BREAKING NEWS

आंग सान सू की को मिली चार साल की जेल, सेना के खिलाफ असंतोष, कोरोना नियमों का उल्लंघन करने का था आरोप ◾शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾विपक्ष ने लोकसभा में उठाया नगालैंड का मुद्दा, घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया, बिरला ने कही ये बात ◾UP विधानसभा चुनाव में BSP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार, मायावती ने किया दावा ◾दिल्ली में हल्का बढ़ा पारा, 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज हुई वायु गुणवत्ता, फ्लाइंग स्क्वॉड की कार्रवाई जारी ◾पीएम मोदी ने किया ट्वीट! लोगों से टीकाकरण अभियान की गति बनाए रखने की अपील की◾अमित शाह नगालैंड में गोलीबारी की घटना पर संसद में आज देंगे बयान, 1 जवान समेत 14 लोगों की हुई थी मौत ◾लोकसभा में कई अहम बिल होंगे पेश, साथ ही बहुत से विधेयकों को मिलेगी मंजूरी, जानें क्या हैं संभावित मुद्दे ◾देश में नए वेरिएंट के खतरे के बीच कोरोना के 8 हजार से अधिक संक्रमितों की पुष्टि, इतने मरीजों हुई मौत ◾World Coronavirus: 26.58 करोड़ हुआ संक्रमितों का आंकड़ा, 52.5 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾देश में तेजी से फैल रहा है कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन, जानिए किन राज्यों में मिल चुके हैं संक्रमित मरीज ◾आज भारत पहुंचेंगे रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, पीएम मोदी के साथ होगी शिखर वार्ता, ये होंगे मुद्दे ◾मथुरा में पुलिस का चप्पे-चप्पे पर पहरा, ड्रोन और सीसीटीवी से रखी जा रही नजर, अयोध्या में भी हाई अलर्ट ◾पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने आप नेता के अवैध खनन के आरोप को किया खारिज◾

निपाह वायरस से लड़ने में मदद कर सकती है कोविशील्ड जैसी वैक्सीन, शोधकर्ता टीम ने किया दावा

निपाह वायरस के खिलाफ बंदर परीक्षण (मंकी ट्रायल) में कोविशील्ड जैसा टीका सफल पाया गया है। शोधकर्ताओं की एक अंतर्राष्ट्रीय टीम ने यह दावा किया है। निपाह वायरस (एनआईवी) एक अत्यधिक रोगजनक और फिर से उभर रहा वायरस है, जो मनुष्यों में छिटपुट लेकिन गंभीर संक्रमण का कारण बनता है।

कोविड की वृद्धि के बीच पिछले हफ्ते इसने केरल में एक 12 वर्षीय लड़के की जान ले ली थी, जबकि मृतक के सभी उच्च जोखिम वाले संपर्क की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। आस-पास के राज्यों को बीमारी के लिए हाई अलर्ट पर रखा गया है। 2018 में राज्य में वायरस के प्रकोप में आए 18 में से 17 लोगों की मौत हो गई थी।वर्तमान में निपाह के खिलाफ किसी भी टीके को मंजूरी नहीं दी गई है।

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और यूएस नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के शोधकर्ताओं ने आठ अफ्रीकी हरे बंदरों में सीएचएडीओएक्स1 एनआईवी की प्रभावकारिता की जांच की। उन्होंने प्री-प्रिंट सर्वर बायोरेक्सिव पर परिणाम इस शोध को प्रकाशित किया, जिसका अर्थ है कि इसकी एक संपूर्ण समीक्षा की जानी बाकी है।

सीएचएडीओएक्स1 एनआईवी सीएचएडीओएक्स1 एनसीओवी-19 के समान वेक्टर पर आधारित है, जिसे दुनिया भर के 60 से अधिक देशों में आपातकालीन उपयोग के लिए अनुमोदित किया गया है और 10 करोड़ लोगों को इसकी खुराक दी जा चुकी है।चार बंदरों के एक समूह को सीएचएडीओएक्स1 एनआईवी के दो शॉट (खुराक) या एक शॉट दिया गया, दूसरे समूह को डमी प्रोटीन (सीएचएडीओएक्स1 जीएफपी) के साथ इंजेक्ट किया गया और फिर से सीएचएडीओएक्स1 द्वारा वेक्टर किया गया।

तब सभी आठ बंदर पहले से ही या कृत्रिम रूप से कुछ नाक के माध्यम से और अन्य गले के माध्यम से असली निपाह वायरस से संक्रमित थे।प्रारंभिक टीकाकरण के 14 दिनों के बाद से एक मजबूत हुमोरल और सेलुलर प्रतिक्रिया का पता चला।

वास्तविक निपाह वायरस से कृत्रिम रूप से संक्रमित होने पर, नियंत्रण वाले जानवरों ने कई तरह के लक्षण प्रदर्शित किए।शोधकर्ताओं ने कहा, "इसके विपरीत, टीका लगाए गए जानवरों में बीमारी के कोई लक्षण नहीं दिखे और हम एक स्वैब और सभी ऊतकों को छोड़कर सभी में संक्रामक वायरस का पता लगाने में असमर्थ थे।"

ऑक्सफोर्ड में जेनर इंस्टीट्यूट नफिल्ड डिपार्टमेंट ऑफ मेडिसिन से सारा सी. गिल्बर्ट ने कहा, "फ्यूजन प्रोटीन या न्यूक्लियोप्रोटीन आईजीजी के खिलाफ सीमित एंटीबॉडी का पता ईल एनआईवी के संक्रमण के 42 दिनों के बाद नहीं लगाया जा सकता है। यह सुझाव देता है कि टीकाकरण ने व्यापक वायरस प्रतिकृति को रोकने के लिए एक बहुत ही मजबूत सुरक्षात्मक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को प्रेरित किया है।"शोधकर्ताओं ने कहा कि सामने आए आंकड़ों से पता चलता है कि टीका बंदरों में पूर्ण सुरक्षात्मक प्रतिरक्षा प्रदान कर सकता है।

पंजशीर हमले ने ईरान को पाक की ISI के खिलाफ खड़ा किया, क्षेत्रीय समीकरण बदले