BREAKING NEWS

येदियुरप्पा के शपथ लेने के बाद मुम्बई से लौटेंगे कर्नाटक के बागी विधायक◾कश्मीर के बारे में ट्रंप के प्रस्ताव पर भारत की प्रतिक्रिया से चकित हूं : इमरान खान ◾कर्नाटक में गिरी कुमारस्वामी सरकार, विश्वास प्रस्ताव के पक्ष पड़े 99 वोट ◾खुशी से पद छोड़ने को तैयार हूं : कुमारस्वामी ◾बोरिस जॉनसन बने ब्रिटेन के नए PM, यूरोपीय संघ से देश को बाहर निकालना होगी बड़ी चुनौती◾कश्मीर मुद्दे पर नरेंद्र मोदी और इमरान खान को मिलकर करनी चाहिए पहल - फारुख अब्दुल्ला◾Top 20 News 23 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾भाजपा ने ट्रंप के दावे पर विपक्ष के रूख को गैर जिम्मेदाराना बताया ◾कर्नाटक संकट: भाजपा ने कुमारस्वामी पर करदाताओं का पैसा बर्बाद करने का लगाया आरोप◾गृह मंत्रालय ने घटाई लालू यादव, चिराग पासवान समेत कई बड़े नेताओं की सुरक्षा◾SC ने NRC प्रकाशन की समय सीमा बढ़ाई, 20 फीसदी नमूनों के पुन: सत्यापन का अनुरोध ठुकराया◾PM मोदी देश को बताएं कि उनकी ट्रंप से क्या बात हुई थी : राहुल गांधी◾SC ने आम्रपाली समूह का रेरा पंजीकरण किया रद्द, NBCC को लंबित परियोजनाएं पूरी करने का निर्देश◾ट्रंप के दावे पर लोकसभा में विपक्षी सदस्यों का हंगामा, PM से जवाब देने की मांग की◾ट्रंप के बयान पर संसद में हंगामा, जयशंकर ने कहा- मोदी ने नहीं की मध्यस्थता की बात◾RTI कानून खत्म करना चाहती है सरकार, हर नागरिक होगा कमजोर : सोनिया गांधी ◾कश्मीर पर मध्यस्थता की ट्रंप की पेशकश का इमरान खान ने किया स्वागत, कहा- इसे दो पक्ष नहीं सुलझा सकते◾PM मोदी जवाब दें कि मध्यस्थता की पेशकश की या ट्रंप की बात झूठ है : कांग्रेस◾कश्मीर मुद्दे पर अमेरिका का यू-टर्न, बोला- ये भारत-पाकिस्तान का द्विपक्षीय मुद्दा◾अखिलेश यादव को बड़ा झटका, ‘ब्लैक कैट’ सुरक्षा कवच वापस लेगा केंद्र◾

बिहार

अतीत की तुलना में 2019 में एईएस के मामले बढ़े

सरकार ने मंगलवार को स्वीकार किया कि पिछले वर्षों की तुलना में 2019 में बिहार में एक्यूट इन्सैफेलाइटिस सिन्ड्रोम (एईएस) के मामलों में और इसके कारण बच्चों की मौत के आंकड़ों में वृद्धि हुई है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने राज्यसभा को बताया कि 2016 में एईएस के 324 मामले सामने आए और 102 बच्चों की मौत हुई। 2017 में इस बीमारी के 189 मामले सामने आए और 54 बच्चों की मौत हुई। 2018 में 124 मामले सामने आए और 33 बच्चों की मौत हुई लेकिन 2019 में दो जुलाई तक एईएस के 837 मामले सामने आए और 162 बच्चों की मौत हुई। 

चौबे ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया कि बिहार के अलावा, देश के सात अन्य राज्यों में एईएस की वजह से 63 बच्चों की जान जाने की खबर है। इनमें से असम में 25, झारखंड में दो, महाराष्ट्र, मणिपुर, ओडिशा में एक एक, उत्तर प्रदेश में 17 और पश्चिम बंगाल में एईएस के कारण 63 बच्चों की मौत होने की खबर है। एक अन्य प्रश्न के लिखित उत्तर में उन्होंने बताया कि राज्य एईएस के मामलों और इनसे होने वाली मौत के मामलों की सूचना नियमित रूप से केंद्र सरकार को दे रहे हैं। 

एईएस के सर्वाधिक मामले बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में होने की खबर है। इस बारे में मंत्री ने बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने बिहार के स्वास्थ्य मंत्री और मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक कर स्थिति की समीक्षा की थी। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने इस रोग से निपटने में राज्य सरकार की मदद के लिए एक केंद्रीय दल की नियुक्ति की थी जिसमें विभिन्न केंद्रीय सरकारी संस्थानों के स्वास्थ्य विशेषज्ञ भी शामिल थे। 

इसके अलावा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने राज्य मंत्री और अधिकारियों के दल के साथ बिहार का दौरा किया तथा स्थिति की समीक्षा की थी। चौबे ने बताया कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने विभिन्न केंद्रीय सरकारी संस्थानों से वरिष्ठ बाल चिकित्सकों को शामिल करते हुए मुजफ्फरपुर के लिए एक उच्च स्तरीय बहुविषयक दल की भी तैनाती की थी। 

एईएस का संबंध लीची से बताए जाने के बारे में मंत्री ने स्पष्ट किया कि स्वस्थ लोगों को लीची से कोई नुकसान नहीं होता। ‘‘वर्ष 2013-14 में राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र ने अपने सहयोगी संस्थानों के साथ एक अनुसंधान अध्ययन किया था। अध्ययन में पाया गया कि कुपोषित बच्चे अगर लीची खाते हैं तो इससे उन्हें हाइपोग्लाइसेमिया हो जाता है जिसमें बच्चे को दौरे पड़ते हैं या उसे एईएस की समस्या होती है।’’ 

बजट में रोजगार, अर्थव्यवस्था, कृषि क्षेत्र से जुड़े वादों को पूरा करने को कोई खाका नहीं : द्रमुक