BREAKING NEWS

केजरीवाल सरकार ने सर गंगा राम अस्पताल के खिलाफ दर्ज कराई FIR, नियमों के उल्लंघन का लगाया आरोप◾पूर्वी लद्दाख गतिरोध - मोल्डो में खत्म हुई भारत और चीन सेना के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत◾UP : एक साथ 25 जिलों में पढ़ाने वाली फर्जी टीचर हुई गिरफ्तार , साल भर में लगाया 1 करोड़ का चूना◾केजरीवाल सरकार ने दिए निर्देश, कहा- बिना लक्षण वाले कोरोना मरीजों को 24 घंटे के अंदर अस्पताल से दें छुट्टी◾एकता कपूर की मुश्किलें बढ़ी, अश्लीलता फैलाने और राष्ट्रीय प्रतीकों के अपमान के आरोप में FIR दर्ज◾बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर अमित शाह कल करेंगे ऑनलाइन वर्चुअल रैली, सभी तैयारियां पूरी हुई ◾केजरीवाल ने दी निजी अस्पतालों को चेतावनी, कहा- राजनितिक पार्टियों के दम पर मरीजों के इलाज से न करें आनाकानी◾ED ऑफिस तक पहुंचा कोरोना, 5 अधिकारी कोविड-19 से संक्रमित पाए जाने के बाद 48 घंटो के लिए मुख्यालय सील ◾लद्दाख LAC विवाद : भारत-चीन सैन्य अधिकारियों के बीच बैठक जारी◾राहुल गांधी का केंद्र पर वार- लोगों को नकद सहयोग नहीं देकर अर्थव्यवस्था बर्बाद कर रही है सरकार◾वंदे भारत मिशन -3 के तहत अब तक 22000 टिकटों की हो चुकी है बुकिंग◾अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से होगी शुरू,15 दिनों तक जारी रहेगी यात्रा, भक्तों के लिए होगा आरती का लाइव टेलिकास्ट◾World Corona : वैश्विक महामारी से दुनियाभर में हाहाकार, संक्रमितों की संख्या 67 लाख के पार◾CM अमरिंदर सिंह ने केंद्र पर साधा निशाना,कहा- कोरोना संकट के बीच राज्यों को मदद देने में विफल रही है सरकार◾UP में कोरोना संक्रमितों की संख्या में सबसे बड़ा उछाल, पॉजिटिव मामलों का आंकड़ा दस हजार के करीब ◾कोरोना वायरस : देश में महामारी से संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 36 हजार के पार, अब तक 6642 लोगों की मौत ◾प्रियंका गांधी ने लॉकडाउन के दौरान यूपी में 44,000 से अधिक प्रवासियों को घर पहुंचने में मदद की ◾वैश्विक महामारी से निपटने में महत्त्वपूर्ण हो सकती है ‘आयुष्मान भारत’ योजना: डब्ल्यूएचओ ◾लद्दाख LAC विवाद : भारत और चीन वार्ता के जरिये मतभेदों को दूर करने पर हुए सहमत◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 1330 नए मामले आए सामने , मौत का आंकड़ा 708 पहुंचा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

हेट स्पीच वाली याचिका पर दिल्ली पुलिस और AAP सरकार को हाई कोर्ट का नोटिस

दिल्ली हाई कोर्ट ने गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, सलमान खुर्शीद और केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर एवं बीजेपी नेता कपिल मिश्रा पर नफरत भरे भाषण (हेट स्पीच) देने का आरोप को लेकर दायर की गई नई याचिका पर दिल्ली पुलिस और आप सरकार से जवाब मांगा है।

मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति सी हरि शंकर की पीठ ने इस याचिका पर पुलिस और आप सरकार को नोटिस जारी किया। इस याचिका में कथित रूप से नफरत भरे भाषण देने को लेकर इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग भी की गई है। याचिका में पिछले महीने उत्तर पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा में संपत्ति को पहुंचे नुकसान का आकलन करने के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित करने की मांग की गयी है। 

दिल्ली हिंसा : शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल की हत्या के मामले में सात लोग गिरफ्तार

पीठ ने दिल्ली सरकार और पुलिस से 16 मार्च तक जवाब मांगा है और इस मामले को ऐसी ही अन्य सभी याचिकाओं के साथ 20 मार्च के लिए सूचीबद्ध कर दिया है। नफरत भरे भाषण से जुड़े अन्य मामलों में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने जवाब दाखिल करने के लिए 16 मार्च तक का वक्त मांगा था। अदालत ने उनकी मांग मान ली थी। 

नफरत भरे भाषण के संबंध में अन्य याचिकाओं में एक सामाजिक कार्यकर्ता हर्ष मंदर की याचिका है जिसमें कथित रूप से नफरत भरे भाषण देने को लेकर बीजेपी नेताओं के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की गयी है। लॉयर्स व्वॉयस नामक एक संगठन की एक अन्य अर्जी में सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी समेत कई नेताओं पर नफरत भरे भाषण देने के लिए प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की गयी है। 

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की बृंदा करात ने भी हाई कोर्ट में दो अर्जियां लगा रखी हैं। एक अर्जी में दिल्ली की हाल की हिंसा में गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों की सूची सार्वजनिक करने की मांग की गयी है। दूसरे में निचली अदालत को चुनौती दी गयी है, दरअसल निचली अदालत ने पुलिस को कथित रूप से नफरत भरे भाषण देने को लेकर बीजेपी नेताओं के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश देने की मांग संबंधी उनकी शिकायत पर फैसला टाल दिया था। 

नवीनतम याचिका दीपक मदान ने दायर की है जिसमें नफरत भरे भाषण देने में कथित रूप से शामिल लोगों की संपत्ति कुर्क करने की मांग की गयी है। याचिकाकर्ता ने सुझाव दिया है कि उनकी संपत्ति बेचकर राष्ट्रीय राजधानी में सांप्रदायिक हिंसा के पीड़ितों की क्षतिपूर्ति की जाए। इस अर्जी में इन नेताओं पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत मामला दर्ज करने की भी मांग की गयी है।