BREAKING NEWS

देश के कई हिस्सों में सर्दी का सितम जारी, मैदानी इलाकों को अभी नहीं मिलेगी शीतलहर से राहत◾UP चुनाव को लेकर PM मोदी वाराणसी के भाजपा कार्यकर्ताओं से आज करेंगे वर्चुअल संवाद, देंगे यह मंत्र◾पंजाब विधानसभा चुनाव में CAPF की 1,050 कंपनी तैनात करने की मांग ◾पंजाब विधान सभा चुनाव - गठबंधन तय लेकिन सीटों को लेकर अभी तक नहीं हो पाया है अंतिम फैसला ◾कांग्रेस ने अरबपतियों की संपत्ति बढ़ने संबंधी रिपोर्ट को लेकर सरकार पर निशाना साधा ◾राज्यों की झांकी न शामिल करने के लिए केंद्र की आलोचना करना गलत परम्परा : सरकारी सूत्र ◾ केजरीवाल आज करेंगे पंजाब में ‘आप’ के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार की घोषणा◾गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : ममता के बाद स्टालिन ने PM मोदी का लिखा पत्र ◾भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है : PM मोदी ◾उद्योग जगत ने WEF में PM मोदी के संबोधन का किया स्वागत ◾ कोरोना से निपटने के योगी सरकार के तरीके को लोग याद रखेंगे और भाजपा के खिलाफ वोट डालेंगे : ओवैसी◾गाजीपुर मंडी में मिले IED प्लांट करने की जिम्मेदारी आतंकी संगठन MGH ने ली◾दिल्ली में कोविड-19 के मामले कम हुए, वीकेंड कर्फ्यू काम कर रहा है: सत्येंद्र जैन◾कोविड-19 से उबरने का एकमात्र रास्ता संयुक्त प्रयास, एक दूसरे को पछाड़ने से प्रयासों में होगी देरी : चीनी राष्ट्रपति ◾ ओवैसी की पार्टी AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, 8 सीटों पर किया ऐलान◾दिल्ली में कोरोना का ग्राफ तेजी से नीचे आया, 24 घंटे में 12527 नए केस के साथ 24 मौतें हुई◾अखिलेश के ‘अन्न संकल्प’ पर स्वतंत्र देव का पलटवार, ‘गन’ से डराने वाले किसान हितैषी बनने का कर रहे ढोंग ◾12-14 आयु वर्ग के बच्चों के लिए फरवरी अंत तक हो सकती है टीकाकरण की शुरुआत :NTAGI प्रमुख ◾ अबू धाबी में एयरपोर्ट के पास ड्रोन से अटैक, यमन के हूती विद्रोहियों ने UAE में हमले की ली जिम्मेदारी ◾कोरोना संकट के बीच देश की पहली एमआरएनए आधारित वैक्सीन, खास तौर पर Omicron के लिए कारगर◾

LJP के इकलौते विधायक JDU में शामिल, नाखुश लोगों को पार्टी में बनाए रखना चिराग के लिए बड़ी चुनौती

बिहार विधानसभा में लोक जनशक्ति पार्टी का एकमात्र चिराग भी बुझ गया है। लोजपा के इकलौते विधायक राजकुमार सिंह जदयू में शामिल हो गए। चुनाव में तीसरे नंबर पर खिसकने के बाद जनता दल (युनाइटेड) न केवल संगठन को मजबूत करने में जुटी है बल्कि अपने कुनबे को बढ़ाने और सहेजने की कोशिश कर रही है।

यही कारण माना जा रहा है कि विधानसभा में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) का कुनबा साफ करने के बाद जदयू ने लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) का भी विधानसभा में चिराग बुझा दिया। इसके कयास उसी दिन से लगने लगे थे, जब राजकुमार सिंह जदयू के नेता और मंत्री अशोक चौधरी से मिले थे और दोनों नेताओं के बीच लंबी चर्चा हुई थी। दीगर बात है कि उस समय दोनों नेताओं ने पुरानी मित्रता का हवाला देते हुए किसी भी कयास से पल्ला झाड दिया था।

विधानसभा चुनाव 2020 में बेगूसराय के मटिहानी से लोजपा के टिकट पर चुनाव जीते राजकुमार सिंह मंगलवार को बिहार विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिख कर कहा कि वे विधानसभा में अपनी पार्टी का विलय जदयू में करना चाहते हैं। सिंह अपनी पार्टी के इकलौते विधायक हैं, इसलिए इसमें कोई दिक्कत नहीं आई और वे जदयू में शामिल हो गए। लोजपा के इकलौते विधायक का पार्टी से बगावत कर जदयू में शामिल होना लोजपा के चिराग पासवान के लिए किसी बडे झटके से कम नहीं माना जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले जदयू ने बसपा के इकलौते विधायक जमा खान को भी अपने पाले में मिला लिया था। जमा खान के पाला बदलने से विधानसभा में बसपा का जदयू में विलय हो गया था। लोजपा का विधान परिषद में भी 22 फरवरी को उस समय कुनबा साफ हो गया था, जब लोजपा की एकमात्र सदस्य नूतन सिंह भाजपा में शामिल हो गईं थी।

वैसे, लोजपा के संस्थापक और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन के बाद से ही यह माना जा रहा था, कि लोजपा को एकजुट रखना पार्टी के प्रमुख चिराग पासवान के लिए आसान नहीं होगा। इस बीच, पिछले विधानसभा चुनाव में लोजपा राजग से अलग होकर उन क्षेत्रों में अपने प्रत्याशी उतार दी जिस क्षेत्र से राजग के प्रमुख घटक दल जदयू अपने प्रत्याशी उतारी थी। इससे जदयू नाराज हो गई।

चुनाव में लोजपा को मात्र एक सीट मिली, लेकिन उसके बाद लोजपा में नाराजगी खुलकर सामने आ गई। लोजपा के कई नेता कांग्रेस में भी शामिल हो गए। इधर, लोजपा के प्रवक्ता अशरफ अंसारी कहते हैं कि लोजपा को धोखा देने वालों की कोई जगह नहीं है। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों विधानसभा उपाध्यक्ष पद के चुनाव में राजकुमार सिंह ने जदयू के पक्ष में वोट दिया था जिसके लिए उन्हें नोटिस जारी किया गया था।

इस नोटिस के बाद विधायक राजकुमार सिंह भाग खड़े हुए। उन्होंने कहा कि कारण बताओ नोटिस के बाद विधायक ने पार्टी छोड़ी। बहरहाल, लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान के लिए नाखुश लोगों को पार्टी में बनाए रखना एक बड़ी चुनौती है। देखना है कि वे इससे कैसे निपट पाते हैं और पार्टी को फिर से पुराने दिन कैसे लौटा पाते हैं।

IIT पटना के 18 छात्र कोरोना संक्रमित, एक हफ्ते के लिए सील किया गया कैंपस