BREAKING NEWS

दिल्ली में कोविड-19 के 1163 नए मामले की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 18 हजार को पार◾देशभर में 30 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, 8 जून से रेस्टोरेंट, मॉल और धार्मिक स्थल खोलने की मिली अनुमति ◾लॉकडाउन, अनुच्छेद 370 खत्म करना, राम मंदिर ट्रस्ट बड़ी उपलब्धियों में शामिल : गृह मंत्रालय ◾हिन्दुस्तान में बहुत सारे लोग कष्ट में हैं और भाजपा सरकार जश्न मना रही है : प्रियंका गांधी वाड्रा ◾लद्दाख सीमा तनाव पर रक्षामंत्री बोले- चीन से डिप्लोमैटिक और मिलिट्री लेवल पर चल रही है बातचीत ◾लॉकडाउन 5.0 लागू करने पर पीएमओ में महामंथन, गृहमंत्री अमित शाह ने की पीएम मोदी से मुलाकात◾कोरोना के बढ़ते केसों से घबराएं नहीं, महामारी से चार कदम आगे है आपकी सरकार : CM केजरीवाल◾मोदी सरकार 2.0 की पहली वर्षगांठ पर कांग्रेस ने कसा तंज, ‘बेबस लोग, बेरहम सरकार’ का दिया नारा ◾मोदी जी की इच्छा शक्ति की वजह से सरकार ने साहसिक लड़ाई लड़ी एवं समय पर निर्णय लिये : नड्डा ◾कोविड-19 पर पीएम मोदी का आह्वान - 'लड़ाई लंबी है लेकिन हम विजय पथ पर चल पड़े हैं'◾दिल्ली में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को लेकर कांग्रेस, भाजपा के निशाने पर केजरीवाल सरकार◾राम मंदिर , सीएए, तीन तलाक, धारा 370 जैसे मुद्दों का हल दूसरे कार्यकाल की प्रमुख उपलब्धियां : PM मोदी ◾बीस लाख करोड़ रूपये का आर्थिक पैकेज ‘आत्मनिर्भर भारत’ की दिशा में बड़ा कदम : PM मोदी◾Coronavirus : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का खौफ जारी, संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब ◾कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए◾कोविड-19 : देश में अब तक 5000 के करीब लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 73 हजार के पार ◾मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूरे होने पर अमित शाह, नड्डा सहित कई नेताओं ने दी बधाई◾PM मोदी का देश की जनता के नाम पत्र, कहा- कोई संकट भारत का भविष्य निर्धारित नहीं कर सकता ◾लद्दाख के उपराज्यपाल आर के माथुर ने गृहमंत्री से की मुलाकात, कोरोना के हालात की स्थिति से कराया अवगत◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 116 लोगों की मौत, 2,682 नए मामले ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सैटेलाइट इमेज से हुआ खुलासा : रोहिंग्या मुसलमानों के गांवों पर चलाए जा रहे हैं बुलडोजर

म्यांमार में जिस तरह से रोहिंग्या मुसलमानों को बेघर किया गया उसके बाद दुनियाभर में इस मुद्दे को लेकर चर्चा थी, जिसके बाद आखिरकार बांग्लादेश ने इन लोगों को बसाने की बात कही थी। लेकिन एक बार फिर से म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों को पूरी तरह से देश से खत्म करने की रिपोर्ट सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक म्यांमार के रखाइन स्टेट में मौजूद रोहिंग्या मुसलमानों के दर्जनों गांवों को बुलडोजर चलाकर खत्म किया जा रहा है, इनके घरो को तोड़ा जा रहा है।

वहीं म्यांमार की सरकार कुछ भी गलत किए जाने की बात को लगातार खारिज कर रही है। सरकार का कहना है कि रखाइन स्टेट में आतंकवादी समूहों को जवाब देने के लिए ऑपरेशन किया जा रहा है।

द इंडिपेंडेंट के मुताबिक एक महिला ने बताया कि जब वह बांग्लादेश से अपने घर मायिन ह्लट वापस लौटी थी तब उसे वहां की हालत देखकर काफी हैरानी हुई थी। उसने बताया कि बहुत से घरों को पिछले साल जला दिया गया और सब कुछ खत्म कर दिया गया। यहां तक कि वहां पेड़ों को भी नष्ट कर दिया गया। महिला ने एपी को बताया, ‘उन्होंने बुलडोजर से सब कुछ नष्ट कर दिया। मैंने बड़ी मुश्किल से अपना घर पहचाना। सभी घर अब खत्म हो चुके हैं। सारी यादें भी जा चुकी हैं। उन्होंने सब कुछ खत्म कर दिया।

वहीँ म्यांमार सरकार ने क्रूरता को छिपने के लिए दावा किया है कि वह सिर्फ तबाह हुए क्षेत्र के पुनर्निर्माण की कोशिश कर रहा है। इस अभियान पर मानव अधिकारों ने गहरी चिंता ज़ाहिर की है। उनका कहना है कि सरकार किसी भी विश्वसनीय जांच के पहले होने वाले अपराध दृश्यों को नष्ट कर रही है। इस ऑपरेशन से रोहिंग्या मुसलमानों के दिलों में डर बना हुआ है। जो मानते हैं कि सरकार जानबूझकर ऐसा काम कर रही है ताकि वह कभी वापिस ना जा सकें।

एएफपी के मुताबिक, एक विस्थापित रोहिंग्या महिला ज़ुबैरा, जिसका गांव नष्ट होने वाले गांवों में था। उन्होंने कहा कि उन्होंने हाल ही में मयिन हलत में अपने पूर्व घर का दौरा किया और उसने जो देखा वह उसे देखकर हैरान रह गयी। ज्यादातर घरों को पिछले साल नष्ट कर दिया गया था। लेकिन अब, “सब कुछ खत्म हो चुका है, यहाँ तक कि, पेड़ों को भी नहीं छोड़ा गया।

18 वर्षीय लड़की ने कहा कि यहाँ वह घर भी थे जो नष्ट नहीं किए थे अब उन्हें भी गिरा दिया गया है. हमारे घरों की सभी यादें अब मिट चुकी है हमारे पास अब खोने को कुछ नहीं बचा है।

आपको बता दे कि पिछले साल रखाइन हिंसा में भड़की थी  संयुक्त राष्ट्र ने कहा था कि रखाइन में हिंसा भड़कने के बाद 15 दिनों में लगभग तीन लाख रोहिंग्या मुसलमान पलायन कर बांग्लादेश पहुंचे थे। आंकड़े के अनुसार लगभग एक दिन में 20 हजार रोहिंग्याओं ने पलायन किया था। संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी के प्रवक्ता जोसेफ त्रिपुरा ने कहा था कि पिछले साल 25 अगस्त के बाद से लगभग दो लाख 90 हजार रोहिंग्या बांग्लादेश पहुंचे। म्यांमार में जो हिंसा भड़की थी, उसमें कई हजार घर को जला दिया गया था। महिलाओं के साथ अभद्र व्यवहार किया गया था और उनका शोषण किया गया था। जिंदा लोगों को जला दिया जाता था। लोग अपनी जान बचाने के लिए यहां से भागकर दूसरे देश में शरण ले रहे थे।

 24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।