BREAKING NEWS

TIME मैगजीन ने यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की को चुना 'पर्सन ऑफ द ईयर◾Rajasthan News: भाजपा ने मंत्री की कथित वीडियो क्लिप को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, जानें पूरा मामला ◾ गुजरात रिजल्ट तय करेगा गहलोत-हार्दिक समेत इन 3 नेताओं का भविष्य◾HP Election Result: नतीजों से पहले ही कांग्रेस का एक्शन, चौपाल प्रखंड के 30 नेताओं को किया निष्कासित ◾आरबीआई के गवर्नर ने कहा- जी20 फाइनेंस ट्रैक का हिस्सा RBI ◾Bogtui massacre: मारे गए तृणमूल नेता वाडू शेख के भाई को सीबीआई ने किया अरेस्ट ◾दिल्ली के मुस्लिम अरविंद केजरीवाल से है खफा, आज पता चल गया◾सीएम ममता ने कहा- केन्द्र सरकार जबरन विधेयक पारित करा रहा... संसदीय लोकतंत्र के भविष्य को लेकर डर◾CM हिमंत ने कहा : अगर विधानसभा चुनाव नहीं होते तो MCD...पर ज्यादा ध्यान दे पाती भाजपा◾कोरोना महामारी को लेकर चीन सरकार का बड़ा ऐलान- कोविड 19 से जुड़ी पाबंदियों में दी ढील◾त्रिपुरा में BSF-BGB की बैठक शुरू, बॉर्डर पार अपराध से निपटने पर होगी चर्चा◾CM ममता का आरोप, बोलीं- केन्द्र जबरन विधेयक करा रहा है पारित◾मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा: भाजपा को अपनी जीत पर भरोसा, चुनावी टिकट के लिए प्रतिस्पर्धा स्वाभाविक◾हरजिंदर सिंह धामी ने कहा- वीर बाल दिवस के बजाय साहिबजादे शहादत दिवस मनाए भारत सरकार◾Coimbatore Blast Case: तमिलनाडु में मंदिर के बाहर कार बम विस्फोट मामले में 3 गिरफ्तार, जांच जारी ◾Draupadi Murmu: द्रोपदी मुर्मू ने कहा- नागरिकों के कल्याण पर विशेष ध्यान दें अधिकारी◾Border dispute: फडणवीस ने महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा विवाद पर गृह मंत्री अमित शाह को दी जानकारी◾लव जिहाद फिर बना चर्चा का केंद्र; कांग्रेस ने बताया फर्जी, नरोत्तम मिश्रा ने किया पलटवार ◾RBI ने कहा- भारतीय संस्थाएं आईएफएससी में सोने की कीमत के जोखिम को कम कर सकती ◾MCD नतीजों को लेकर बोले केजरीवाल- दिल्ली का फैसला देश के लिए सकारात्मक राजनीति करने का संदेश◾

पुलिस वालों के खिलाफ फास्ट-ट्रैक मामलों में HC ने UP सरकार से मांगा जवाब

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कासगंज थाने में 22 वर्षीय अल्ताफ की हिरासत में मौत के मामले में राज्य में फास्ट ट्रैक पुलिस अदालतें स्थापित करने की मांग वाली एक जनहित याचिका पर सुनवाई की। कोर्ट ने इस मामले में प्रदेश सरकार को जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया है।

जनहित याचिका में सुझाव दिया गया है कि फास्ट-ट्रैक अदालतों को हिरासत में यातना, मौत, दुष्कर्म और ऐसे अन्य अपराधों के मामलों में पुलिस अधिकारियों के खिलाफ दर्ज FIR, शिकायतों और याचिकाओं पर फैसला सुनाना चाहिए। याचिका में ऐसे मामलों में सुप्रीम कोर्ट द्वारा निर्धारित विभिन्न दिशानिर्देशों को लागू करने का भी आह्वान किया है।

यूपी : ATS ने गिरोह के प्रमुख व्यक्ति को किया गिरफ्तार, रोहिंग्याओं को भारत में कराता था घुसपैठ

पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज (पीयूसीएल) द्वारा दायर एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश राजेश बिंदल और न्यायमूर्ति पीयूष अग्रवाल की खंडपीठ ने उपरोक्त आदेश पारित किया। याचिकाकर्ता के अनुसार, अल्ताफ को उत्तर प्रदेश पुलिस ने पूछताछ के लिए बुलाया था और बाद में 9 नवंबर को वह कासगंज जिले के कोतवाली में मृत पाया गया।

याचिका में पीयूसीएल ने कहा कि पुलिस हिरासत में संदिग्ध परिस्थितियों में अल्ताफ और ऐसे अन्य लोगों की मौत को कोई भी सामान्य विवेक वाला व्यक्ति संस्थागत हत्या के तौर पर देखता है। जनहित याचिका में अदालत से केंद्र और राज्य सरकारों को उत्तर प्रदेश राज्य के सभी पुलिस स्टेशनों और सीबीआई, एनआईए आदि के ऐसे अन्य पुलिस कार्यालयों में सीसीटीवी कैमरे लगाने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है।

यूपी : जौनपुर जिले में STF ने 20 संदिग्ध शिक्षकों के मांगे प्रशिक्षण अभिलेख, फर्जी तरीके से नौकरी लेने का है मामला

याचिका में पुलिस अधिकारियों को जांच के दौरान वीडियोग्राफी के लिए शरीर पर लगे कैमरों और आवश्यक तकनीक से लैस करने का निर्देश देने की भी मांग की। अल्ताफ के मामले के संबंध में, पीयूसीएल ने अदालत से अनुरोध किया कि वह इस मामले की जांच के लिए इलाहाबाद हाई कोर्ट के एक मौजूदा या सेवानिवृत्त न्यायाधीश की अध्यक्षता में एक उच्चाधिकार प्राप्त समिति के गठन का निर्देश दे। 

जनहित याचिका ने हाई कोर्ट से अनुरोध किया कि वह पुलिस महानिदेशक (डीजीपी), यूपी, जिला मजिस्ट्रेट, कासगंज और पुलिस अधीक्षक (एसपी), कासगंज को अल्ताफ के शोक संतप्त परिवार को पूर्ण पुलिस सुरक्षा सुनिश्चित करने का निर्देश दे।