुए ऐसा लग रहा है कि मुस्लिम समुदाय भी नतीजे पलट सकते हैं। इस चुनाव प्रचार में कांग्रेेस और भाजपा दोनों के द्वारा मुस्लिम समुदाय को दरकिनार किया गया है। बदा दे कि मुस्लिम समुदाय कर्नाटक की आबादी का 9 प्रतिशत वोटबैंक हैं। ये मुख्य रूप से कर्नाटक के तटीय क्षेत्र में रहते हैं। 2013 के कर्नाटक चुनाव में भाजपा को इस क्षेत्र में भारी हार का सामना करना पड़ा था। बीजेपी यहां के 19 सीटों में से सिर्फ 3 सीटें ही जीतने में सफल हो पाई थी जबकि कांग्रेस ने 12 सीटों पर जीत हासिल की थी।

      अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