BREAKING NEWS

वीडियो लिंक के जरिए ब्रिटेन की अदालत में पेश होगा भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी ◾जापान पहुंचे PM मोदी, भारतीय समुदाय ने किया गर्मजोशी से स्वागत ◾14वां G-20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने जापान रवाना हुए PM मोदी◾पाकिस्तान समेत एशिया-प्रशांत समूह के सभी देशों ने किया भारत का समर्थन◾World Cup 2019 PAK vs NZ : पाक ने न्यूजीलैंड का रोका विजय रथ , नाकआउट की उम्मीद बढ़ायी ◾काफिले का मार्ग बाधित करने को लेकर थर्मल पावर के कर्मचारियों पर भड़के कुमारस्वामी ◾जयशंकर ने S-400 समझौते पर पोम्पिओ से कहा : भारत अपने राष्ट्रीय हितों को रखेगा सर्वोपरि◾‘जय श्रीराम’ का नारा नहीं लगाने पर ट्रेन से धकेल दिये गये 3 लोगों को ममता देंगी मुआवजा◾RAW चीफ बने 1984 बैच के IPS सामंत गोयल, अरविंद कुमार बनाए गए IB डायरेक्टर◾कांग्रेस ने राज्यसभा चुनाव में वैष्णव को BJD के समर्थन पर CM से स्पष्टीकरण मांगा ◾बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय का MLA बेटा पहुंचा जेल, अधिकारी से की थी मारपीट◾पलायन रोकने के लिए गांवों का हो विकास : गडकरी◾दुष्कर्म मामले में केरल के CPI (M) नेता के बेटे के खिलाफ जारी किया लुकआउट नोटिस◾कैलाश मानसरोवर तीर्थयात्री नेपाल में फंसे, यात्रा संचालकों पर लगाया कुप्रबंधन का आरोप ◾विपक्ष त्यागे नकारात्मकता, विकास यात्रा में दे सहयोग : पीएम मोदी ◾Top 20 News - 26 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾एक देश एक चुनाव व्यवहारिक नहीं : कांग्रेस ◾नई ऊंचाइयों पर पहुंच रही है अमेरिका-भारत के बीच साझेदारी : माइक पोम्पियो◾दुखद और शर्मनाक है बिहार में चमकी बुखार से हुई बच्चों की मौत : PM मोदी ◾इंदौर: BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश ने नगर निगम अफसरों को बल्ले से पीटा◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

दिल्ली कोर्ट ने सांसद रमेश बिधूड़ी को साल 2004 के मारपीट मामले में किया बरी

दिल्ली की एक अदालत ने भाजपा सांसद रमेश बिधूड़ी को वर्ष 2004 में एक कार्यक्रम के दौरान एक व्यक्ति से मारपीट के मामले में बरी कर दिया । 

अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल ने कहा कि गवाहों की गवाही में विरोधाभास है इसलिए दक्षिण दिल्ली के सांसद बिधूड़ी और उनके चार सहयोगियों को आईपीसी की धारा 323 (जानबूझकर चोट पहुंचाने) और 34 (समान मंशा से कुछ लोगों द्वारा किया गया कृत्य) के तहत आरोपों से दोषमुक्त कर दिया। 



अदालत ने अस्पताल द्वारा चिकित्सा विधि प्रमाणपत्र (एमएलसी) न होने का भी उल्लेख किया जिससे साबित हो कि शिकायतकर्ता के साथ मारपीट की गयी। 

अदालत ने कहा कि चूंकि यह मामला मारपीट का है, जहां शिकायतकर्ता ने निर्ममता से पिटाई करने का आरोप लगाया है ऐसे में एमएलसी के अभाव में अभियोजन का मामला साबित नहीं हो पाता ।