BREAKING NEWS

'Infinity Forum' के उद्घाटन में बोले PM मोदी-डिजिटल बैंक आज एक वास्तविकता◾TOP 5 NEWS 03 दिसंबर : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾विशेषज्ञ का दावा- 'ओमीक्रॉन' वेरिएंट से मरने की आशंका कम, जानें किन अहम कदमों को उठाने की जरूरत ◾SC की फटकार के बाद 17 उड़न दस्तों का हुआ गठन, बारिश के बावजूद 'गंभीर' श्रेणी में बनी है वायु गुणवत्ता ◾Today's Corona Update : देश में मंडरा रहा 'ओमिक्रॉन' वैरिएंट का खतरा, 9216 नए मामलों की हुई पुष्टि ◾लोकसभा : CBI-ED निदेशकों के कार्यकाल वाले बिल को आज पेश करेगी सरकार, विपक्ष कर सकता है विरोध ◾'ओमिक्रॉन' के खतरे के बीच दक्षिण अफ्रीका से जयपुर लौटे एक ही परिवार के 4 लोग कोरोना पॉजिटिव◾कोरोना के मुद्दे पर विपक्ष ने किए केंद्र से सवाल, सदन में उठे महामारी के विभिन्न पहलु, जानें सरकार के जवाब ◾World Corona Update : संक्रमण के कुल मामले 26.41 करोड़, 8.07 अरब लोगों का हुआ टीकाकरण ◾कर्नाटक : 'ओमिक्रॉन' के दो मरीज मिलने के बाद मुख्यमंत्री ने बुलाई उच्च स्तरीय बैठक, अधिकारियों के साथ करेंगे चर्चा ◾ दिल्ली : केंद्र सरकार के नीट पीजी पर लिए गए फैसले के खिलाफ डॉक्टरों ने की हड़ताल, ओपीडी सेवा भी रही प्रभावित ◾कर्नाटक में Omicron के दो मामले आए सामने : एक दक्षिण अफ्रीकी नागरिक, एक स्थानीय व्यक्ति◾विपक्ष ने सरकार को कोरोना के मुद्दे पर घेरा, बूस्टर खुराक पर स्थिति स्पष्ट करने की मांग की◾शीतकालीन सत्रः राज्यसभा से निलंबित सदस्यों के मुद्दे पर सरकार-विपक्ष में हो रही वार्ता◾भारत के पहले Omicron संक्रमित मरीज की ये बात आई सामने, 27 नवंबर को जा चुका है दुबई◾सुरजेवाला का ममता पर पलटवार, पूछा- आपकी प्राथमिकता प्रधानमंत्री के खिलाफ लड़ना है या कांग्रेस के खिलाफ ?◾पंजाबः चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा-हमारी ‘चंगी सरकार’ वादों पर खरी उतरी◾कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट ने भारत में भी दी दस्तक, कर्नाटक में मिले हैं दो मामले◾काले अंग्रेज वाले बयान पर केजरीवाल का चन्नी पर पलटवार, सांवले रंग का व्यक्ति झूठे वादे नहीं करता... ◾केजरीवाल को प्यार करते हैं पंजाब के लोग, चड्ढा बोले- सही समय पर होगी पार्टी के CM पद के चेहरे की घोषणा ◾

बकरीद पर दिखा कोरोना का असर, लॉकडाउन में आम लोगों की आदमनी घटने से बकरों के दामों ने छुआ आसमान

कोरोना महामारी के बीच दिल्ली समेत देश भर में ईद उल अज़हा का त्योहार 21 जुलाई को मनाया जाएगा। बकरीद के मद्देनजर बाजारों में लोग खरीददारी कर रहे है। त्योहार को लेकर लोगों के बीच काफी उत्साह देखने को मिल रहा है। वहीं, कोरोना का असर ईल-उल-अज़हा के मौके पर राष्ट्रीय राजधानी में लगने वाली बकरा मंड़ियों पर पड़ा है। लॉकडाउन में आम लोगों की आदमनी घटी है जबकि महंगाई, खास कर पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ती कीमतों के कारण दूर दराज़ के इलाकों से बकरों को दिल्ली लाने की लगात में इजाफा हुआ है, और बकरा पिछले साल की तुलना में करीब 50 फीसदी तक मंहगा हो गया है।

