BREAKING NEWS

भाजपा की यात्रा तब पूरी होगी, जब असम जीडीपी में सर्वाधिक योगदान देने वाला राज्य बनेगा : अमित शाह◾चीन के बाद पाकिस्तान भी पड़ा नरम, सभी एलओसी समझौतों के सख्ती से पालन पर हुआ सहमत ◾प्रधानमंत्री बोले-कांग्रेस झूठ बोलने में गोल्ड, सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल विजेता◾पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के खिलाफ CM ममता का अनूठा विरोध, ई-स्कूटर पर बैठकर पहुंचीं सचिवालय◾महाराष्ट्र में बेकाबू हुआ कोविड-19, एक हॉस्टल में 229 छात्र कोरोना से संक्रमित पाए गए ◾BJP अध्यक्ष नड्डा ने लॉन्च किया 'सोनार बांग्ला' कैंपेन, 2 करोड़ लोगों से संपर्क साधेगी पार्टी◾पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव से पहले PM मोदी ने लोगों को दी विभिन्न विकास परियोजनाओं की सौगात ◾आम आदमी पर महंगाई की मार, 1 महीने में तीसरी बार LPG सिलेंडर के दामों में हुआ इजाफा ◾टूलकिट मामला : शांतनु मुलुक की गिरफ्तारी पर नौ मार्च तक लगी रोक◾Coronavirus : देश में 1 महीने बाद दर्ज हुए 15 हजार से ज्यादा नए केस, 138 मरीजों ने गंवाई जान◾ट्रेन यात्रियों को लगा झटका, रेलवे ने अनावश्यक यात्राओं में कमी लाने के लिए किराए में वृद्धि की◾दिल्ली में बीते 15 साल में सबसे गर्म दिन रहा बुधवार, अधिकतम तापमान 32.5 डिग्री सेल्सियस रहा ◾असदुद्दीनद्दीन ओवैसी की कोलकाता में होने वाली रैली के लिए पुलिस ने इजाजत देने से किया इनकार ◾TOP - 5 NEWS 25 FEBRUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾किसान प्रदर्शन के 3 महीने पूरे होने पर 26 फरवरी को कृषि मंत्रालय का करेंगे घेराव : कांग्रेस ◾कांग्रेस ने हमेशा मतदाताओं और चयन की उनकी आजादी का सम्मान किया : कपिल सिब्बल ◾निजीकरण के लिए प्रतिबद्ध है केंद्र, व्यवसाय करना सरकार का काम नहीं : PM मोदी ◾आज का राशिफल (25 फरवरी 2021)◾1 मार्च से 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को लगेगा टीका , जानें ! क्या हैं नए नियम ◾ममता ने PM मोदी को खत लिख सबके लिए टीके खरीदने में मदद मांगी ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

राकांपा अध्यक्ष शरद पवार बोले- दिल्ली में जो कुछ हुआ, उसका समर्थन नहीं किया जा सकता

https://punjabkesari.com/delhi-ncr/united-kisan-morcha-condemned-violence-erupted-during-tractor-parade-in-delhi/दिल्ली में किसान की ट्रेक्टर रैली के बेकाबू हो जाने के मद्देनजर राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने मंगलवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में जो कुछ हुआ, उसका समर्थन नहीं किया जा सकता लेकिन उन कारणों को भी नरअंदाज नहीं किया जा सकता जिनकी वजह से ऐसी स्थिति उत्पन्न हुई। उन्होंने किसानों पर बल प्रयोग को लेकर सरकार को आगाह भी किया। 

पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री ने केंद्र सरकार से कहा कि वह नए कृषि कानूनों को रद्द करने के मुद्दे पर किसानों से वार्ता करे और मुद्दे पर अपना ‘‘अड़ियल रवैया’’ छोड़े। पवार ने यहां पत्रकारों से कहा कि यदि केंद्र ने प्रदर्शनकारियों पर बल प्रयोग किया तो पंजाब में अशांति उत्पन्न हो सकती है, इसलिए मोदी सरकार को यह ‘पाप’ नहीं करना चाहिए। 

उन्होंने कहा कि किसानों ने ट्रैक्टर रैली निकाली तो केंद्र और कानून व्यवस्था से जुड़े लोगों से उम्मीद थी कि वे उनसे संवेदनशील तरीके से निपटें, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पवार ने कहा कि दो महीने से प्रदर्शन कर रहे किसानों को आहत किए बिना किसानों की मांगों पर कोई रास्ता निकाला जाना चाहिए था। राकांपा नेता ने कहा कि उन्हें जो सूचना मिली है, उसके अनुसार ट्रैक्टर परेड के लिए किसानों पर कड़ी शर्तें लगाई गई थीं। 

उन्होंने कहा कि प्रदर्शनकारियों से उनके 50-60 दिन के आंदोलन और उनके धैर्य को ध्यान में रखकर निपटा जाना चाहिए था, लेकिन अधिकारियों ने एक अलग नजरिया अपनाया जिससे स्थिति खराब हुई। पवार ने कहा कि आज हुई घटनाओं का कोई बचाव नहीं कर सकता, लेकिन यह क्यों हो रहा है, कोई इसे नजरअंदाज नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि केंद्र को किसानों से वार्ता करनी चाहिए और उनकी मांगों पर गंभीरता से विचार कर निर्णय करना चाहिए। 

पवार ने कहा कि यदि ऐसा नहीं होता है और केंद्र बल प्रयोग की कोशिश करता है तो पूर्व में अशांत रह चुका और अब इससे उबर चुका पंजाब पुन: अशांति की ओर बढ़ सकता है तथा मोदी सरकार को यह ‘पाप’ नहीं करना चाहिए। मुंबई में सोमवार को हुए किसानों के प्रदर्शन का जिक्र करते हुए पवार ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार स्थिति से धैर्य के साथ निपटी और यही केंद्र को दिल्ली में करना चाहिए था। 

राकांपा नेता ने कहा कि यदि केंद्र को लगता है कि बल प्रयोग से मुद्दा सुलझ सकता है तो यह सोचना गलत है। उन्होंने कहा कि वह संसद सत्र से पहले अन्य विपक्षी नेताओं के साथ मुद्दे पर चर्चा करेंगे क्योंकि दिल्ली में जो हुआ, उसकी अनदेखी नहीं की जा सकती। पवार ने एक सवाल के जवाब में कहा कि प्रधानमंत्री को चाहिए था कि वह पूर्व में ही स्थिति का संज्ञान लेते और प्रदर्शनकारी किसानों से बात करते। उन्होंने पूछा कि दिल्ली के पास प्रदर्शन कर रहे किसानों से बात करने में क्या कठिनाई थी? 

संयुक्त किसान मोर्चा ने की दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान भड़की हिंसा की निंदा