BREAKING NEWS

T20 World CUP : डेविड वॉर्नर की धमाकेदार पारी, ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को सात विकेट से हराया◾जी-20 की बैठक में महामारी से निपटने में ठोस परिणाम निकलने की उम्मीद : श्रृंगला◾क्रूज ड्रग केस : 25 दिन के बाद आखिरकार आर्यन को मिली जमानत, लेकिन जेल में ही कटेगी आज की रात ◾विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी ने 2020-21 में हर दिन दान किए 27 करोड़ रु, जानिये कौन है टॉप 5 दानदाता ◾नया भूमि सीमा कानून पर चीन की सफाई- मौजूदा सीमा संधियों नहीं होंगे प्रभावित, भारत निश्चिन्त रहे ◾कांग्रेस ने खुद को ट्विटर की दुनिया तक किया सीमित, मजबूत विपक्षी गठबंधन की परवाह नहीं: टीएमसी ◾त्योहारी सीजन को देखते हुए केंद्र सरकार ने कोविड-19 रोकथाम गाइडलाइन्स को 30 नवंबर तक बढ़ाया ◾नवाब मलिक का वानखेड़े से सवाल- क्रूज ड्रग्स पार्टी के आयोजकों के खिलाफ क्यों नहीं की कोई कार्रवाई ◾बॉम्बे HC से समीर वानखेड़े को मिली बड़ी राहत, गिरफ्तारी से तीन दिन पहले पुलिस को देना होगा नोटिस◾समीर की पूर्व पत्नी के पिता का सनसनीखेज खुलासा- मुस्लिम था वानखेड़े परिवार, रखते थे 'रमजान के रोजे'◾कैप्टन के पार्टी बनाने के ऐलान ने बढ़ाई कांग्रेस की मुश्किलें, टूट के खतरे के कारण CM चन्नी ने की राहुल से मुलाकात ◾अखिलेश का भाजपा पर हमला: यूपी चुनाव में 'खदेड़ा' तो होगा ही, उप्र से कमल का सफाया भी होगा ◾दूसरे राज्यों में बढ़ रहे कोरोना के केस से योगी की बड़ी चिंता, CM ने सावधानी बरतने के दिए निर्देश ◾भारत के लिए प्राथमिकता रही है आसियान की एकता, कोरोना काल में आपसी संबंध हुए और मजबूत : PM मोदी◾वानखेड़े की पत्नी ने CM ठाकरे को चिट्ठी लिखकर लगाई गुहार, कहा-मराठी लड़की को दिलाए न्याय ◾सड़क हादसे में 3 महिला किसान की मौत पर बोले राहुल गांधी- देश की अन्नदाता को कुचला गया◾नीट 2021 रिजल्ट का रास्ता SC ने किया साफ, कहा- '16 लाख छात्रों के नतीजे को नहीं रोक सकते'◾देश में कोरोना के मामलों में उतार-चढ़ाव का दौर जारी, पिछले 24 घंटे के दौरान संक्रमण के 16156 केस की पुष्टि ◾प्रियंका का तीखा हमला- किसान विरोधी योगी सरकार की नीति और नीयत में खोट, कानों पर जूं तक नहीं रेंगता ◾महाराष्ट्र सरकार पर उंगली उठाने वालों को दी जाती है Z+ सिक्योरिटी : संजय राउत◾

आईसीजे के आगे झुका पाकिस्तान, सजा के खिलाफ कुलभूषण जाधव कर सकेंगे अपील

पाकिस्तान की नेशनल असेंबली ने सरकार समर्थित एक विधेयक पारित किया है जो सजायाफ्ता भारतीय कैदी कुलभूषण जाधव को अपील का अधिकार देगा। मीडिया में आई एक खबर में यह जानकारी सामने आई है। 

‘डॉन’ समाचार-पत्र ने खबर दी कि नेशनल असेंबली ने अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (समीक्षा एवं पुनर्विचार) विधेयक, 2020 को बृहस्पतिवार को पारित किया जिसका लक्ष्य कथित भारतीय जासूस जाधव को अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) के फैसले के अनुरूप राजनयिक पहुंच उपलब्ध कराना है। 

भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी, 51 वर्षीय जाधव को पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जासूसी एवं आतंकवाद के आरोपों में अप्रैल 2017 को दोषी ठहराते हुए मौत की सजा सुनाई थी। भारत ने जाधव को राजनयिक पहुंच न देने और मौत की सजा को चुनौती देने के लिए पाकिस्तान के खिलाफ आईसीजे का रुख किया था। 

द हेग स्थित आईसीजे ने जुलाई 2019 में फैसला दिया कि पाकिस्तान को जाधव को दोषी ठहराने और सजा सुनाने संबंधी फैसले की ‘‘प्रभावी समीक्षा एवं पुनर्विचार” करना चाहिए और बिना किसी देरी के भारत को जाधव के लिए राजनयिक पहुंच उपलब्ध कराने देने का भी अवसर देना चाहिए। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने अपने 2019 के फैसले में पाकिस्तान को, जाधव को दी गई सजा के खिलाफ अपील करने के लिए उचित मंच उपलब्ध कराने को कहा था। 

विधेयक पारित होने के बाद, कानून मंत्री फरोग नसीम ने कहा कि अगर उन्होंने विधेयक पारित नहीं किया होता तो भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद चला जाता और आईसीजे में पाकिस्तान के खिलाफ अवमानना की कार्यवाही शुरू कर देता। नसीम ने कहा कि विधेयक आईसीजे के फैसले के मद्देनजर पारित किया गया है। उन्होंने कहा कि विधेयक पारित कर उन्होंने दुनिया को साबित कर दिया कि पाकिस्तान एक “जिम्मेदार राष्ट्र” है। 

नेशनल असेंबली ने चुनाव (सुधार) विधेयक समेत 20 अन्य विधेयक भी पारित किए। विपक्षी सदस्यों ने सदन से बहिर्गमन किया और तीन बार कोरम (कार्यवाही के दौरान उपस्थित सदस्यों की तय से कम संख्या) की कमी की ओर इशारा किया लेकिन हर बार सदन के अध्यक्ष ने सदन में पर्याप्त संख्या घोषित की और काम-काज जारी रखा जिससे विपक्ष ने जोरदार हंगामा किया। विपक्षी सदस्य अध्यक्ष के आसन के सामने आ गए और नारेबाजी की। 

सरकार के कदम की आलोचना करते हुए पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के सांसद एहसान इकबाल ने कहा कि इस कदम ने जाधव को राहत देने के लिए विधेयक को भारी विधायी एजेंडा में शामिल किया। इकबाल ने कहा कि यह व्यक्ति विशेष विधेयक था और जाधव का नाम विधेयक के उद्देश्यों और कारणों के विवरण में शामिल था। उन्होंने कहा कि जब देश का कानून उच्च न्यायालयों को सैन्य अदालतों द्वारा सुनाई गई सजा की समीक्षा का प्रावधान करता है तो इस विधेयक को लाने की क्या जरूरत थी। 

जाधव के मामले में आईसीजे के फैसले के तुरंत बाद पिछले साल मई में सरकार ने अध्यादेश लाकर कानून को पहले ही अमल में ला दिया था। पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने सदन अध्यक्ष से सदस्यों को विधेयक का अध्ययन करने के लिए कुछ वक्त देने को कहा। उन्होंने, पहले अध्यादेश के माध्यम से विधेयक लाने और फिर विधेयक पारित कर जाधव को राहत देने के लिए सरकार की आलोचना की। 

कानून मंत्री नसीम ने कहा कि वह विपक्ष का आचरण देख कर स्तब्ध रह गए और ऐसा लगता है कि विपक्ष ने आईसीजे का फैसला नहीं पढ़ा। उनके अनुसार, आईसीजे ने साफ कहा है कि पाकिस्तान जाधव को, फैसले की समीक्षा का उनका अधिकार देने के लिए एक प्रभावी कानून बनाए।