BREAKING NEWS

अनिल बैजल ने दिल्ली में अंतर-राज्यीय बस सेवा फिर से शुरू करने की दी मंजूरी, सभी सीटों पर बैठ सकेंगे यात्री◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾मध्यप्रदेश उपचुनाव : कांग्रेस को बड़ा झटका, चुनाव आयोग ने कमलनाथ का स्टार प्रचारक का दर्जा किया रद्द◾विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई के​ लिए पाक पर कोई 'दबाव नहीं' था : पाकिस्तान ◾पीएम मोदी ने सरदार पटेल प्राणी उद्यान में ‘जंगल सफारी’ का उद्घाटन किया ◾टेक्नोलॉजी में अमेरिका को टक्कर देने के लिए चीन ने बनाया प्लान, चौतरफा विरोध के बीच उठाया बड़ा कदम ◾हंदवाड़ा में चेकिंग के दौरान लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े 2 आतंकी गिरफ्तार, हथियार भी बरामद◾उत्तर प्रदेश : राजनीतिक दुश्मनी के चलते अमेठी में ग्राम प्रधान के पति को जिंदा जलाया◾फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रों के खिलाफ जाकिर नाइक ने उगला जहर, कहा-मिलेगी दर्दनाक सजा◾केवडिया : पीएम मोदी ने की न्यूट्री ट्रेन की सवारी, एकता मॉल और बच्चों के पोषक पार्क का किया उद्घाटन◾पीएम मोदी के दो दिवसीय गुजरात दौरे की हुई शुरुआत, पांच लाख पौधे वाले आरोग्य वन का किया लोकार्पण ◾बिहार : दूसरे चरण के चुनाव में आरजेडी,जेडीयू के सामने बड़ी चुनौती, सिवान में कांटे की टक्कर ◾राष्ट्रपति, पीएम सहित कांग्रेस नेताओं ने 'मिलाद-उन-नबी' के मौके पर देशवासियों को दी बधाई◾चीन द्वारा पूर्वी लद्दाख में दोबारा जमीन कब्जाने वाली रिपोर्ट को भारतीय सेना ने फर्जी करार दिया ◾प्रधानमंत्री मोदी ने जम्मू-कश्मीर में 'टीआरएफ' द्वारा भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या की निंदा की◾IPL -13 : राजस्थान रॉयल्स की जीत होगी बेहद जरूरी हार के साथ हो सकती है प्लेऑफ की दौड़ से बाहर ◾PM मोदी ने पूर्व CM केशुभाई को दी श्रद्धांजलि, महेश और नरेश कनोडिया के परिजनों से की मुलाकात◾जम्मू और कश्मीर : BJP नेताओं के घर पसरा मातम, नड्डा बोले-व्यर्थ नहीं जाएगा बलिदान◾मुंगेर घटना को संजय राउत ने बताया हिंदुत्व पर हमला, BJP की चुप्पी पर उठाया सवाल ◾LAC तनाव के बीच चीन की तैयारी, कड़ाके की ठंड से निपटने के लिए अपने सैनिकों को दिए हाई-टेक उपकरण ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

शीर्ष जनरल सुलेमानी का शव ईरान आने पर श्रद्धांजलि देने उमड़ा लोगों का हुजूम

तेहरान :  इराक की राजधानी बगदाद में अमेरिकी हवाई हमले में मारे गए शीर्ष ईरानी कमांडर कासिम सुलेमानी का शव रविवार को ईरान के शहर अहवाज पहुंचने पर लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। लोगों ने रोते-बिलखते विलाप करते हुए और अपनी छाती पीटकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। 

सड़कों पर उमड़े लोग ‘‘अमेरिका मुर्दाबाद’’ के नारे लगा रहे थे। लोगों के हुजूम से दक्षिणी पश्चिम शहर में एक नदी पर बना लंबा पुल खचाखच भर गया था। सुलेमानी का शव तड़के इराक से यहां पहुंचा। 

