BREAKING NEWS

उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के बाद विधानसभा के बाहर धरने पर बैठे अखिलेश यादव, कहा- वो जिंदा रहना चाहती थी◾उन्नाव पीड़िता की मौत पर बोली स्वाति मालीवाल- सरकार बलात्कार पीड़िताओं के प्रति असंवेदनशील ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत पर बोली प्रियंका गांधी- यह हम सबकी नाकामयाबी है हम उसे न्याय नहीं दिला पाए◾उन्नाव रेप केस: बुजुर्ग पिता की गुहार, बेटी के गुनहगारों को मिले मौत की सजा◾उन्नाव रेप पीड़िता की दर्दनाक मौत अति-कष्टदायक : मायावती◾सीएम बनने के बाद PM मोदी से पहली बार मिले उद्धव ठाकरे, सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए मुम्बई रवाना हुए मोदी ◾झारखंड विधानसभा चुनाव : सिल्ली में जीत का 'चौका' लगा पाएंगे सुदेश महतो?◾झारखंड: विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए 20 सीटों पर मतदान जारी, PM मोदी ने की लोगों से वोट डालने की अपील ◾जिंदगी की जंग हार गई उन्नाव रेप पीड़िता, सफदरजंग अस्पताल में हुई मौत◾महिलायें अपने हाथ में लें देश की बागडोर : प्रियंका गांधी वाड्रा◾हैदराबाद मुठभेड़ मामले में पुलिस ने आत्मरक्षा में गोली चलाई : येदियुरप्पा◾प्रियंका गांधी वाड्रा ने ताबड़तोड़ बैठकें कर जनमुद्दों पर सरकार को जगाने की रणनीति पर चर्चा की ◾TOP 20 NEWS 6 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भाजपा महाराष्ट्र में सरकार नहीं बना पाई, झारखंड में भी हारेगी : पी. चिदंबरम ◾हैदराबाद गैंगरेप : एनकाउंटर पर बोले पुलिस कमिश्नर-आरोपियों ने पिस्टल छीनकर की थी फायरिंग, 2 पुलिसकर्मी भी हुए घायल◾झारखंड में बोले चिदंबरम- नाकाबिल लोगों के हाथ में होने से भारी संकट में है भारत की अर्थव्यवस्था◾राष्ट्रपति को भेजी गई निर्भया गैंगरेप के दोषी की दया याचिका, गृह मंत्रालय ने की खारिज करने की मांग◾अधीर रंजन के बयान पर स्मृति का पलटवार, लोकसभा में बोलीं-रेप को राजनीतिक हथियार बनने वाले दे रहे भाषण ◾हैदराबाद गैंगरेप: आरोपियों के एनकाउंटर पर नेताओं ने दी यह प्रतिक्रिया, जाने किसने क्या कहा◾पड़ोसी देशों में उत्पीड़न के शिकार लोगों को भारतीय नागरिकता देने से बेहतर कल सुनिश्चित होगा : PM मोदी ◾

विदेश

तीन दिन की यात्रा पर बैंकॉक पहुंचे PM मोदी, RCEP समझौते पर रहेगा जोर

 5

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शनिवार को 3 दिन की यात्रा पर बैंकॉक पहुंचे। उनकी यह यात्रा ऐसे समय हो रही है, जब एशिया प्रशांत क्षेत्र के 16 देशों के बीच एक वृहद व्यापार समझौते को लेकर बातचीत चल रही है और भारत को इस समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिये मनाने के वास्ते नये सिरे से राजनयिक प्रयास तेज हुये हैं।

एशिया प्रशांत क्षेत्र के 16 देशों का यह व्यापार समझौता यदि होता है तो यह दुनिया में सबसे बड़ा मुक्त व्यापार क्षेत्र होगा। प्रधानमंत्री मोदी यहां 16वें आसियान- भारत शिखर सम्मेलन, 14वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन और क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) की तीसरी शिखर बैठक में भाग लेंगे। आरसीईपी की बैठक में ही क्षेत्र के इस सबसे बड़े व्यापार समझौते पर बातचीत हो रही है।


आसियान और पूर्वी एशिया के सालाना स्तर पर होने वाले शिखर सम्मेलन क्षेत्र के समक्ष उभरने वाले भू- रणनीतिक और आर्थिक मुद्दों को लेकर साझा रणनीति तय करने के मंच हैं। लेकिन इस बार सबसे ज्यादा जोर लंबे समय से चल रहे आरसीईपी व्यापार समझौते पर ही होगा।

विभिन्न राजनयिक स्रोतों ने पीटीआई- भाषा से इस बात की पुष्टि की है कि भारत को छोड़कर आरसीईपी समूह के सभी 15 देश क्षेत्र के इस व्यापार समझौते को अंतिम रूप देने को लेकर सहमत हैं। समूह के देशों के बीच सोमवार को शिखर बैठक होगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी इस यात्रा की शुरुआत से पहले नयी दिल्ली में एक वक्तव्य जारी कर कहा, ‘‘आरसीईपी शिखर बैठक में हम समूह की अब तक की बातचीत में हुई प्रगति पर गौर करेंगे। इस बैठक में हम सभी मुद्दों पर गौर करेंगे। शिखर सम्मेलन के दौरान हम देखेंगे की क्या माल एवं सेवाओं के व्यापार और निवेश के मामले में भारत के हितों को पूरी तरह से समायोजित किया गया है।’’

भारत-आसियान शिखर सम्मेलन के बारे में मोदी ने कहा कि बैठक में बढ़ती आर्थिक भागीदारी और समुद्री क्षेत्र में बढ़ते सहयोग पर हमारा जोर रहेगा। इसके साथ ही आसियान की अगुवाई में प्रणालियों को विस्तृत करने पर भी जोर रहेगा। 

दस देशों के समूह आसियान का यह वार्षिक सम्मेलन ऐसे समय में हो रहा है जब चीन ने दक्षिण चीन सागर के विवादित क्षेत्र तथा हिंद-प्रशांत महासागर क्षेत्र में आक्रामक रुख अपनाया हुआ है। इस दौरान आसियान समूह का भारत के अलावा अमेरिका, जापान, रूस और चीन के साथ अलग-अलग शिखर सम्मेलन होगा।

आसियान के सदस्यों में इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड, ब्रुनेई, वियतनाम, लाओस, म्यामां और कंबोडिया शामिल हैं।

पूर्वी एशिया सम्मेलन में आसियान देशों के अलावा भारत, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, अमेरिका और रूस हिस्सा लेंगे। आसियान सम्मेलन में व्यापार व निवेश संबंधी मुद्दों पर जोर रहने का अनुमान है जबकि पूर्वी एशिया सम्मेलन में समुद्री सुरक्षा, आतंकवाद, परमाणु अप्रसार तथा पलायन से संबंधित मुद्दों पर जोर दिया जाएगा।