BREAKING NEWS

74वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से सातवीं बार पीएम मोदी का संबोधन, जानें बड़ी बातें◾कोरोना काल में सोशल डिस्टेंसिंग के नियम के साथ आयोजित हुआ स्वतंत्रता दिवस समारोह◾लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री का आत्मनिर्भर भारत, लोकल के लिये वोकल का संकल्प लेने का आह्वान ◾74वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पीएम मोदी ने ‘नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन’ शुरू करने की घोषणा की ◾स्वाधीनता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री ने ‘राष्ट्रीय इंफ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन परियोजना’ की घोषणा की ◾74वें स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का नया नारा - मेक इन इंडिया के साथ मेक फार वर्ल्ड ◾लाल किले की प्राचीर से बोले पीएम : संप्रभुता पर आंख उठाने वालों को देश, सेना ने उन्हीं की भाषा में जवाब दिया◾130 करोड़ देशवासियों की संकल्प शक्ति से कोरोना वायरस को हराएगा भारत: पीएम मोदी ◾स्वतंत्रता दिवस के मौके पर दिल्ली सरकार के होंगे 7 खास मेहमान◾चीन को भारत की खरी खरी कहा- सीमा पर बने हालात से तय होगा रिश्तों का भविष्य◾महाराष्ट्र में कोरोना का प्रकोप जारी, 12 हजार से अधिक नए मामले की पुस्टि, 364 लोगों की मौत ◾देश में अशांति पैदा करने वालों को माकूल जवाब देंगे : राष्ट्रपति ◾स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में केंद्र और राज्य सरकारों की तारीफ की◾कांग्रेस ने सुरजेवाला ने कहा- राजस्थान का ‘विश्वासमत’ प्रजातंत्र के लिए नई रोशनी लेकर आया है◾चीन से तनातनी के बीच बोले रक्षामंत्री - अगर दुश्मन हम पर हमला करता है तो मुंहतोड़ जवाब देंगे◾विधानसभा कार्यवाही के बाद बोले पायलट-पहले मैं सरकार का हिस्सा था, लेकिन अब नहीं◾गृहमंत्री अमित शाह ने कोरोना को दी मात, कोविड टेस्ट रिपोर्ट आई निगेटिव ◾गहलोत सरकार ने हासिल किया विश्वास मत, 21 अगस्त तक के लिए विधानसभा स्थगित◾राजस्थान विधानसभा में सरकार के बचाव में खड़े हुए सचिन पायलट, खुद को बताया सबसे मजबूत योद्धा◾कोर्ट की अवमानना मामले में वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण दोषी करार◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पश्चिम एशिया में तनाव कम करने के लिये सऊदी और ईरान की यात्रा करेंगे PM इमरान खान

पश्चिम एशिया में बढ़े तनाव को कम करने के प्रयास के तहत शनिवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के ईरान एवं सऊदी अरब की यात्रा पर जाने की संभावना है। राजनयिक सूत्रों ने यहां शुक्रवार को यह जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि खान सबसे पहले तेहरान पहुंचेंगे, जहां वह ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी से रविवार को मुलाकात करेंगे। इस बैठक के बाद प्रधानमंत्री खान रियाद के लिये उड़ान भरेंगे। वहां वह सऊदी के शीर्ष नेताओं से मुलाकात करेंगे।

उन्होंने बताया कि इस दौरान खान के साथ पाकिस्तानी सेना के वरिष्ठ प्रतिनिधि भी होंगे। इस यात्रा को लेकर पाकिस्तान ने चुप्पी साध रखी है। विदेश कार्यालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने बृहस्पतिवार को बताया कि ‘‘जब चीजें स्पष्ट हो जायेंगी’’ तब इस यात्रा के बारे में वह मीडिया को सूचित करेंगे। 

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग चेन्नई पहुंचे, एयरपोर्ट पर जोरदार स्वागत

बृहस्पतिवार को ‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ की खबर के अनुसार ईरान एवं सऊदी अरब के बीच मध्यस्थता के इरादे से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के इस महीने के आखिर में ईरान एवं सऊदी अरब की यात्रा करने की संभावना है। हालांकि यात्रा की तारीख अभी तय नहीं है। पिछले महीने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक से इतर खान ने कहा था कि पश्चिम एशिया में तनाव कम करने के लिये अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उनसे अमेरिका से मध्यस्थता का अनुरोध किया है। बाद में अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा था कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने ही उनसे संपर्क किया था और इस बारे में अंतत: कुछ भी तय नहीं हुआ है। पिछले महीने सऊदी अरब के तेल संयंत्रों पर मिसाइल हमले के बाद से ईरान और सऊदी अरब के बीच तनाव बढ़ गया है। 

सऊदी अरब और अमेरिका दोनों देशों ने ड्रोन हमले के लिये ईरान पर आरोप लगाया, जिसका ईरान ने सख्ती से विरोध किया। इस हमले की जिम्मेदारी हूती विद्रोहियों ने ली थी। पाकिस्तान एवं कुछ अन्य देश ईरान तथा सऊदी अरब के बीच मध्यस्थता की कोशिश कर रहे हैं। 

‘डॉन’ की खबर के अनुसार इस्लामाबाद पॉलिसी इंस्टीट्यूट (आईपीआई) की मेजबानी में आयोजित एक गोलमेज सम्मेलन में ‘फारस की खाड़ी में मध्यस्थता : पहल, रणनीति और बाधाएं’ विषय पर पूर्व विदेश सचिव एजाज चौधरी ने कहा कि ऐसी भूमिका के लिये पाकिस्तान की साख मजबूत है, लेकिन उसी वक्त गहरे अविश्वास, ईरान के बढ़ते प्रभाव को लेकर सऊदी की आशंकाएं तथा क्षेत्रीय शक्ति प्रदर्शन सहित कई चुनौतियां भी हैं। 

अरब मामलों के विश्लेषक अली मेहर मध्यस्थता की इस पहल को लेकर काफी आशान्वित हैं और कहा कि खान दोनों देशों के बीच मध्यस्थ की भूमिका बेहतर तरीके से निभा सकते हैं। उन्होंने अमेरिकी भूमिका तथा सऊदी अरब पर उसके प्रभाव को लेकर चेतावनी दी और कहा कि इस पहल में वह (अमेरिका) महत्वपूर्ण होने से रोक सकता है।