BREAKING NEWS

TIME मैगजीन ने यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की को चुना 'पर्सन ऑफ द ईयर◾Rajasthan News: भाजपा ने मंत्री की कथित वीडियो क्लिप को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, जानें पूरा मामला ◾ गुजरात रिजल्ट तय करेगा गहलोत-हार्दिक समेत इन 3 नेताओं का भविष्य◾HP Election Result: नतीजों से पहले ही कांग्रेस का एक्शन, चौपाल प्रखंड के 30 नेताओं को किया निष्कासित ◾आरबीआई के गवर्नर ने कहा- जी20 फाइनेंस ट्रैक का हिस्सा RBI ◾Bogtui massacre: मारे गए तृणमूल नेता वाडू शेख के भाई को सीबीआई ने किया अरेस्ट ◾दिल्ली के मुस्लिम अरविंद केजरीवाल से है खफा, आज पता चल गया◾सीएम ममता ने कहा- केन्द्र सरकार जबरन विधेयक पारित करा रहा... संसदीय लोकतंत्र के भविष्य को लेकर डर◾CM हिमंत ने कहा : अगर विधानसभा चुनाव नहीं होते तो MCD...पर ज्यादा ध्यान दे पाती भाजपा◾कोरोना महामारी को लेकर चीन सरकार का बड़ा ऐलान- कोविड 19 से जुड़ी पाबंदियों में दी ढील◾त्रिपुरा में BSF-BGB की बैठक शुरू, बॉर्डर पार अपराध से निपटने पर होगी चर्चा◾CM ममता का आरोप, बोलीं- केन्द्र जबरन विधेयक करा रहा है पारित◾मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा: भाजपा को अपनी जीत पर भरोसा, चुनावी टिकट के लिए प्रतिस्पर्धा स्वाभाविक◾हरजिंदर सिंह धामी ने कहा- वीर बाल दिवस के बजाय साहिबजादे शहादत दिवस मनाए भारत सरकार◾Coimbatore Blast Case: तमिलनाडु में मंदिर के बाहर कार बम विस्फोट मामले में 3 गिरफ्तार, जांच जारी ◾Draupadi Murmu: द्रोपदी मुर्मू ने कहा- नागरिकों के कल्याण पर विशेष ध्यान दें अधिकारी◾Border dispute: फडणवीस ने महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा विवाद पर गृह मंत्री अमित शाह को दी जानकारी◾लव जिहाद फिर बना चर्चा का केंद्र; कांग्रेस ने बताया फर्जी, नरोत्तम मिश्रा ने किया पलटवार ◾RBI ने कहा- भारतीय संस्थाएं आईएफएससी में सोने की कीमत के जोखिम को कम कर सकती ◾MCD नतीजों को लेकर बोले केजरीवाल- दिल्ली का फैसला देश के लिए सकारात्मक राजनीति करने का संदेश◾

श्रीलंका के कैबिनेट मंत्रियों ने तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दिया

अब तक के सबसे बड़े आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका के कैबिनेट मंत्रियों ने रविवार देर रात तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया। देश के शिक्षा मंत्री एवं सदन के नेता दिनेश गुणवर्धने ने संवाददाताओं से कहा कि कैबिनेट मंत्रियों ने श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे को अपना इस्तीफा सौंप दिया। उन्होंने सामूहिक इस्तीफे का कोई कारण नहीं बताया। बहरहाल, राजनीतिक विशेषज्ञों ने कहा कि विदेशी मुद्रा भंडार में कमी के कारण पैदा हुए आर्थिक संकट से सरकार द्वारा कथित रूप से ‘‘गलत तरीके से निपटे जाने’’ को लेकर मंत्रियों पर जनता का भारी दबाव था। कर्फ्यू के बावजूद शाम को व्यापक स्तर पर प्रदर्शन हुए। प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं।

गौरतलब है कि राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने शुक्रवार देर रात एक विशेष गजट अधिसूचना जारी कर श्रीलंका में एक अप्रैल से तत्काल प्रभाव से आपातकाल लागू करने की घोषणा की थी। सरकार ने शनिवार शाम छह बजे से सोमवार (चार अप्रैल) सुबह छह बजे तक 36 घंटे का कर्फ्यू भी लगा दिया।

सोशल मीडीया पर सरकार ने लगाया प्रतिबंध 

इस बीच, श्रीलंका सरकार ने व्हाट्सऐप, ट्विटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया मंचों पर लगाया गया प्रतिबंध रविवार को हटा दिया। देश में सरकार विरोधी प्रदर्शन से पहले देशव्यापी सार्वजनिक आपातकाल घोषित करने और 36 घंटे के कर्फ्यू के साथ ही सोशल मीडिया पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। प्रतिबंध हटाए जाने के बारे में एक अधिकारी ने कहा कि फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब, इंस्टाग्राम, टॉकटॉक, स्नैपचैट, व्हाट्सऐप, वाइबर, टेलीग्राम और फेसबुक मैसेंजर की सेवाएं 15 घंटे के बाद बहाल कर दी गईं। इन सेवाओं को पूरी तरह या आंशिक रूप से अवरुद्ध कर दिया गया था।

