BREAKING NEWS

बीजेपी शासित राज्य में पहुंची कांग्रेस की 'भारत जोड़ो यात्रा ', सोनिया गांधी ने राहुल के साथ शुरू किया पैदल मार्च ◾कोविड-19 : कोरोना संक्रमण में आई गिरावट, सामने आए 2,529 नए मामले, 12 लोगों की मौत ◾केरल : पलक्कड़ जिले में भीषण सड़क हादसा, दो बसों की टक्कर में 9 लोगों की मौत, 38 घायल◾गुजरात : भुज में विजय दशमी पर कांग्रेस ने ED-CBI का पुतला जलाकर मनाया दशहरा◾दशहरा रैली में शिंदे ने उद्धव ठाकरे को बताया 'वर्क फ्रॉम होम' वाला नेता, बीजेपी को लेकर दिया बड़ा बयान ◾पश्चिम बंगाल में मूर्ति विसर्जन के दौरान दर्दनाक हादसा, नदी में डूबने से 7 लोगों की मौत, कई लापता ◾आज का राशिफल (06 अक्टूबर 2022)◾अरुणाचल में हेलीकॉप्टर हादसे में सेना के वैमानिकी विभाग के लेफ्टिनेंट कर्नल की मौत, सह पायलट घायल◾कुल्लू दशहरा में शामिल होने वाले पहले PM बने मोदी◾विजय दशमी पर सोनिया गांधी ने मैसुरू जिले के मंदिर में पूजा की◾PM मोदी ने हिमाचल प्रदेश में फूंका चुनावी बिगुल◾उद्धव का दशहरा रैली में शिंदे पर निशाना : गद्दार का धब्बा हमेशा रहेगा◾ इंस्टाग्राम पर देवर ने भाभी के साथ तस्वीर लगाकर लिखा- 'I Miss U जान', पति ने मचा दिया बवाल ◾PAN Card यूजर्स के लिए एक जरूरी सूचना, तुरंत करे ये काम, नहीं तो देना होगा10000 रुपये का जुर्माना!◾नीतीश कुमार के पीएम बनने की राह में आया एक और रोड़ा, इस दिग्गज नेता ने प्रधानमंत्री पद पर ठोकी दावेदारी ◾Dussehra festival : दिल्ली-एनसीआर के कई इलाकों में ट्रैफिक डाइवर्जन, सुरक्षा के कड़े इंतजाम◾सचिन पायलट ने गहलोत कैंप में मारी बड़ी सेंध, अब क्या करेंगे राजस्थान सीएम?◾मुलायम सिंह यादव की हालत में हुआ सुधार, डॉक्टरों ने दी जानकारी ◾पीएम मोदी ने हिमाचल प्रदेश को दी बड़ी सौगात, 1,470 करोड़ रुपये की लागत से बने बिलासपुर AIIMS का किया उद्घाटन◾राजस्थान में होगी फिर हलचल तेज, गहलोत बनाम पायलट की लड़ाई में आएगा नया मोड़◾

UNSC में PAK ने अफगानिस्तान पर बाइडन के फैसले को बताया तार्किक, कहा- वार्ता से संघर्ष करें समाप्त

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के राजदूत मुनीर अकरम ने कहा कि अफगानिस्तान से अमेरिकी बलों की वापसी के पूर्व अमेरिकी प्रशासन के फैसले के साथ आगे बढ़ने का अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन का निर्णय ‘‘इस संघर्ष का तार्किक निष्कर्ष’’ है। अकरम ने न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में संवाददाताओं से कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को ‘‘अफगानिस्तान में दीर्घकालिक शांति, सुरक्षा एवं विकास के लिए एक समावेशी राजनीतिक समाधान सुनिश्चित’’ करने के लिए अब मिल कर काम करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के इस रुख की पुष्टि हो गई है कि ‘‘अफगानिस्तान में संघर्ष कभी सैन्य तरीके से समाप्त नहीं’’ हो सकता। अकरम ने कहा कि वार्ता के जरिए संघर्ष समाप्त करने का सबसे उचित समय संभवत: तब था, जब अफगानिस्तान में अमेरिका और नाटो बलों की अधिकतम सैन्य मौजूदगी थी।

उन्होंने कहा कि इसलिए ‘‘बलों की वापसी के पूर्व अमेरिकी प्रशासन के फैसले का बाइडन प्रशासन की ओर से समर्थन किया जाना इस संघर्ष का वास्तव में एक तार्किक निष्कर्ष है’’। अकरम ने कहा कि पश्तूनों के अलावा सभी बहुजातीय समूहों का प्रतिनिधित्व’’करने वाले समूहों एवं कई अफगान राजनीतिक दलों के नेता पाकिस्तान की राजधानी में हैं और उन्होंने सोमवार को विदेश मंत्री एवं अन्य नेताओं से बातचीत की। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान एक समावेशी राजनीतिक सरकार के लक्ष्य को हासिल करने के लिए उनके और तालिबान प्रतिनिधियों के साथ मिलकर काम करेगा।