BREAKING NEWS

केजरीवाल ने MCD में फेरी झाड़ू, CM बोले- दिल्ली को बदलने के लिए PM मोदी के आशीर्वाद की जरूरत ◾Bihar News: एक मुस्लिम और दूसरा हिन्दू बेटा, मां के अंतिम संस्कार को लेकर भाई के बीच हुआ विवाद ◾खुद को पैगम्बर बताने वाले बेटमैन की 20 नाबालिग पत्नियां, बेटी के साथ भी की शादी◾पंजाब: पॉपुलर गायक बब्बू मान से मानसा में पूछताछ हो रही, मारने की मिली थी धमकी, जानें पूरा मामला ◾MCD Election Result: क्या गुजरात-हिमाचल में भी पलटेगी बाजी? दिल्ली में Exit Polls क्यों हुए फेल◾MCD Results: दिल्ली में बड़ा चेहरा न होने से फंसी भाजपा, केजरीवाल के इलाके में किसने मारी बाजी, यहां देखे ◾Kanpur News: BJP नेता को घसीटकर MCD के दफ्तर से बाहर फेंका, जानें पूरा मामला◾राजधानी में 'मेयर' भी केजरीवाल का! जश्न में जुटी 'AAP' पार्टी ने दी BJP को चुनौती- अब बनाकर दिखाओ◾लगेगा ट्रैफिक जाम की समस्या पर लगाम, दिल्ली-गुरुग्राम सीमा पर बनेगी 6 लेन वाली टनल, जानें इसके फायदे ◾MCD ELECTION 2022 : आप ने दर्ज की जीत, भाजपा प्रवक्ता ने CM केजरीवाल के दावे को याद दिलाया ◾Delhi MCD Results: राजधानी में नही चला 'मोदी मंत्र', केजरीवाल की 'झाड़ू' ने 'कमल' को किया साफ◾केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे का विवादित बयान, कहा-‘नीतीश कुमार नपुंसकता के शिकार हो गए हैं…’◾ कांग्रेस ने 'BSP' बन किया खेल खराब, पहले से ज्यादा वोट पाकर भी AAP से क्यों पिछड़ी BJP◾MCD में भाजपा शासन का अंत, AAP ने लहराया परचम, CM केजरीवाल का रिएक्शन- अब नए युग की शुरूआत◾ दोस्तों ने युवती को उठाकर तीसरी मंज़िल से नीचे फेंका, PRANK VIDEO VIRAL◾इमरान खान की पूर्व पत्नी रेहम खान का ट्वीट- दिल गलती कर बैठा है... अब बोल तुम्‍हारा क्‍या होगा?◾क्या सत्येंद्र जैन की वजह से AAP को हुआ नुकसान? शकूर बस्ती के सभी वार्डों पर भाजपा का जलवा, दर्ज की जीत ◾15 साल पुरानी सत्ता से किया बेदखल, PM मोदी के ही दांव से AAP ने दी BJP को मात ◾PepsiCo के बाद मॉर्गन स्टेनली भी देगी कर्मचारियों को झटका, 1600 लोगों की नौकरी पर मंडराया खतरा ◾Delhi MCD: चुनाव में 10 सबसे अमीर उम्मीदवारों ने आजमाई अपनी किस्मत, यहा देखें किसका रहा पलड़ा भारी ◾

मदरसों पर अंकुश लगाने की तैयारी में पाकिस्तान

पाकिस्तान के शिक्षा मंत्री शफकत महमूद ने शुक्रवार को कहा कि पाकिस्तान मदरसों व धार्मिक स्कूलों को बंद करने और चरमपंथी शिक्षण पर अंकुश लगाने की योजना पर सहमत हो गया है। इस फैसले से लंबे समय से चली आ रही चिंताएं दूर हो सकती हैं क्योंकि पाकिस्तान में लगभग 30 हजार मदरसे धार्मिक अध्ययन के तौर पर एक कठोर पाठ्यक्रम के साथ चरमपंथी शिक्षण को बढ़ावा देते हैं, जोकि स्नातक होने के बाद छात्रों को रोजगार के लिए तैयार करने में विफल रहते हैं।

मदरसा का प्रमुख संगठन वफाक-उल-मदारिस ने इस योजना पर सहमति जताई है। योजना के तहत मदरसा एवं अन्य धार्मिक स्कूल अंग्रेजी, विज्ञान और गणित जैसे विषयों में पारंपरिक शिक्षण को मजबूत करने में मदद करेंगे। महमूद ने कहा, 'किसी भी धर्म या संप्रदाय के खिलाफ किसी भी तरह के घृणास्पद शब्दों का प्रचार नहीं किया जाएगा।" प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारी अंतर्राष्ट्रीय दबाव का सामना करते हुए पाकिस्तान क्षेत्र से सक्रिय आतंकवादी समूहों पर शिकंजा कसने के लिए इस साल की शुरुआत में मदरसों को मुख्यधारा में शामिल करने संबंधी योजना की घोषणा की थी। 

करीब दो दशक पहले पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के कार्यकाल के समय भी इसी तरह के कई प्रयास किए गए थे। पाकिस्तान जैसे रूढ़िवादी देश में मदरसों पर अंकुश लगाने के संभावित जोखिमों पर महमूद ने कहा कि सरकार मदरसों के साथ टकराव नहीं चाह रही है, जोकि अक्सर गरीब परिवारों के लिए शिक्षा उपलब्ध कराने का एकमात्र विकल्प है। उन्होंने कहा, "हम मदरसा पर कब्जा नहीं करना चाहते। बदलाव धीरे-धीरे होगा। मदरसा के पहले ग्रुप की परीक्षा अगले साल होगी।" 

मोदी शासन में अगले पांच साल में होंगे कई बदलाव : जी किशन रेड्डी