BREAKING NEWS

ईरान में कोरोना संकट के बीच फंसे 275 भारतीयो को दिल्ली लाया गया ◾कोरोना वायरस से अमेरिका में संक्रमितों की संख्या 121,000 के पार हुई, अबतक 2000 अधिक से लोगों की मौत ◾कोरोना संकट : देश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1000 के पार, मौत का आंकड़ा पहुंचा 24◾कोरोना महामारी के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे मन की बात◾कोरोना : लॉकडाउन को देखते हुए अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की◾इटली में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 10,000 के पार, 92,472 लोग इससे संक्रमित◾स्पेन में कोरोना वायरस महामारी से पिछले 24 घंटों में 832 लोगों की मौत , 5,600 से इससे संक्रमित◾Covid -19 प्रकोप के मद्देनजर ITBP प्रमुख ने जवानों को सभी तरह के कार्य के लिए तैयार रहने को कहा◾विशेषज्ञों ने उम्मीद जताई - महामारी आगामी कुछ समय में अपने चरम पर पहुंच जाएगी◾कोविड-19 : राष्ट्रीय योजना के तहत 22 लाख से अधिक सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा कर्मियों को मिलेगा 50 लाख रुपये का बीमा कवर◾कोविड-19 से लड़ने के लिए टाटा ट्रस्ट और टाटा संस देंगे 1,500 करोड़ रुपये◾लॉकडाउन : दिल्ली बॉर्डर पर हजारों लोग उमड़े, कर रहे बस-वाहनों का इंतजार◾देश में कोविड-19 संक्रमण के मरीजों की संख्या 918 हुई, अब तक 19 लोगों की मौत ◾कोरोना से निपटने के लिए PM मोदी ने देशवासियों से की प्रधानमंत्री राहत कोष में दान करने की अपील◾कोरोना के डर से पलायन न करें, दिल्ली सरकार की तैयारी पूरी : CM केजरीवाल◾Coronavirus : केंद्रीय राहत कोष में सभी BJP सांसद और विधायक एक माह का वेतन देंगे◾लोगों को बसों से भेजने के कदम को CM नीतीश ने बताया गलत, कहा- लॉकडाउन पूरी तरह असफल हो जाएगा◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान - लॉकडाउन के दौरान राज्य आपदा राहत कोष से मजदूरों को मिलेगी मदद◾वुहान से भारत लौटे कश्मीरी छात्र ने की PM मोदी से बात, साझा किया अनुभव◾लॉकडाउन को लेकर कपिल सिब्बल ने अमित शाह पर कसा तंज, कहा - चुप हैं गृहमंत्री◾

निर्भया के दोषियों को फांसी देने वाले पवन जल्लाद ने कहा- फांसी देकर अपना धर्म निभाया

निर्भया रेप केस और हत्या मामले में आरोपी चारों दोषियों को सात साल के लंबे इंतजार के बाद शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के आदेश अनुसार दिल्ली के तिहाड़ जेल में फांसी दे दी गई। जिसका स्वागत पूरे भारत ने किया। वहीं निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटकाने वाले पवन जल्लाद ने उस स्थिति के बारे में बताते हुए कहा कि फांसी घर में किसी को बोलने की अनुमति नहीं होती जिस वजह से वहा केवल इशारो में ही निर्देश दिए जा रहे थे।

उन्होंने कहा कि यह हमारा पुश्तैनी काम है। मैंने दोषियों को फांसी देकर अपना धर्म निभाया। लेकिन आमतौर पर फांसी से पहले आरोपियों को पश्चाताप होता है। लेकिन उन दरिंदो में से किसी में भी यह नहीं दिखा। पवन ने बताया की वह 17 मार्च को तिहाड़ जेल आये थे और यहां उन्होंने डमी पर ट्रायल किया था। सबसे पहले फांसी के फंदो को दही और मक्खन पिलाकर मुलायम किया गया।

निर्भया मामला : दोषियों को फांसी देने के बाद तिहाड़ के बाहर लगे ‘निर्भया अमर रहे’, ‘भारत माता की जय’ के नारे, बांटी गई मिठाइयां

फांसी वाले दिन भी ऐसे ही फंदो को दुरुस्त किया गया। पवन ने आगे कहा सबसे पहले अक्षय और मुकेश को फांसी घर में लाया गया। फिर पवन और विनय को तख्ते पर ले जाया गया। हर गुनहगार के लिए पांच- पांच बंदीरक्षक लगाए गए थे। उन लोगो को एक-एक कर तख्ते पर ले जाकर खड़ा किया गया। 

इसके बाद चारों आरोपियों के फंदे को दो लीवर से जोड़ा गया और उनके चेहरे पर कपड़ा डाला साथ ही फंदा लटकाकर संतुष्टि की गई। और फिर समय के अनुसार जेल अफसर के इशारे पर लीवर खींच दिया गया और उन्हें फांसी दे दी गई।