BREAKING NEWS

आज का राशिफल (29 नवंबर 2022)◾श्रद्धा हत्याकांड के आरोपी आफताब को ले जा रही पुलिसवैन पर तलवारों से किया गया हमला, 2 लोग हिरासत में ◾एथलीट पीटी उषा को चुना गया IOA का अध्यक्ष, SAI और किरेन रिजिजू ने की बधाई ◾दरभंगा में बोले RSS प्रमुख, भारत में रहने वाले सभी हिंदू, देश की सांस्कृतिक प्रकृति के कारण पनपी है विविधता ◾असम के CM हिमंत शर्मा ने कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- तुष्टिकरण की राजनीति के कारण पनपा आतंकवाद ◾गुजरात विधानसभा चुनाव: CM केजरीवाल बोले- सूरत के हीरा व्यापारियों को भारत रत्न से सम्मानित किया जाना चाहिए◾पाकिस्तान : TTP ने पाक सरकार के साथ निरस्त किया संघर्षविराम समझौता, लड़ाकों को दिया हमले का आदेश ◾ J&K : सेना और पुलिस ने किया आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़, हथियार व गोला बारूद किया बरामद ◾रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और उनके फ्रांसीसी समकक्ष ने की दिल्ली में बैठक, दोनों देशों ने सहयोग बढ़ाने पर की चर्चा ◾Money laundering case: संजय राउत को जमानत के खिलाफ ईडी की अर्जी पर 12 दिसंबर को होगी सुनवाई◾Haryana News: हुड्डा का दावा, जिला परिषद चुनाव में जनता ने भाजपा-जजपा गठबंधन को नकारा◾इस्लाम की पैरवी करते मौलाना; निकाह में नृत्य, संगीत पर लगाई पाबंदी, जानें पूरा मामला ◾सुप्रीम कोर्ट की चेतावनी: EVM खराबी की झूठी शिकायत करने वाले वोटर को इसका परिणाम पता होना चाहिए◾CM बघेल ने लगाया प्रवर्तन निदेशालय पर हद पार करने और लोगों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप◾Gujarat Polls: कांग्रेस उम्मीदवारों का धुआंधार प्रचार के बजाय स्थानीय संपर्क पर जोर, क्या बदलेगा समीकरण?◾दानिश अंसारी ने सपा पर साधा निशाना, बोले- रामपुर को अपनी बपौती मानने वालों के दिन अब पूरे हो चुके ◾मेघालय में सियासी हलचल, तीन विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष को सौंपा इस्तीफा◾एक्शन में NCB, गोवा में 5 लाख रुपये के ड्रग्स जब्त, दो विदेशी नागरिक गिरफ्तार ◾मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- धर्म, संस्कृति व राष्ट्र रक्षा के प्रति आग्रही बनाती है सिख गुरुओं की परंपरा◾सरकार का बड़ा ऐलान: मदरसों में आठवीं तक के छात्रों को नहीं मिलेगी छात्रवृत्ति◾

2 महीने से जूझ रहा यूक्रेन.. रूस ने मारियुपोल पर फिर शुरू किये हमले, पुतिन ने ईस्टर पर कही यह बात

यूक्रेन के दक्षिणी शहर मारियोपुल पर जीत और एक विशाल इस्पात संयंत्र पर कब्जा नहीं करने की घोषणा के कुछ ही दिनों बाद रूसी सेना ने संयंत्र में छिपे अंतिम यूक्रेनी रक्षकों पर अपना हमला फिर से शुरू कर दिया है। खलीज टाइम्स ने रविवार को यह जानकारी दी। अखबार ने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की के हवाले से बताया कि देश की सेना अभी तक बंदरगाह शहर की घेराबंदी तोड़ने की कोशिश करने की स्थिति में नहीं है। मारियुपोल पर हमला इस युद्ध की अब तक की सबसे बड़ी लड़ाई है, जो हफ्तों से जारी है। इस शहर पर कब्जा करना क्रीमिया के साथ पूर्वी डोनबास क्षेत्र को जोड़ने के रूस के प्रयासों के लिए महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

काला सागर के ओडेसा बंदरगाह में 8 लोगों की हुई मौत 

जेलेंस्की ने बताया कि रूसी हमलों में काला सागर के ओडेसा बंदरगाह में कम से कम आठ लोग मारे गये। यूक्रेन के सशस्त्र बलों ने बताया कि दो मिसाइलों ने शनिवार को एक सैन्य अड्डे पर हमला किया और दो आवासीय तथा दो अन्य भवनों को नष्ट कर दिया। अनुमानों के अनुसार मारियुपोल में दसियों हजार नागरिक मारे गये हैं और अब भी करीब 1,00,000 नागरिक वहां फंसे हुए हैं। संयुक्त राष्ट्र और रेड क्रॉस ने मारे गये नागरिकों की संख्या हजारों में बतायी है।

मायकोलाइव में तड़के से पहले सुनाई दिये थे हवाई हमले के सायरन 

ओडेसा बंदरगाह और काला सागर के पास स्थित शहर मायकोलाइव में रविवार तड़के से पहले हवाई हमले के सायरन सुनाई दिये, लेकिन ताजा हमलों के बारे में तत्काल कोई रिपोर्ट नहीं मिली। इस बीच, अमेरिका के शीर्ष राजनयिक, विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन और अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन रविवार को यूक्रेन की राजधानी कीव का दौरा करेंगे और संकट के तीसरे महीने में प्रवेश करने पर यूक्रेन की हथियारों की जरूरत पर चर्चा करेंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति कार्यालय ‘व्हाइट हाउस’ ने हालांकि ब्लिंकन और ऑस्टिन की यूक्रेन यात्रा की योजना की अब तक पुष्टि नहीं की है।

अच्छाई और न्याय की जीत में विश्वास के लिए प्रोत्साहित करता है ईस्टर : पुतिन

वहीं रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने रविवार को ईस्टर के मौके पर देशवासियों के नाम अपने संबोधन में कहा कि यह पर्व अच्छाई और न्याय की जीत में विश्वास कायम रखने के लिए प्रोत्साहित करता है। पुतिन ने कहा कि पर्वों का यह पर्व लोगों, विशेषकर ईसाइयों को उच्च नैतिक आदर्शों एवं मूल्यों के साथ एकता के सूत्र में बांधता है और लोगों में श्रेष्ठ कर्म के लिए प्रेरित करता है, वहीं उन्हें अच्छाई और न्याय की जीत में विश्वास कायम करने के लिए प्रोत्साहित भी करता है।

उन्होंने देश की ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और आध्यात्मिक परंपराओं को संरक्षित करने के साथ-साथ पारिवारिक एवं सामाजिक मूल्यों को बढ़वा देने की दिशा में ईसाई समुदाय की रचनात्मक प्रयासों की प्रशंसा की। रूसी राष्ट्रपति ने मौजूदा चुनौतीपूर्ण समय में लोगों की सेवा तथा सहायता के लिए ईसाई समुदाय के संगठनों की सामाजिक और धर्मार्थ गतिविधियों पर भी प्रकाश डाला।