BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री मोदी के आगमन से पहले छावनी में तब्दील हुआ प्रयागराज, जानिये 'विश्व रिकार्ड' बनाने का पूरा कार्यक्रम ◾ ताहिर हुसैन के कारखाने में पहुंची दिल्ली फोरेंसिक टीम, जुटाए हिंसा से जुड़े सबूत◾जानिये कौन है IB अफसर की हत्या के आरोपी ताहिर हुसैन, 20 साल पहले अमरोहा से मजदूरी करने आया था दिल्ली ◾एसएन श्रीवास्तव नियुक्त किये गए दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर, कल संभालेंगे पदभार ◾दिल्ली हिंसा : मरने वालों का आंकड़ा हुआ 39, कमिश्नर एस. एन. श्रीवास्तव ने किया हिंसाग्रस्त इलाकों का दौरा ◾जुमे की नमाज़ के बाद जामिया में मार्च , दिल्ली पुलिस के लिए चुनौती भरा दिन◾CAA को लेकर आज भुवनेश्वर में अमित शाह करेंगे जनसभा को सम्बोधित ◾CAA हिंसा : उत्तर-पूर्वी दिल्ली में अब हालात सामान्य, जुम्मे के मद्देनजर सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम कायम◾CAA को लेकर BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले - कांग्रेस जो नहीं कर सकी, PM मोदी ने कर दिखाया◾Coronavirus : चीन में 44 और लोगों के मौत की पुष्टि, दक्षिण कोरिया में 2,000 से अधिक लोग पाए गए संक्रमित ◾भारत ने तुर्की को उसके आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने से बचने की सलाह दी◾राष्ट्रपति कोविंद 28 फरवरी से 2 मार्च तक झारखंड और छत्तीसगढ़ के दौरे पर रहेंगे◾संजय राउत ने BJP पर साधा निशाना , कहा - दिल्ली हिंसा में जल रही थी तो केंद्र सरकार क्या कर रही थी ?◾PM मोदी 29 फरवरी को बुंदेलखंड एक्स्प्रेस-वे की रखेंगे नींव◾दिल्ली हिंसा : SIT ने शुरू की जांच, मीडिया और चश्मदीदों से मांगे 7 दिन में सबूत◾PM मोदी प्रयागराज में 26,526 दिव्यांगों, बुजुर्गों को बांटेंगे उपकरण◾ओडिशा : 28 फरवरी को अमित शाह करेंगे CAA के समर्थन में रैली को संबोधित◾SP आजम खान के बेटे अब्दुल्ला की विधानसभा सदस्यता खत्म◾AAP पार्टी ने पार्षद ताहिर हुसैन को किया सस्पेंड, दिल्ली हिंसा में मृतक संख्या 38 पहुंची◾दिल्ली हिंसा : अंकित शर्मा की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में कई सनसनीखेज खुलासे, चाकू मारकर की गई थी हत्या◾

सैटेलाइट इमेज से हुआ खुलासा : रोहिंग्या मुसलमानों के गांवों पर चलाए जा रहे हैं बुलडोजर

म्यांमार में जिस तरह से रोहिंग्या मुसलमानों को बेघर किया गया उसके बाद दुनियाभर में इस मुद्दे को लेकर चर्चा थी, जिसके बाद आखिरकार बांग्लादेश ने इन लोगों को बसाने की बात कही थी। लेकिन एक बार फिर से म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों को पूरी तरह से देश से खत्म करने की रिपोर्ट सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक म्यांमार के रखाइन स्टेट में मौजूद रोहिंग्या मुसलमानों के दर्जनों गांवों को बुलडोजर चलाकर खत्म किया जा रहा है, इनके घरो को तोड़ा जा रहा है।

वहीं म्यांमार की सरकार कुछ भी गलत किए जाने की बात को लगातार खारिज कर रही है। सरकार का कहना है कि रखाइन स्टेट में आतंकवादी समूहों को जवाब देने के लिए ऑपरेशन किया जा रहा है।

द इंडिपेंडेंट के मुताबिक एक महिला ने बताया कि जब वह बांग्लादेश से अपने घर मायिन ह्लट वापस लौटी थी तब उसे वहां की हालत देखकर काफी हैरानी हुई थी। उसने बताया कि बहुत से घरों को पिछले साल जला दिया गया और सब कुछ खत्म कर दिया गया। यहां तक कि वहां पेड़ों को भी नष्ट कर दिया गया। महिला ने एपी को बताया, ‘उन्होंने बुलडोजर से सब कुछ नष्ट कर दिया। मैंने बड़ी मुश्किल से अपना घर पहचाना। सभी घर अब खत्म हो चुके हैं। सारी यादें भी जा चुकी हैं। उन्होंने सब कुछ खत्म कर दिया।

वहीँ म्यांमार सरकार ने क्रूरता को छिपने के लिए दावा किया है कि वह सिर्फ तबाह हुए क्षेत्र के पुनर्निर्माण की कोशिश कर रहा है। इस अभियान पर मानव अधिकारों ने गहरी चिंता ज़ाहिर की है। उनका कहना है कि सरकार किसी भी विश्वसनीय जांच के पहले होने वाले अपराध दृश्यों को नष्ट कर रही है। इस ऑपरेशन से रोहिंग्या मुसलमानों के दिलों में डर बना हुआ है। जो मानते हैं कि सरकार जानबूझकर ऐसा काम कर रही है ताकि वह कभी वापिस ना जा सकें।

एएफपी के मुताबिक, एक विस्थापित रोहिंग्या महिला ज़ुबैरा, जिसका गांव नष्ट होने वाले गांवों में था। उन्होंने कहा कि उन्होंने हाल ही में मयिन हलत में अपने पूर्व घर का दौरा किया और उसने जो देखा वह उसे देखकर हैरान रह गयी। ज्यादातर घरों को पिछले साल नष्ट कर दिया गया था। लेकिन अब, “सब कुछ खत्म हो चुका है, यहाँ तक कि, पेड़ों को भी नहीं छोड़ा गया।

18 वर्षीय लड़की ने कहा कि यहाँ वह घर भी थे जो नष्ट नहीं किए थे अब उन्हें भी गिरा दिया गया है. हमारे घरों की सभी यादें अब मिट चुकी है हमारे पास अब खोने को कुछ नहीं बचा है।

आपको बता दे कि पिछले साल रखाइन हिंसा में भड़की थी  संयुक्त राष्ट्र ने कहा था कि रखाइन में हिंसा भड़कने के बाद 15 दिनों में लगभग तीन लाख रोहिंग्या मुसलमान पलायन कर बांग्लादेश पहुंचे थे। आंकड़े के अनुसार लगभग एक दिन में 20 हजार रोहिंग्याओं ने पलायन किया था। संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी के प्रवक्ता जोसेफ त्रिपुरा ने कहा था कि पिछले साल 25 अगस्त के बाद से लगभग दो लाख 90 हजार रोहिंग्या बांग्लादेश पहुंचे। म्यांमार में जो हिंसा भड़की थी, उसमें कई हजार घर को जला दिया गया था। महिलाओं के साथ अभद्र व्यवहार किया गया था और उनका शोषण किया गया था। जिंदा लोगों को जला दिया जाता था। लोग अपनी जान बचाने के लिए यहां से भागकर दूसरे देश में शरण ले रहे थे।

 24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।