BREAKING NEWS

डॉक्टरों के साथ दुर्व्यवहार करने वालों के खिलाफ की जाएगी सख्त कार्रवाई : CM केजरीवाल◾शिया वक्फ बोर्ड ने तबलीगी जमात पर लगाया गंभीर आरोप, कहा- 1 लाख से ज्यादा लोग मारने की बनाई थी योजना◾कोरोना वायरस : स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- देश में आवश्यक उपकरणों का स्टॉक मौजूद, PPE और वेंटिलेटर की खरीद शुरु◾देश में कोरोना फैलने के लिए अनिल देशमुख ने दिल्ली पुलिस को ठहराया जिम्मेदार◾कोरोना संकट से जारी जंग में मदद के तौर पर केंद्र सरकार ने राज्यों के लिए आपात पैकेज की दी मंजूरी◾महाराष्ट्र कैबिनेट ने उद्धव ठाकरे को MLC बनाने का लिया निर्णय, राज्यपाल को भेजेंगे प्रस्ताव ◾कोरोना संकट : ओडिशा सरकार ने 30 अप्रैल तक बढ़ाई लॉकडाउन की अवधि, केंद्र से किया ये अनुरोध◾गुजरात में कोरोना के 55 नए मरीज, अकेले अहमदाबाद के 50 लोग हुए संक्रमित◾PM मोदी ने किया ट्रम्प का समर्थन, कहा- मुश्किल वक्त ही दोस्तों को लाती है करीब◾जमात प्रमुख मौलाना साद के ठिकाने का हुआ खुलासा, पुलिस फिलहाल नहीं करेगी पूछताछ ◾झारखंड में कोरोना वायरस से 1 की मौत, मरीजों की संख्या एक दिन में तिगुनी हुई ◾Coronavirus : अमेरिका में मरने वालों की संख्या 14000 के पार, 11 भारतीयों के मौत की पुष्टि◾चीन में कोविड-19 के 63 नए मामलें सामने आए, अबतक करीब 3,335 लोगों की हुई मौत ◾पूरे विश्व कोरोना वायरस का कहर जारी, अब तक वायरस से संक्रमितों की संख्या 15 लाख से अधिक हुई ◾कोविड-19 : देश में 5,734 संक्रमित मामलों की पुष्टि वहीं 166 लोगों की अब तक मौत◾Covid-19 : दवा मिलने पर भारत के फैसले से डोनाल्ड ट्रम्प के सुर बदले नजर आए, कहा- थैंक्यू PM मोदी ◾कोरोना संकट : सरकार ने 20 करोड़ महिलाओं के जनधन खातों में पांच-पांच सौ रूपये की सहायता राशि डाली ◾देश में कोरोना का कहर जारी, वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या पांच हजार के पार,140 से ज्यादा लोगों की मौत◾जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए लोगों के खिलाफ होगा मामला दर्ज, दिया हुआ समय-सीमा समाप्त : अनिल विज ◾Covid 19 : लखनऊ समेत 15 जिलों में चुनिंदा इलाकों को किया जायेगा सील◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaLast Update :

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

ट्रंप प्रशासन ने की परमाणु हथियारों को आधुनिक बनाने की नई नीति की घोषणा 

वाशिंगटन : अमेरिका में ट्रंप प्रशासन ने अपने परमाणु हथियारों के जखीरे को आधुनिक करने की नई नीति की घोषणा की है और वह नए छोटे परमाणु बम विकसित करेगा और देश की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएगा। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि यह रणनीति 21वीं सदी में सामने आ रहे विभिन्न खतरों का सामना करने के अनुरूप तैयार की गई है। पेंटागन में 2018 न्यूक्लियर पोश्चर रिव्यू (एनपीआर) के जारी होने के बाद ट्रंप ने कहा कि इसका लक्ष्य हमारे परमाणु कमान, नियंत्रण, संचार, हमारी सेना के तीनों अंगों, दोहरी क्षमता वाले विमानों और परमाणु बुनियादी ढांचे को आधुनिक बनाना है।

उन्होंने कहा कि क्षमताओं को विकसित करने की रणनीति का लक्ष्य परमाणु हथियार के इस्तेमाल की क्षमताओं को न्यूनतम करना है। इसके अलावा, यह अमेरिका, इसके सहयोगी और साझेदारों के खिलाफ रणनीतिक हमलों को रोकने की क्षमता को भी बढ़ाएगा। ट्रंप ने कहा कि महत्वपूर्ण है कि यह शस्त्र नियंत्रण और परमाणु अप्रसार की भी हमारी प्रतिबद्धता को दोहराता है। साथ ही यह परमाणु परीक्षणों पर रोक बनाए रखता है और ‘परमाणु आतंकवाद को रोकने, पता लगाने और उसपर प्रतिक्रिया देने के प्रयासों में सुधार के लिए भी प्रतिबद्ध है।

नई नीति 100 पृष्ठों में है और इसकी प्रस्तावना में रक्षा मंत्री जिम मेटिस ने कहा है कि एक प्रभावी परमाणु प्रतिरोध बनाए रखना युद्ध लड़ने की तुलना में कम महंगा है। मेटिस ने कहा कि हम अपनी परमाणु क्षमताओं को प्रभावी बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं जबकि अमेरिका सशस्त्र नियंत्रण परमाणु अप्रसार और परमाणु सुरक्षा विषयों से पीछे नहीं हटा है। उन्होंने कहा कि परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) का लक्ष्य हासिल करने की हमारी प्रतिबद्धता अब भी मजबूत बनी हुई है। मेटिस ने कहा कि रूस और चीन राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए पूरी तरह से नई परमाणु क्षमताओं को विकसित कर रहे हैं। साथ में पारपंरिक सेना को भी आधुनिक किया जा रहा है जो अमेरिका की पारंपरिक सैन्य श्रेष्ठता के लिए चुनौती है।

मेटिस ने कहा कि रूस इन हथियारों के साथ ही अन्य प्रणालियों को भी आधुनिक कर रहा है। अमेरिकी रक्षा मंत्री ने कहा कि सबसे ज्यादा परेशान करने वाला यह है कि रूसी सेना ऐसी रणनीतियों और क्षमताओं को स्वीकार कर रही है जो सफलता के लिए परमाणु विस्तार पर भरोसा रखती है। उन्होंने कहा कि इन घटनाक्रमों के साथ रूस द्वारा क्रीमिया पर कब्जा करना और हमारे सहयोगियों पर परमाणु हमले करने की धमकी देना बताता है कि मास्को महाशक्ति की प्रतिस्पर्धा में लौटने की मंशा रखता है। रिपोर्ट में उत्तर कोरिया और ईरान का भी जिक्र है। इस रपट में पाकिस्तान का कोई जिक्र नहीं है जबकि अमेरिका के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पहले पाकिस्तान में परमाणु हथियारों की सुरक्षा को लेकर चिंता जाहिर की थी।

  हमारी मुख्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें।