BREAKING NEWS

महागठबंधन में फूट : कांग्रेस बोली - मिले सम्मानजनक सीट नहीं तो 243 सीटों पर लड़ेंगे◾कृषि विधेयकों के मुद्दे पर अकाली दल ने NDA से तोड़ा 22 साल पुराना गठबंधन◾PM मोदी ने श्रीलंका में अल्पसंख्यक तमिलों के लिये सत्ता में भागदारी की हिमायत की◾देश के हितों की रक्षा करने में अपने सशस्त्र बलों की क्षमता पर विश्वास करने की जरूरत है : जयशंकर ◾KKR vs SRH (IPL 2020) : केकेआर ने सनराइजर्स हैदराबाद को 7 विकेट से हराया◾देश में कोरोना वायरस का कहर जारी, संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब पहुंची◾UN के मंच से पीएम मोदी की नसीहत, कोरोना महामारी से निपटने में संयुक्त राष्ट्र कहां है? ◾संयुक्त राष्ट्र के मंच से पीएम मोदी का संबोधन: UN की निर्णायक इकाई से भारत को आखिर कब तक दूर रखा जाएगा◾अमित शाह ने लद्दाख के जन प्रतिनिधियों से की मुलाकात◾ड्रग केस : श्रद्धा कपूर, सारा अली खान से एनसीबी की पूछताछ खत्म, किसी को नया समन नहीं भेजा गया ◾राहुल ने किया केंद्र से आग्रह : प्रस्तावित कृषि कानूनों को वापस ले सरकार, एमएसपी की गारंटी दे◾ड्रग्स केस : एनसीबी के सामने दीपिका पादुकोण ने कबूली ड्रग चैट की बात, पांच घंटे तक हुई पूछताछ ◾वैज्ञानिकों ने हर मुश्किल और सामने आई सभी चुनौतियों को अवसर में बदला है: हर्षवर्धन◾वीरेंद्र सहवाग ने CSK का उड़ाया मजाक, कहा - टीम के बल्लेबाजों को ग्लूकोज चढ़वाने की जरूरत ◾भारत ने श्रीलंका में अल्पसंख्यक तमिलों के लिये सत्ता में भागदारी की हिमायत की : विदेश मंत्रालय◾BJP की नई टीम का ऐलान, राम माधव सहित 4 महासचिव बदले, देखें पूरी लिस्ट◾कांग्रेस का तीखा वार : श्रम सुधार संबंधी संहिताएं मजूदर विरोधी, सरकार के ‘डीएनए में’ है निर्णय थोपना◾ड्रग केस : अभिनेत्री श्रद्धा कपूर और सारा अली खान पर एनसीबी ने दागे तीखे सवाल , पूछताछ जारी◾पाकिस्तानी सेना ने एक बार फिर राजौरी में LOC पर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया ◾पीएम मोदी UNGA को आज करेंगे संबोधित, आतंकवाद समेत इन मुद्दों पर होगी चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

भारतीय वायुसेना के पूर्व विंग कमांडर थे दुर्घटनाग्रस्त एयर एशिया एक्सप्रेस के विमान के पायलट कैप्टेन साठे

मुंबई : केरल के कोझिकोड हवाईअड्डे पर शुक्रवार को हुई विमान दुर्घटना में 17 अन्य लोगों के साथ जान गंवाने वाले कैप्टन दीपक साठे 1990 के दशक की शुरूआत में एक हवाई दुर्घटना में बाल-बाल बचे थे। उस वक्त वह भारतीय वायुसेना में थे और चोटों के चलते उन्हें छह महीने अस्पताल में भर्ती रहना पड़ा था। कैप्टन दीपक साठे के एक रिश्तेदार ने यह जानकारी देते हुए बताया कि उस दुर्घटना में साठे के सिर में चोट लगी थी, लेकिन अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति और जज्बे के चलते वह उड़ान जांच की बाधा को पार गये और फिर से विमान उड़ाना शुरू कर दिया। 

