BREAKING NEWS

पाकिस्तान को भारत के साथ वार्ता से कभी गुरेज नहीं: विदेश कार्यालय ◾भारत में कोविड-19 के 1.77 करोड़ से अधिक टीके लगाए गए ◾भाजपा ने निर्वाचन आयोग से बंगाल के स्थानीय निकायों में नियुक्त राजनीतिक लोगों को हटाने की मांग की ◾तमिलनाडु : भाजपा ने चुनाव आयोग से किया अनुरोध, राहुल गांधी के चुनाव प्रचार करने पर लगाई जाए रोक◾फिल्म कंपनियों के हिसाब में 300 करोड़ की हेरा-फेरी, तापसी के पास से 5 करोड़ कैश लेने के सबूत मिले◾गृहमंत्री अमित शाह ने भाजपा सीईसी बैठक से पहले मोदी से की मुलाकात ◾जयशंकर ने द्विपक्षीय संबंध मजबूत करने को लेकर बांग्लादेश के विदेश मंत्री के साथ की वार्ता ◾अहमदाबाद टेस्ट : भारतीय स्पिनरों ने झटके 8 विकेट, पहले दिन का खेल खत्म होने तक भारत का स्कोर 24/1 ◾EPFO - केंद्र ने तय की पीएफ पर ब्याज दर, छह करोड़ लोगों को मिलेगा लाभ ◾बंगाल BJP में पुराने नेताओं और नए शामिल होने वालों के बीच दरार ने बढ़ाई टेंशन, उभरी अंदरूनी कलह ◾अगले विधानसभा चुनाव में जीतेंगे 350 से ज्यादा सीटें, EVM सिस्टम करेंगे खत्म : अखिलेश यादव ◾UP विधानसभा के बाहर तैनात सब-इंस्पेक्टर ने खुद को मारी गोली, मौके पर ही मौत◾अहमदाबाद टेस्ट : इंग्लैंड की पहली पारी 205 रन पर ढेर , अक्षर ने झटके 4 विकेट◾शिवसेना पश्चिम बंगाल में नहीं लड़ेगी चुनाव, राउत ने कहा- 'शेरनी' ममता के साथ मजबूती से खड़ी है पार्टी◾केरल: BJP के CM उम्‍मीदवार होंगे ‘मेट्रो मैन’ ई श्रीधरन, हाल ही में हुए थे पार्टी में शामिल◾राहुल के मुहावरों का जावड़ेकर ने मुहावरों से दिया जवाब-सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली◾मोटे अनाजों को लोकप्रिय बनाने के लिए अग्रिम मोर्चे पर जुटा भारत सम्मानित महसूस कर रहा है : PM मोदी ◾झारखंड के जंगलों में IED ब्लास्ट में तीन जवान शहीद, दो घायल ◾कृषि एवं ग्रामीण क्षेत्र की मजबूती पर सरकार का फोकस, योजनाएं छोटे किसानों के लिए बेहद लाभकारी : तोमर◾ईज ऑफ लिविंग : रहने के लिए सबसे अच्छे शहरों की रेस में बेंगलुरू रहा सर्वश्रेष्ठ, दिल्ली टॉप 10 में भी नहीं ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

UN Human Rights Council : चीन और रूस ने सीटें जीतीं, सऊदी हारा

संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार परिषद में चीन, रूस और क्यूबा ने मंगलवार को सीटें जीत लीं, जबकि सऊदी अरब इसमें सफल नहीं हो सका। इन सभी देशों को मानवाधिकार पर अपने खराब रिकॉर्ड के चलते कार्यकर्ता समूहों के विरोध का सामना करना पड़ा था। रूस और क्यूबा निर्विरोध जीते, वहीं चीन और सऊदी अरब प्रतिद्वंद्विता दौड़ में थे, जो मानवाधिकार परिषद में सीटों के लिए इकलौता मुकाबला था।

इस मुकाबले में 193 सदस्यीय संरा महासभा के गोपनीय मतदान में पाकिस्तान को 169 मत, उज्बेकिस्तान को 164, नेपाल को 150, चीन को 139 और सऊदी अरब को 90 मत मिले। सऊदी अरब ने सुधार योजनाओं की घोषणा की थी, लेकिन ‘ह्यूमन राइट्स वॉच’ एवं अन्य संगठनों ने उसकी उम्मीदवारी का कड़ा विरोध किया और कहा कि पश्चिम एशिया का यह देश मानवाधिकार संरक्षकों, असंतुष्ट लोगों और महिला अधिकार कार्यकर्ताओं को लगातार निशाना बना रहा है तथा उसने पहले के उत्पीड़न के मामलों, मसलन वॉशिंगटन पोस्ट के साथ कार्यरत सऊदी अरब के आलोचक जमाल खशोगी की दो वर्ष पहले इस्तांबुल में सऊदी के वाणिज्य दूतावास में हुई हत्या के प्रति जरा भी जवाबदेही नहीं दिखाई।

खशोगी द्वारा स्थापित संगठन ‘डेमोक्रेसी फॉर द अरब वर्ल्ड नाऊ’ की लोकतंत्र संबंधी मामलों की कार्यकारी निदेशक सारा ली व्हिट्सन ने कहा कि सऊदी के वली अहद मोहम्मद बिन सलमान जनसंपर्कों पर भले ही लाखों डॉलर खर्च कर रहे हैं लेकिन अंतरराष्ट्रीय समुदाय उन पर भरोसा नहीं करता। मानवाधिकार परिषद के नियमों के अनुसार इसकी सीटें क्षेत्रवार तरीके से आवंटित की जाती हैं जिससे क्षेत्रीय प्रतिनिधित्व सुनिश्चित हो सके। 

इस 47 सदस्यीय परिषद में एशिया-प्रशांत क्षेत्र समूह में सीटों के लिए हुए मुकाबले को छोड़ दें तो बाकी के 15 सदस्यों के चुने जाने के बारे में फैसला पहले ही हो चुका था क्योंकि अन्य क्षेत्रीय समूहों में उम्मीदवार राष्ट्रों के समक्ष कोई चुनौती नहीं थी। आइवरी कोस्ट, मलावी, गैबॉन और सेनेगल ने चार अफ्रीकी सीटें जीती। रूस और उक्रेन ने दो पूर्वी यूरोपीय सीटें जीती। लातिन अमेरिका और कैरिबियाई समूह में मेक्सिको, क्यूबा और बोलीविया ने तीन सीटें जीतीं।

पश्चिमी यूरोप और अन्य समूहों में ब्रिटेन और फ्रांस ने दो सीटें जीतीं। संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार संगठन के निदेशक लुइस चारबोनन्यू ने परिणामों की घोषणा के बाद कहा, ‘‘यदि मुकाबले में कोई होता तो चीन, क्यूबा तथा रूस भी हार जाते।’’ उन्होंने कहा, ‘‘सऊदी अरब की सीट जीत पाने में विफलता यह याद दिलाने का मौका है कि संयुक्त राष्ट्र के चुनावों में और अधिक प्रतिस्पर्धा की आवश्यकता है।’’ एशिया-प्रशांत समूह में सीट पाने वाले चार देशों में सबसे कम मत चीन को मिले।