BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीरः सुरक्षाबलों की मौत पर राष्ट्रपति मुर्मू ने जताया दुख, घायलों के शीघ्र स्वस्थ्य होने की कामना की ◾Ratan Tata Invests : वरिष्ठ नागरिकों के सहयोग के लिए स्टार्टअप गुडफेलोज में किया निवेश◾कश्मीरी पंडित की हत्या पर उमर अब्दुल्ला सहित कई राजनेताओं ने जताया दुख, जानिए क्या कहा? ◾Amul Milk Price Hiked: देश में महंगाई का कहर! अमूल मिल्क के बढ़े दाम, इतने लीटर महंगा हुआ दूध◾राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने की मुलाकात ◾नीतीश को घेरने के लिए बीजेपी आलाकमान ने बुलाई बैठक, बिहार इकाई के प्रमुख नेता होंगे शामिल ◾WPI मुद्रास्फीति घटकर 13.93 फीसदी, खाद्य वस्तुओं सहित विनिर्मित उत्पादों की कीमतों में बड़ी गिरावट ◾WPI मुद्रास्फीति घटकर 13.93 फीसदी, खाद्य वस्तुओं सहित विनिर्मित उत्पादों की कीमतों में बड़ी गिरावट ◾मुम्बई में बारिश को लेकर मौसम विभाग का बड़ा अलर्ट, 24 घंटे के अंदर होगी झमाझम बारिश ◾गहलोत के अर्धसैनिक बलों के ट्रकों में 'अवैध धन' ले जानें वाले बयान पर बीजेपी का पलटवार, जानिए मामला◾J-K News: जम्मू कश्मीर के पहलगाम में दर्दनाक हादसा, 39 जवानों की बस खाई में गिरी, 6 की मौत, जानें स्थिति ◾जम्मू-कश्मीर : आतंकियों ने दो कश्मीरी पंडित भाइयों पर बरसाई गोलियां, एक की मौत, एक घायल◾बिहार : नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल के 31 विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली, कांग्रेस नेता भी शामिल ◾कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने उठाई 3 दशकों से जेल में बंद सिख कैदियों की रिहाई की मांग ◾भारत में शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार के लिए केंद्र दिल्ली सरकार की विशेषज्ञता का उपयोग करें : CM केजरीवाल ◾भारतीय फुटबॉल प्रशंसकों को बड़ा झटका! फीफा ने महिला अंडर-17 विश्व कप की मेजबानी छीनी, AIFF पर लगाया प्रतिबंध ◾Gujarat News : आवारा पशुओं से बढ़ रहा हादसे का खतरा, सरकार के दावों की खुली पोल ◾CM योगी आदित्‍यनाथ ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि पर दी श्रद्धांजलि◾Covid-19 : देश में पिछले 24 घंटो में कोरोना वायरस के 8,813 केस दर्ज़, 29 मरीजों की मौत ◾अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि आज, राष्ट्रपति द्रौपदी और पीएम मोदी ने 'सदैव अटल' समाधि पर की पुष्पांजलि◾

वैक्सीन एक फायदे अनेक, स्टडी का दावा- कोविड टीकाकरण से इम्युनिटी बढ़ने के साथ हो रहा यह बड़ा लाभ

आपको घातक बीमारी से सुरक्षित रखने के अलावा, कोविड-19 टीकाकरण मनोवैज्ञानिक कल्याण में भी सुधार कर सकता है। एक नए अध्ययन में पाया गया है कि जिन लोगों को कम से कम एक वैक्सीन की खुराक मिली, वे कई मनोवैज्ञानिक संकट कारकों में सांख्यिकीय रूप से महत्वपूर्ण गिरावट से जुड़े थे। अमेरिकन जर्नल ऑफ प्रिवेंटिव मेडिसिन में प्रकाशित अध्ययन ने संकेत दिया कि अध्ययन प्रतिभागियों के बीच टीकाकरण संकट में गिरावट और संक्रमण, अस्पताल में भर्ती और मृत्यु के कथित जोखिमों से जुड़ा था।

वैक्सीन लगवाने से मनोवैज्ञानिक संकट में गिरावट का हुआ खुलासा

अमेरिका के न्यू हैम्पशायर विश्वविद्यालय में समाजशास्त्र विभाग के प्रमुख अन्वेषक, पीएचडी, जोनाथन कोल्टाई ने कहा, हमारा अध्ययन गंभीर बीमारी और कोविड-19 से जुड़ी मौत के जोखिम को कम करने से परे टीकाकरण के महत्वपूर्ण मनोवैज्ञानिक लाभों का दस्तावेजीकरण करता है। अध्ययन के लिए, मार्च 2020 और जून 2021 के बीच नियमित रूप से साक्षात्कार लेने वाले 8,090 वयस्कों के राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिनिधि अध्ययन के आंकड़ों ने टीकाकरण के बाद कोविड से संबंधित जोखिम धारणाओं और मनोवैज्ञानिक संकट में गिरावट का खुलासा किया।

जानें स्टडी में क्या किया गया है दावा 

विशेष रूप से, दिसंबर 2020 और जून 2021 के बीच कोविड-19 वैक्सीन की कम से कम एक खुराक प्राप्त करने वाले वयस्कों ने मानसिक संकट में सात प्रतिशत की कमी दर्ज की, जैसा कि रोगी स्वास्थ्य प्रश्नावली 4 (पीएचक्यू-4) संकट स्कोर का उपयोग करके मापा जाता है। टीकाकरण के बाद जोखिम की धारणा में गिरावट के कारण संकट में कमी को आंशिक रूप से समझाया गया था। टीकाकरण होने से संक्रमण के कथित जोखिम में 7.77 प्रतिशत की गिरावट, अस्पताल में भर्ती होने के कथित जोखिम में 6.91 प्रतिशत की गिरावट और मृत्यु के कथित जोखिम में 4.68 प्रतिशत की गिरावट के साथ जुड़ा था।

जोखिम धारणाओं के समायोजन से टीकाकरण-संकट संघ में 25 प्रतिशत की कमी आई। टीकाकरण के बाद कम से कम आठ सप्ताह तक ये प्रभाव बने रहे और मजबूत होते गए। यह उल्लेखनीय है कि टीकाकरण से पहले और कभी टीकाकरण न कराने वाले प्रतिभागियों की प्रतिक्रियाओंने पूर्व-टीकाकरण के समान रुझानों का पालन किया, लेकिन उन्होंने टीकाकरण के बाद महत्वपूर्ण रूप से विचलन किया। टीकाकरण होने से लोग सुरक्षित महसूस करते हैं।