BREAKING NEWS

त्रिपुरा के लोगों ने स्पष्ट संदेश दिया है कि वे सुशासन की राजनीति को तरजीह देते हैं : PM मोदी◾कांग्रेस ने हमेशा लोगों के मुद्दों की लड़ाई लड़ी, BJP ब्रिटिश शासकों की तरह जनता को बांट रही है: भूपेश बघेल ◾आजादी के 75 वर्ष बाद भी खत्म नहीं हुआ जातिवाद, ऑनर किलिंग पर बोला SC- यह सही समय है ◾त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव में BJP का दमदार प्रदर्शन, TMC और CPI का नहीं खुला खाता ◾केन्द्र सरकार की नीतियों से राज्यों का वित्तीय प्रबंधन गड़बढ़ा रहा है, महंगाई बढ़ी है : अशोक गहलोत◾NFHS के सर्वे से खुलासा, 30 फीसदी से अधिक महिलाओं ने पति के हाथों पत्नी की पिटाई को उचित ठहराया◾कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर सरकार सख्त, केंद्र ने लिखा राज्यों को पत्र, जानें क्या है नई सावधानियां ◾AIIMS चीफ गुलेरिया बोले- 'ओमिक्रोन' के स्पाइक प्रोटीन में अधिक परिवर्तन, वैक्सीन की प्रभावशीलता हो सकती है कम◾मन की बात में बोले मोदी -मेरे लिए प्रधानमंत्री पद सत्ता के लिए नहीं, सेवा के लिए है ◾केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोरोना के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों पर रोक लगाने का किया आग्रह◾शीतकालीन सत्र को लेकर मायावती की केंद्र को नसीहत- सदन को विश्वास में लेकर काम करे सरकार तो बेहतर होगा ◾संजय सिंह ने सरकार पर लगाया बोलने नहीं देने का आरोप, सर्वदलीय बैठक से किया वॉकआउट◾TMC के दावे खोखले, चुनाव परिणामों ने बता दिया कि त्रिपुरा के लोगों को BJP पर भरोसा है: दिलीप घोष◾'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप्स के महत्व पर दिया जोर, कहा- भारत की विकास गाथा के लिए है 'टर्निग पॉइंट' ◾शीतकालीन सत्र से पूर्व विपक्ष में आई दरार, कल होने वाली कांग्रेस नेता खड़गे की बैठक से TMC ने बनाई दूरियां ◾उद्धव ठाकरे की सरकार के दो साल के कार्यकाल में विपक्ष पूरी तरह से दिशाहीन रहा : संजय राउत◾कांग्रेस Vs कांग्रेस : अधीर रंजन चौधरी के वार पर मनीष तिवारी का पलटवार◾कल से शुरू हो रहा है संसद का शीतकालीन सत्र, पेश होंगे ये 30 विधेयक◾BJP प्रवक्ता ने फूलन देवी को कहा 'डकैत', अखिलेश ने बताया 'निषाद समाज' का अपमान ◾तमिलनाडु बारिश : चेन्नई के कई इलाकों में जलभराव, IMD ने तटीय जिलों के लिए जारी किया रेड अलर्ट ◾

व्हाइट हाउस में 56% पदों पर महिलाओं की नियुक्ति, बाइडेन बोले-इतिहास का सबसे विविध प्रशासन

व्हाइट हाउस में सीनियर स्टाफ पोस्ट में से 56 प्रतिशत पर महिलाओं की नियुक्तियां की गई जिसमें से 36 प्रतिशत महिलाएं नस्ली या जातीय रूप से विविध पृष्ठभूमियों से आती हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इन नियुक्तियां के जरिए विश्व के सामने लिंग विभेदीकरण की धारणा को परे रखते हुए समानता का उदाहरण पेश किया है।

बाइडेन प्रशासन ने गुरूवार को अपने कर्मचारियों का लैंगिक और वेतन संबंधी विश्लेषण कहा कि आंकड़ें दिखाते हैं कि यह ‘‘इतिहास का सबसे विविध प्रशासन है’’ और स्टाफ में पुरुषों तथा महिलाओं के बीच वेतन का अंतर बहुत मामूली है। प्रशासन में महिलाओं का औसत वेतन 93,752 डॉलर है जबकि पुरुषों का औसत वेतन 94,639 डॉलर है यानी कि इसमें महज एक प्रतिशत का अंतर है।

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन में पहले साल में वेतन में 37 प्रतिशत का अंतर था जबकि राष्टट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल के दौरान 16 प्रतिशत का अंतर था। व्हाइट हाउस ने कांग्रेस को दी रिपोर्ट में एक बयान में कहा, ‘‘विविधता और वेतन में समानता की राष्ट्रपति की प्रतिबद्धता के अनुसार व्हाइट हाउस ने यह सुनिश्चित करने के लिए कई अहम कदम उठाए कि उसके स्टाफ में देश के विविध समुदायों का प्रतिनिधित्व हो और आर्थिक एवं सामाजिक न्याय के उच्च मानकों का पालन हो।’’

अमेरिका के लेबर स्टेटिस्टिक्स ब्यूरो की रिपोर्ट के अनुसार, बाइडेन प्रशासन में व्हाइट हाउस स्टाफ में करीब 60 प्रतिशत महिलाएं हैं। 2019 की अमेरिकी जनगणना के अनुसार देश की आबादी का करीब 50.8 प्रतिशत हिस्सा महिलाओं का है।