BREAKING NEWS

देश में कोरोना संक्रमण ने पकड़ी रफ़्तार, एक दिन में 19 हजार के करीब नए मामले दर्ज◾'काली' पोस्टर के बाद डायरेक्टर लीना ने किया नया Tweet, BJP बोली- यह जानबूझकर उकसावे का मामला◾PM मोदी आज वाराणसी में अखिल भारतीय शिक्षा समागम का करेंगे उद्घाटन ◾आज का राशिफल ( 07 जुलाई 2022)◾नकवी और आरसीपी सिंह ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से दिया इस्तीफा ; स्मृति ईरानी बनीं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री, सिंधिया को मिला इस्पात मंत्रालय◾एकनाथ शिंदे ने शरद पवार से मुलाकात का किया खंडन ◾दक्षिणी राज्यों की चार दिग्गज हस्तियां राज्यसभा के लिये मनोनीत◾देवी काली विवाद : Twitter ने निर्देशक का Tweet हटाया, महुआ मोइत्रा के खिलाफ FIR दर्ज◾PM मोदी 12 जुलाई को देवघर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, एम्स का करेंगे उद्घाटन ◾राष्ट्रपति ने नकवी और इस्पात मंत्री रामचंद्र प्रसाद सिंह के इस्तीफे को किया मंजूर◾Lalu Yadav Health : लालू को बेहतर उपचार के लिए दिल्ली के एम्स लाया जा रहा है - तेजस्वी ◾'भारत में रोजाना विमान संबंधी करीब 30 घटनाएं घटती हैं, अधिकतर में कोई सुरक्षा संबंधी परिणाम नहीं'◾ शिवसेना की टीम ठाकरे ने लोकसभा में बदला पार्टी का चीफ व्हिप, भावना गवली की जगह राजन विचारे हुए नामित◾COVID-19: कोविड-19 टीके की दूसरी एवं एहतियाती खुराक के बीच अंतराल घटाकर छह माह किया गया◾ Farooq Abdullah News: अपने घर रखना... 'हर घर तिरंगा' के सवाल पर फारूक अब्दुल्ला का अजीबों खरीब बयान◾Kerala resigns News: केरल के मंत्री साजी चेरियन ने मुख्यमंत्री को दिया अपना इस्तीफा, जानें- ऐसा क्यों किया? ◾ Rajasthan Politics: राजस्थान में चढ़ा सियासी पारा, अशोक गहलोत ने बताया क्यों कहते हैं सचिन पायलट को 'निकम्मा'◾LPG Price Hike: जनता के बजट पर महंगाई का बुलडोजर चला रही केंद्र....., कांग्रेस ने साधा BJP पर निशाना ◾Shiv Sena Crisis: शिंदे होंगे बाला साहेब के उत्तराधिकारी? बागी विधायक ने किया बड़ा दावा, जानें क्या कहा ◾ मुख्तार अब्बास नकवी और आरसीपी सिंह ने कैबिनेट पद से किया रिजाइन, PM मोदी से मुलाकात बाद लिया ये फैसला◾

खोई हुई ताकत पाने में जुटा डेरा सच्चा सौदा

साध्वियों का देहशोषण करने के जुर्म में हरियाणा के रोहतक के समीप सुनारिया जेल में लंबी सजा भुगत रहे गुरमीत राम रहीम के अनुयायी प्रेमी उनके डेरा सच्चा सौदा की खोई हुई ताकत को लोकसभा चुनाव के मौके पर फिर से पाने में जुटे हैं। सूत्रों ने बताया कि डेरा प्रमुख को अगस्त 2017 में सजा हो जाने के बाद डेरा सच्चा सौदा बिखर गया। इसका प्रबंधन अस्त-व्यस्त हो गया।

डेरा र्प्रेमियों में भी बिखराव आ गया जिससे डेरा समाप्ति के कगार पर पहुंच गया। अब लोकसभा चुनाव के मौके पर डेरा प्रमुख के अनुयाई डेरे का अस्तित्व बचाने और अपनी राजनीतिक ताकत दर्शान के लिये सक्रिय हो गए हैं, इसी के मद्देनजर वे डेरा प्रेमियों के साथ बैठकें-सभाएं कर रहे हैं। इसके लिए डेरा प्रबंधन से जुड़े लोगों ने तीन स्तरीय रणनीति बनाई है।

यह रणनीति कारगर हो सकती है अगर डेरा प्रेमियों का सकारात्मक रुख दिखाई दे। जानकारों के अनुसार चुनाव के मौके पर एकजुटता दिखाने का उद्देश्य डेरा प्रेमी फिर से अपनी राजनीतिक ताकत भी जाहिर करना चाहते हैं। इस सम्बन्ध में डेरे के सूत्रों ने बताया-‘चाहे पहले की अपेक्षा डेरे का रुतबा एवं प्रभाव कुछ कम हुआ हो, बावजूद इसके कोई भी डेरा प्रबंधन का पदाधिकारी किसी भी राजनीतिक दल या नेता के पास नहीं जायेगा। कोई नेता चलकर डेरे वालों के पास आयेगा तब भी उसे आशीर्वाद मिलेगा या नहीं, यह अभी कुछ भी तय नहीं है।’

आयकर विभाग ने मांगी डेरा सच्चा सौदा की संपत्ति की रिपोर्ट

डेरा सूत्रों ने बताया कि गत वर्ष राजस्थान सहित तीन राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान डेरे की राजनीतिक शाखा किसी भी राजनीतिक दल के समर्थन करने के बारे में कोई फैसला नहीं कर पायी थी। तब अनुयायियों को एक संदेश दिया गया था कि वे अपने विवेक के अनुसार निर्णय लेने को स्वतंत्र हैं, लेकिन एक हिदायत जरूर दी गई थी कि एक खंड के अनुयायी सर्वसम्मति से अपने स्तर फैसले में एकरूपता बनायें कि उन्हें किसका समर्थन करना है। लिहाजा विधानसभा चुनाव में खंड स्तर पर अनुयायियों ने अपने विवेक और सर्वसम्मति से फैसला किया और उस पर अमल भी किया।