देर रात किया गया सोशल मीडीया पर प्रतिबंध का फैसला 

इससे पहले ‘कोलंबो पेज’ अखबार की खबर में कहा गया था कि इस कदम का उद्देश्य घंटों तक बिजली कटौती के बीच भोजन, आवश्यक वस्तुओं, ईंधन और दवाओं की कमी से जूझ रहे लोगों को राहत पहुंचाने में सरकार की नाकामी के विरोध में कोलंबो में लोगों को एकत्रित होने से रोकना था। साइबर सुरक्षा और इंटरनेट पर नजर रखने वाले निगरानी संगठन ‘नेटब्लॉक्स’ ने श्रीलंका में मध्यरात्रि के बाद रविवार को फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सऐप, वाइबर और यू्ट्यूब समेत कई सोशल मीडिया मंचों पर पाबंदी लगाए जाने की पुष्टि की। खबर में कहा गया था कि श्रीलंका के प्रमुख नेटवर्क ऑपरेटर डायलॉग, श्रीलंका टेलीकॉम, मोबीटेल, हच इस पाबंदी के दायरे में हैं। जिन सोशल मीडिया और मैसेजिंग मंचों पर पूरी तरह या आंशिक रूप से इसका असर पड़ा है, उनमें फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब, इंस्टाग्राम, टॉकटॉक, स्नैपचैट, व्हाट्सऐप, वाइबर, टेलीग्राम और फेसबुक मैसेंजर शामिल हैं।

नेताओं के साथ ही युवाओं ने लगाए गोटा घर जाओ के नारें

इस बीच, देश में लोगों ने आर्थिक संकट से निपटने में सरकार की नाकामी के खिलाफ रविवार को प्रदर्शन किया। दरअसल, लोगों को घंटों तक बिजली कटौती और आवश्यक वस्तुओं की कमी का सामना करना पड़ रहा है।

विपक्षी सांसद हर्षा डी सिल्वा ने कहा, ‘‘हम श्रीलंका में लोकतंत्र की रक्षा करेंगे।’’ विपक्षी सांसदों ने कोलंबो के इंडिपेंडेंस स्क्वायर की ओर मार्च करते हुए नारे लगाए और तख्तियां दिखाईं, जिन पर लिखा था : ‘‘दमन बंद करो’’ और ‘‘गोटा घर जाओ’’।

विरोध करने पर पुलिस ने  664  श्रीलंका के नागरिकों को लिया हिरासत में 

पुलिस अधिकारियों ने स्क्वायर तक जाने वाले रास्तों पर अवरोधक लगा दिए। यह स्क्वायर 1948 में श्रीलंका की आजादी की याद में बनाया गया था। ‘कोलंबो पेज’ अखबार की खबर के अनुसार, श्रीलंकाई पुलिस ने कर्फ्यू का उल्लंघन करने पर देश के पश्चिमी प्रांत में 664 लोगों को गिरफ्तार किया। ये गिरफ्तारियां शनिवार रात 10 बजे से रविवार सुबह छह बजे के बीच चले अभियान के दौरान की गईं। उन्होंने बताया कि कर्फ्यू का उल्लंघन कर रहे लोगों को पकड़ने के लिए देशभर में और अभियान चलाए जा रहे हैं।

श्रीलंका के एक व्यक्ति ने शनिवार को आरोप लगाया कि सोशल मीडिया पर सक्रिय उसके बेटे का पुलिस ने अपहरण कर लिया। अनुरुद्ध बंडारा के पिता ने कहा कि मोडेरा के उत्तरी कोलंबो पुलिस थाने से कोई व्यक्ति शुक्रवार रात उनके बेटे को ले गया। पुलिस ने बताया कि उसकी सोशल मीडिया गतिविधियों को लेकर उससे पूछताछ करने की आवश्यकता थी। रविवार को उसे जमानत पर रिहा कर दिया गया।

उल्लेखनीय है कि श्रीलंका अपने इतिहास के सबसे बुरे आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। पिछले कई सप्ताह से देश की जनता को ईंधन और रसोई गैस के लिए लंबी कतारों में खड़े होने के साथ-साथ अन्य आवश्यक वस्तुओं की कमी का सामना करना पड़ रहा है। राजपक्षे ने अपनी सरकार के कदमों का बचाव करते हुए कहा है कि विदेशी मुद्रा का संकट उनके द्वारा नहीं पैदा किया गया है और आर्थिक मंदी काफी हद तक महामारी के कारण आई है।