दुबई से आ रहा एअर इंडिया एक्सप्रेस का एक विमान शुक्रवार रात भारी बारिश के बीच कोझिकोड हवाईअड्डे पर उतरने के दौरान हवाईपट्टी से फिसल गया और 35 फुट गहरी खाई में जा गिरा तथा उसके दो हिस्से हो गए। विमान में 190 लोग सवार थे। कैप्टन साठे और उनके सह पायलट अखिलेश कुमार इस दुर्घटना में मारे गये लोगों में शामिल हैं। साठे भारतीय वायुसेना के पूर्व विंग कमांडर थे और उन्होंने बल के उड़ान परीक्षण प्रतिष्ठान में सेवा दी थी। 

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) में वित्तीय सलाहकार के पद पर कार्यरत उनके करीबी रिश्तेदार नीलेश साठे ने एक फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘‘यह मानना मुश्किल है कि वह अब नहीं रहे। वह दुबई से वंदे भारत अभियान के तहत यात्रियों को लाने वाले एअर इंडिया एक्सप्रेस के उस विमान के पायलट थे, जो कल रात कोझिकोड अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे की हवाईपट्टी पर फिसल गया। ’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘दीपक के पास 36 साल का उड़ान अनुभव था। वह एनडीए (राष्ट्रीय रक्षा अकादमी) से थे, 58 वें पाठ्यक्रम के टॉपर थे और ‘सोर्ड ऑफ ऑनर’ से सम्मानित किये गये थे। दीपक ने 2005 में एअर इंडिया के साथ वाणिज्यिक पायलट के तौर पर जुड़ने से पहले भारतीय वायुसेना में 21 साल सेवा दी। उन्होंने हफ्ते भर पहले ही मुझसे फोन पर बात की थी और हमेशा की तरह खुश थे। ’’ 

केरल विमान हादसा : राज्य सरकार ने मृतकों के परिजन के लिए दस लाख रुपये मुआवजे का किया ऐलान

उन्होंने बताया, ‘‘जब मैंने उनसे वंदे भारत अभियान के बारे में पूछा, तब उन्होंने अरब देशों से हमारे देशवासियों को लाने में गर्व महसूस होने की बात कही। मैंने उनसे पूछा, दीपक क्या आप खाली विमान ले कर जाते हैं क्योंकि उन देशों में यात्रियों को प्रवेश की अनुमति नहीं दी जा रही? उनका जवाब था, ‘‘नहीं, हम फल, सब्जी, दवा आदि इन देशों में ले जाते हैं और कभी भी इन देशों में खाली विमान नहीं जाता। यह मेरी उनसे आखिरी बातचीत थी। ’’ 

साठे के रिश्तेदार ने कहा, ‘‘वह 1990 के दशक की शुरूआत में जब भारतीय वायुसेना में थे तब एक हवाई दुर्घटना में बाल-बाल बच गये थे। उनके सिर में कई चोटें आईं और वह छह महीने तक अस्पताल में भर्ती रहे थे। तब किसी ने यह नहीं सोचा था कि वह फिर से विमान उड़ा सकेंगे। लेकिन यह उनकी दृढ़ इच्छा शक्ति और उड़ान के प्रति प्रेम ही था कि उन्होंने उड़ान जांच की बाधा पार कर ली। यह एक करिश्मा था। ’’ 

उनके मुताबिक, कैप्टन साठे के परिवार में उनकी पत्नी और दो बेटे हैं। दोनों बेटों ने आईआईटी बंबई से पढ़ाई की है। उन्होंने बताया कि कैप्टन साठे ब्रिगेडियर वसंत साठे के बेटे थे, जो नागपुर में रहते थे। उनके भाई कैप्टन विकास भी सेना में थे, जिन्होंने जम्मू क्षेत्र में सेवारत रहने के दौरान अपने प्राण न्यौछावर कर दिये। इस बीच, एअर इंडिया सूत्रों ने कहा कि एयरलाइन साठे के छोटे बेटे को स्वदेश लाने का इंतजाम कर रही है, जो अमेरिका में रह रहे हैं। 

कोझिकोड विमान हादसा : जान गंवाने वाला एक यात्री निकला कोरोना वायरस पॉजिटिव