BREAKING NEWS

ज्ञानवापी शिवलिंग विवाद : DU प्रोफेसर की गिरफ्तारी को लेकर छात्रों का हंगामा◾NSE Co-Location Case : मुंबई-दिल्ली समेत 10 ठिकानों पर CBI का एक्शन◾नफरत की राजनीति कर रही है BJP, राहुल गांधी के बयान को AAP का समर्थन◾नवनीत राणा को BMC का नोटिस, 7 दिन में जवाब नहीं दिया तो होगी कार्रवाई◾शर्मनाक! JNU कैंपस में MCA की छात्रा से रेप, आरोपी छात्र गिरफ्तार◾उत्तराखंड : सड़क धंसने से यमुनोत्री हाईवे बंद, फंसे 3 हजार यात्री, सख्त हुए पंजीकरण के नियम ◾MP : मुस्लिम समझकर बुजुर्ग की पीट-पीटकर हत्या, Video जारी कर जीतू पटवारी ने गृहमंत्री से पूछा सवाल◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,323 नए केस, 25 मरीजों की हुई मौत ◾रूस ने मारियुपोल पर पूरी तरह से कब्जे का किया दावा, मलबे के ढेर में तब्दील हो चुका है पूरा शहर ◾यूरोप में Monkeypox का कहर, जानें क्या है ये बला, और कैसे फैलता है संक्रमण◾कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में राहुल ने BJP पर जमकर बोला हमला, कहा-भारत में आज अच्छे हालात नहीं◾दिल्ली पुलिस ने DU प्रोफेसर रतन लाल को किया गिरफ्तार, शिवलिंग पर की थी आपत्तिजनक टिप्पणी ◾पिता की पुण्यतिथि पर भावुक हुए राहुल, बोले-मुझे उनकी बहुत याद आती है◾कोविड-19 : विश्व में कोरोना के मामले 52.66 करोड़ के पार, 11 बिलियन से अधिक का हुआ टीकाकरण ◾छह दिन में दूसरी बार बढ़े CNG के दाम, जानिए राजधानी सहित कई शहरों के रेट ◾ शीना बोरा मर्डर केस में इंद्राणी मुखर्जी हुई जेल से रिहा, जानें कैसे और क्यों कराई थी अपनी ही बेटी की हत्या ?◾गुजरात में चुनाव जीतने के लिए नरेश पटेल को उतार सकती है कांग्रेस, सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद होगा एलान ◾कांग्रेस का मोदी सरकार पर तीखा वार, कहा- चीन मसले पर देश को अंधेरे में न रखे केंद्र◾Maharashtra News: राज ठाकरे का ऐलान- नहीं करेंगे 5 जून को अयोध्या का दौरा, जानें- इसके पीछे की वजह◾ RR vs CSK: MS Dhoni ने टॉस जीतकर चुनी बल्लेबाजी, यहां देखें दोनों टीमों की प्लेइंगXI◾

पाक सार्क सम्मेलन की मेजबानी के लिए तैयार, भारत डिजिटल माध्यम से हो सकता है शामिल: शाह महमूद कुरैशी

पाकिस्तान की इमरान सरकार में विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सोमवार को कहा कि उनका देश 19वें दक्षेस शिखर सम्मेलन की मेजबानी करने के लिए तैयार है और भारतीय नेतृत्व यदि इस्लामाबाद आने को इच्छुक नहीं है, तो यह पड़ोसी देश (भारत) इसमें डिजिटल माध्यम से शामिल हो सकता है। 

विदेश मंत्रालय की 2021 की उपलब्धियों को बयां करने के लिए बुलाए गये संवाददाता सम्मेलन में कुरैशी ने भारत पर शिखर बैठक के लिए इस्लामाबाद आने से इनकार कर अपनी हठधर्मिता के जरिए ‘‘क्षेत्रीय सहयोग के लिए दक्षिण एशियाई संगठन’’ (दक्षेस) को निष्क्रिय करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘‘मैं 19वें दक्षेस शिखर सम्मेलन के लिए फिर से न्योता देता हूं। यदि भारत इस्लामाबाद आने को इच्छुक नहीं है तो वह डिजिटल माध्यम से इसमें शामिल हो सकता है ...लेकिन उसे अन्य देशों को इसमें शरीक होने से नहीं रोकना चाहिए। ’’ 

दक्षेस, अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, भारत, मालदीव, नेपाल, पाकिस्तान और श्रीलंका का एक क्षेत्रीय संगठन है। यह 2016 से बहुत प्रभावी नहीं रहा है और इसकी शिखर बैठक 2014 (काठमांडू) के बाद नहीं हुई है। दक्षेस शिखर सम्मेलन पर कुरैशी का यह बयान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा पिछले महीने यह उम्मीद जताये जाने के बाद आया है कि उनका देश शिखर सम्मेलन की राह में पैदा किये गये कृत्रिम अवरोध को हटाये जाने के बाद इस बैठक की मेजबानी करेगा। 

उल्लेखनीय है कि 2016 में दक्षेस शिखर सम्मेलन मूल रूप से 15 से 19 नवंबर के बीच इस्लामाबाद में आयोजित किये जाने की योजना थी। लेकिन जम्मू कश्मीर के उरी में उस साल 18 सिंतबर को भारतीय थल सेना के एक शिविर पर आतंकी हमले के बाद भारत ने मौजूदा परिस्थितियों के चलते सम्मेलन में भाग लेने में अपनी असमर्थता जताई थी। बांग्लादेश, भूटान और अफगानिस्तान द्वारा इस्लामाबाद सम्मेलन में भाग लेने से इनकार करने के बाद इसका आयोजन रद्द कर दिया गया था। 

कुरैशी ने 2021 में भारत के साथ पाकिस्तान के संबंधों में कोई बदलाव नहीं होने का जिक्र करते हुए दोनों देशों के बीच अच्छे संबंधों की संभावना को बिगाड़ने के लिए भारत में ‘हिंदुत्ववादी सोच’ के वर्चस्व को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा, ‘‘दुर्भाग्य से, भारत के साथ 2021 में संबंधों में कोई प्रगति नहीं हुई। हमारे विचार से, हाल के वर्षों में आक्रामक हिंदुत्व व्यवहार से क्षेत्रीय सहयोग प्रभावित हुआ है।’’ 

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान, भारत सहित सभी पड़ोसी देशों के साथ शांतिपूर्ण संबंध चाहता है लेकिन संबंधों में सुधार करने की जिम्म्मेदारी भारत की है। कुरैशी ने कहा कि भारत के साथ शांति कश्मीर मुद्दे का हल किये बगैर संभव नहीं है। चीन और अमेरिका के बीच कथित शीत युद्ध के बारे में एक सवाल के जवाब में कुरैशी ने का कि पाकिस्तान की नीति स्पष्ट है और वह किसी खेमे का हिस्सा नहीं बनेगा।