BREAKING NEWS

अयोध्या मामला : सुप्रीम कोर्ट ने ‘निर्वाणी अखाड़ा’ को लिखित नोट दाखिल करने की दी इजाजत ◾राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले- किसी भी आतंकवादी या नौकरशाह ने अपना बच्चा आतंकवाद में नहीं खोया◾PMC बैंक घोटाला : 24 अक्टूबर तक बढ़ी आरोपी राकेश वधावन और सारंग वधावन की हिरासत◾सोशल मीडिया अकाउंट को आधार से जोड़ने के सभी मामले सुप्रीम कोर्ट में ट्रांसफर◾मोदी से मिले नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी, PM ने मुलाकात के बाद किया ये ट्वीट ◾J&K और लद्दाख के सरकारी कर्मचारियों को केंद्र का दिवाली तोहफा, 31 अक्टूबर से मिलेगा 7th पेय कमीशन का लाभ ◾राजनाथ सिंह बोले- नौसेना ने यह सुनिश्चित करने के लिए सतर्कता बरती कि 26/11 दोबारा न होने पाए◾राज्यपाल जगदीप धनखड़ का बयान, बोले-ऐसा लगता है कि पश्चिम बंगाल में किसी प्रकार की सेंसरशिप है◾भारतीय सेना ने पुंछ में LoC के पास मोर्टार के तीन गोलों को किया निष्क्रिय◾INX मीडिया भ्रष्टाचार मामले में पी.चिदंबरम को मिली जमानत◾गृहमंत्री अमित शाह का आज जन्मदिन, PM मोदी सहित कई नेताओं ने दी बधाई◾अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट करेगा तय, समझौता या फैसला !◾पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बिगड़ी तबीयत, अस्पताल में भर्ती◾Exit Poll : महाराष्ट्र और हरियाणा में भाजपा की प्रचंड जीत के आसार◾अनुच्छेद 370 हटाने के भारत के उद्देश्य का करते हैं समर्थन, पर कश्मीर में हालात पर हैं चिंतित : अमेरिका◾चुनाव के बाद एग्जिट पोल के नतीजे, भाजपा ने राहुल को मारा ताना ◾पकिस्तान द्वारा डाक मेल सेवा पर रोक लगाने के लिए रवि शंकर प्रसाद ने की आलोचना ◾सम्राट नारुहितो के राज्याभिषेक समारोह में शामिल होने जापान पहुंचे राष्ट्रपति कोविंद ◾गृह मंत्री अमित शाह से मिले CM कमलनाथ, केंद्र से 6,600 करोड़ रुपये की सहायता मांगी ◾पाकिस्तान ने भारत के साथ डाक सेवा बंद की, भारत ने अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन बताया ◾

पंजाब

आस्ट्रेलिया में पंजाबी नौजवान के कातिलों को मिली सजा से खुश नही है पंजाब के लोग

लुधियाना-संगरूर : सात समुद्र पार बसे आस्ट्रेलिया के ब्रिसबेन शहर में दो साल पहले मारे गए पंजाबी नौजवान मनमीत अलीशेरा के कातिलों को अदालती मुकदमे के लिए अयोगय करार दिए जाने की घोषणा के उपरांत पंजाब से जुड़े उसके वारिसों और चाहनेवालों के लिए आज का दिन काफी दुखदाई था।

पंजाब के जिला संगरूर स्थित गांव अलीशेरा में जन्मे मनमीत के पिता श्री रामस्वरूप जी शिक्षा विभाग में अध्यापक के तौर पर कार्य करते रहे है और उनकी माता श्रीमती किशनदीप कौर भी उच्च विचारों की महिला है, जिन्होंने मनमीत को मन के मीत और जग के मीत बनाने की तरफ प्रेरित किया और मनमीत भी हमेशा समाज को बदलने की सोच रखता था और इसी सोच के चलते उसने 12वी की परीक्षा के बाद कलामंच के माध्यम से समाज को नई सोच देने का जरिया बनाया।

आधुनिक बेरोजगार गुरूजनों ने गुरू की नगरी में किया प्रदर्शन, भीख मांगने के साथ-साथ किए बूट पालिश

नाटक और रंगमंच में अपनी कला को निखारते हुए खालसा कालेज पटियाला से साइंस और ग्रेजुएशन करने के बाद 2006 में इंटर यूनिवर्सिटी मुकाबलों में मनमीत के द्वारा खेला गया नाटक देश भर में दूसरे स्थान पर रहा। और इसके अलावा साहित्य की दुनिया में अपना रास्ता कायम रखते हुए उसने स्वयं के द्वारा लिखे गए सैकड़ों गीत भी मंच की हाजिरी में गाएं। इसी होनहार नौजवान और उभरते गायक मनमीत अलीशेरा को एक गोरे सिरफिरे ने 28 अक्तूबर 2016 को उस वक्त आग लगाकर कत्ल कर दिया था, जब वह प्रतिदिन की तरह सिटी बस में सवार सवारियों को मारूका से लेकर वापिस ब्रिसबेन शहर आ रहा था।

ब्रिसबेन के अदालती जार्ज स्टरीट कोम्पलैक्स की पांचवी मंजिल के कमरा न. 10 में जज साहिबान मैडम डालटन की अध्यक्षता में इस मुकदमे की कानूनी कारवाई शुरू हुई तो उनके साथ मनोविज्ञानिक सहायक जज डॉ एफटी वर्गिस और डॉ ईएन मेक्वी ने अपने विचार बताएं। जज ने 4 डॉक्टरों और 2 सहायक मनोविज्ञानिक डॉक्टरों के साथ सहमति देते हुए अपने फैसले में आरोपी को मानसिक रोगी माना और मेनटल हैल्थ अस्पताल में कम से कम 10 साल से अधिक दिमागी बीमारी से संबंधित रोगियों को रखने वाले सुरक्षात्मक स्थान पर रखने का हुकम दिया। अदालत ने आज मनमीत के पिता रामस्वरूप सिंह, अमित शर्मा और दोस्त विनरजीत गोलडी, जिनका संबंध पंजाब के संगरूर से है, अपने अन्य दोस्तों के साथ उपस्थित थे।

पंजाब : पत्नी के अवैध संबधों का पता चलते ही NRI ने पति, पत्नी और बच्चों समेत खुद को जिंदा जलाया

मनमीत अलीशेरा की मौत के बाद उसके कातिल को दी गई सजा से असहमति जताते हुए पंजाब भर में आक्रोश की लहर है। संगरूर के गांव अलीशेरा के गांववासियों का स्पष्ट कहना है कि यह समस्त मामला नस्ली हिंसा का है।

मनमीत के चाचा के लडक़े वरिंद्र और हरप्रीत ने कहा कि उनके भाई का किसी से वैरभाव नही था, उन्होंने घअना के संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि 29 वर्षीय मनमीत पर अचानक बस में सवार 48 वर्षीय गोरे ने बस पर चढ़ते ही ज्वलनशील पदार्थ फेंककर आग लगाई थी, जिससे मनमीत की मौके पर ही मौत हो गई। उल्लेखनीय है कि मनमीत ब्रिसबेन में पंजाबी साहित्य और उभरते गायक के तौर पर जाना-पहचाना नाम था और उसके मिलनसार स्वभाव के चलते पंजाबी लोग उसे बेहद प्यार करते थे।

मनमीत 8 साल पहले पढ़ाई की खातिर आस्ट्रेलिया चला गया था और मौत से 6 माह पहले ही उसे बस सर्विस कंपनी में बतौरे ड्राइवर का काम करने का लाइसेंस प्राप्त हुआ था। फिलहाल मनमीत के चाहने वाले न्याय प्राप्त करने के लिए ऊपरी अदालत में जाने का मन बना रहे है।

- सुनीलराय कामरेड