महामारी की संभावित तीसरी लहर को रोकने के लिए दिल्ली में प्रशासन सख्ती बरत रहा है। ऐसे में पुरानी दिल्ली, सीलमपुर और ओखला समेत अन्य इलाकों में बकरा मंडियों का स्वरूप पिछले सालों जैसा नहीं है। इस बार जानवर कम भी आए हैं, और महंगे हैं। बकरीद बुधवार को मनाया जाएगा। उस दिन मुस्लिम बकरे, दुंबे और अन्य जानवरों की कुर्बानी करते हैं। सीलमपुर में सड़क किनारे लगी मंडी में आए बरेली के आशु ने कहा, “बाजारों को लेकर प्रशासन सख्त है, इसलिए हमने बकरे सस्ते में बेच दिए हैं। हमें घाटा हुआ है। लॉकडाउन में पहले ही हमारी मांस की दुकान कई महीनों तक बंद रही जिस वजह से हमें आर्थिक तौर पर खासी परेशानी हुई, सोचा था कि बकरे बेचने से कुछ कमाई हो जाएगी, लेकिन इसमें भी घाटा हो गया।”

आशु हर साल ईद-उल-अज़हा के मौके पर व्यापार के लिए 30-40 बकरे लेकर दिल्ली के जाफराबाद व सीलमपुर आया करते थे। इस बार वह सिर्फ आठ बकरे ही लेकर आए हैं। दिलशाद गार्डन के रहने वाले जावेद ने 8700 रुपये का बकरा खरीदा है। उनका कहना है कि पिछले साल की तुलना में बकरा इस बार काफी मंहगा है। फर्नीचर का काम करने वाले जावेद बताते हैं, “लॉकडाउन की वजह से पिछले साल और इस साल कई महीनों तक मेरी दुकान बंद रही, जिसका असर कुर्बानी के मेरे बजट पर पड़ा है। मैं अक्सर दो-तीन बकरे खरीदता था, लेकिन इस बार सिर्फ एक ही जानवर खरीदा है।’’

पुरानी दिल्ली के लाल कुएं में रहने वाले और पेशे से वकील युसूफ नकी ने भी यही बात कही। वह कहते हैं, “ कोविड-19 के कारण अदालतें बंद हैं और नियमित मकदमों की सुनवाई नहीं हो रही है, जिस वजह से न मुवक्किल हैं और न फीस है।”

मंडियों में आए कई ग्राहकों का कहना है कि बकरा पिछले साल की तुलना में करीब 50 फीसदी तक मंहगा है। उनका कहना है कि वे मान रहे थे कि लॉकडाउन की वजह से आर्थिक गतिविधियां कम हुई हैं तो जानवरों के दाम कम होंगे।उत्तर प्रदेश में अलीगढ़ के पास स्थित अतरोली से 75 बकरे लेकर जाफरबाद में लगी बकरा मंडी में आए रिज़वान इसका कारण बताते हुए कहते हैं, “ हम लोग ग्रामीणों से बकरा खरीदते हैं, लेकिन इस बार ग्रामीणों ने ही हमें महंगा बकरा दिया है और इसके बाद पेट्रोल-डीज़ल के दाम बढ़ने से बकरों को गांव से दिल्ली लाने की लागत बढ़ी है।’’

लॉकडाउन के कारण आर्थिक गतिविधियां रुकने से कई लोगों के काम खत्म हुए हैं, जिस वजह से वे बकरे बेच रहे हैं। दिल्ली के विजय पार्क इलाके में रहने वाले मोहम्मद नईम इलाके में प्रोपर्टी डीलर का काम करते हैं, लेकिन लॉकडाउन की वजह से कई महीनों से आमदनी नहीं हुई। उन्होंने इस बार बकरे बेचने का फैसला किया है। बरेली से आए रईस बाबू दिहाड़ी मजदूर हैं, लेकिन उन्हें कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन की वजह से कई महीने काम नहीं मिला। लिहाज़ा वह पहली बार बकरे बेचने दिल्ली आए हैं और इस काम को करने के लिए उन्होंने ब्याज पर पैसा लिया है। सीलमपुर मंडी में रईस ने बताया, “ प्रशासन मंडी नहीं लगने दे रहा है, वहीं लॉकडाउन की वजह से ग्राहक भी ज्यादा नहीं हैं। छह बकरे लाए थे, अबतक सिर्फ दो ही बिके हैं।’’

अफगान में जारी है बिगड़े हालातों का संकट, सैन्य जरूरतों पर चर्चा के लिए अगले सप्ताह भारत आएंगे सेना प्रमुख