शियाओं के नारे गूंज रहे थे, शोकाकुल लोग सुलेमानी की तस्वीर थामे हुए थे। ईरान के लोग सुलेमानी को 1980-88 के ईरान-इराक युद्ध और रिवोल्यूशनरी गार्ड्स कुद्स फोर्स के कमांडर के तौर पर ईरान के पश्चिम एशिया अभियान की अगुवाई करने के कारण नायक के तौर पर देखेते हैं। 

शुक्रवार को बगदाद हवाईअड्डे के पास अमेरिकी ड्रोन हमले में सुलेमानी (62) की मौत हो गई थी जिससे इस्लामिक गणराज्य सदमे में है। 

यह हमला अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के निर्देश पर किया गया था, जिनका कहना था कि कुद्स कमांडर अमेरिकी राजनयिकों और इराक में अमेरिकी बलों पर हमले की साजिश रच रहा था। 

अमेरिकी हमलों को लेकर इराक की बढ़ती नाराजगी के मद्देनजर इराक में मौजूद करीब 5,200 अमेरिकी सैनिकों को देश से निकाले जाने के बारे में देश की संसद में रविवार को मतदान होने की संभावना है। 

सुलेमानी की मौत से ईरान और अमेरिका के बीच तनाव बढ़ गया है और नये पश्चिम एशिया युद्ध की आशंका पैदा हो गई है। 

ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनी ने ‘‘बदला लेने’’ का संकल्प जताया है और तीन दिन के शोक की घोषणा की है। 

हालांकि, ट्रंप ने शनिवार को चेतावनी दी थी कि अगर ईरान ने अमेरिकी कर्मियों या संपत्ति को नुकसान पहुंचाया तो अमेरिका ‘‘ईरान और ईरानी संस्कृति के लिए अहम’’ 52 जगहों को निशाना बनाएगा और उन पर ‘‘बहुत तेजी से शक्तिशाली’’ हमला करेगा। 

ट्रंप ने ट्वीट किया कि ये 52 ठिकाने उन अमेरिकी नागरिकों की संख्या का प्रतिनिधित्व करते हैं जिन्हें 1979 के आखिर में तेहरान में अमेरिकी दूतावास में एक साल से अधिक समय तक बंधक बनाया था। 

ईरान के शीर्ष राजनयिक मोहम्मद जावद जरीफ ने ट्वीट किया कि ‘‘सांस्कृतिक स्थलों को निशाना बनाना युद्ध अपराध’’ है और अंतरराष्ट्रीय कानून में प्रतिबंधित है। 

ईरान के सेना प्रमुख के लिए यह धमकी सुलेमानी की ‘‘अन्यायपूर्ण’’ हत्या से दुनिया का ध्यान भटकाने का प्रयास है। 

मेजर जनरल अब्दुलरहीम मूसावी ने कहा, ‘‘मुझे संदेह है कि उनमें भविष्य में इसे शुरू करने का साहस है।’’ 

ट्रंप ने 2018 में एकतरफा कदम उठाते हुए ईरान के साथ ऐतिहासिक परमाणु समझौते से अमेरिका को अलग कर लिया था जिसके बाद से ही अमेरिका-ईरान के बीच तनाव बढ़ गया है। इस संधि में ईरान को उसके परमाणु कार्यक्रमों पर रोक के एवज में प्रतिबंधों में छूट का प्रावधान था। 

सरकारी टेलीविजन पर प्रसारित एक लाइव कार्यक्रम में अहवाज शहर में हजारों लोग काले कपड़ों में नजर आ रहे थे। 

चैनल के फुटेज में मौलवी स्क्वायर में हरे, सफेद और लाल झंडे लिए हुए बड़ी संख्या में लोग दिख रहे हैं। 

सरकारी टेलीविजन ने बताया, ‘‘समारोह में लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा था।’’ 

अर्द्ध-सरकारी समाचार एजेंसी आईएसएनए ने बताया कि संसद के नियमित सत्र के दौरान प्रतिनिधियों ने कुछ मिनट के लिए ‘‘अमेरिका मुर्दाबाद’’ के नारे लगाए। 

समाचार एजेंसी ने स्पीकर अली लारीजानी के हवाले से कहा, ‘‘ट्रंप सुन लो, यह ईरानी राष्ट्र की आवाज है।’’