BREAKING NEWS

World Coronavirus : वैश्विक स्तर पर कोरोना मामलों में वृद्धि, 33.02 करोड़ से ऊपर पहुंचा आंकड़ा◾देश के कई हिस्सों में सर्दी का सितम जारी, मैदानी इलाकों को अभी नहीं मिलेगी शीतलहर से राहत◾UP चुनाव को लेकर PM मोदी वाराणसी के भाजपा कार्यकर्ताओं से आज करेंगे वर्चुअल संवाद, देंगे यह मंत्र◾पंजाब विधानसभा चुनाव में CAPF की 1,050 कंपनी तैनात करने की मांग ◾पंजाब विधान सभा चुनाव - गठबंधन तय लेकिन सीटों को लेकर अभी तक नहीं हो पाया है अंतिम फैसला ◾कांग्रेस ने अरबपतियों की संपत्ति बढ़ने संबंधी रिपोर्ट को लेकर सरकार पर निशाना साधा ◾राज्यों की झांकी न शामिल करने के लिए केंद्र की आलोचना करना गलत परम्परा : सरकारी सूत्र ◾ केजरीवाल आज करेंगे पंजाब में ‘आप’ के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार की घोषणा◾गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : ममता के बाद स्टालिन ने PM मोदी का लिखा पत्र ◾भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है : PM मोदी ◾उद्योग जगत ने WEF में PM मोदी के संबोधन का किया स्वागत ◾ कोरोना से निपटने के योगी सरकार के तरीके को लोग याद रखेंगे और भाजपा के खिलाफ वोट डालेंगे : ओवैसी◾गाजीपुर मंडी में मिले IED प्लांट करने की जिम्मेदारी आतंकी संगठन MGH ने ली◾दिल्ली में कोविड-19 के मामले कम हुए, वीकेंड कर्फ्यू काम कर रहा है: सत्येंद्र जैन◾कोविड-19 से उबरने का एकमात्र रास्ता संयुक्त प्रयास, एक दूसरे को पछाड़ने से प्रयासों में होगी देरी : चीनी राष्ट्रपति ◾ ओवैसी की पार्टी AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, 8 सीटों पर किया ऐलान◾दिल्ली में कोरोना का ग्राफ तेजी से नीचे आया, 24 घंटे में 12527 नए केस के साथ 24 मौतें हुई◾अखिलेश के ‘अन्न संकल्प’ पर स्वतंत्र देव का पलटवार, ‘गन’ से डराने वाले किसान हितैषी बनने का कर रहे ढोंग ◾12-14 आयु वर्ग के बच्चों के लिए फरवरी अंत तक हो सकती है टीकाकरण की शुरुआत :NTAGI प्रमुख ◾ अबू धाबी में एयरपोर्ट के पास ड्रोन से अटैक, यमन के हूती विद्रोहियों ने UAE में हमले की ली जिम्मेदारी ◾

उत्तर प्रदेश : प्रशासन ने हटाया कोरोना माता मंदिर, निर्माण को लेकर जांच के आदेश दिए

यहां के जिला प्रशासन ने प्रतापगढ़ जिले के संगीपुर थाना क्षेत्र के जूही शुकुलापुर गांव में बने एक कोरोना माता मंदिर को तोड़ दिया है। 'कोरोना माता' मंदिर निर्माण को लेकर भी जांच के आदेश दिए गए हैं। प्रयागराज रेंज के पुलिस महानिरीक्षक केपी सिंह के मुताबिक, अंधविश्वासी गतिविधियों से बचाने के लिए पुलिस प्रशासन ने गांव से 'कोरोना माता' मंदिर को हटा दिया है। उन्होंने कहा कि पुलिस दल भी कोविड-19 के बारे में जनता में जागरूकता पैदा करने का प्रयास कर रहे हैं, उनका दावा है कि यह एक घातक वायरस है और उन्हें इस तरह की अंधविश्वासी चीजों में खुद को शामिल नहीं करना चाहिए।

आईजी ने यह भी कहा कि पुलिस प्रशासन ने भी मामले की जांच के आदेश दिए हैं, क्योंकि गांव के एक व्यक्ति नागेश कुमार श्रीवास्तव ने संगीपुर थाने में एक आवेदन जमा कर दावा किया है कि गाजियाबाद में रहने वाले उनके भाई लोकेश कुमार ने 'कोरोना माता' की स्थापना की थी। परिवार के अन्य सदस्यों के परामर्श के बिना मंदिर के निर्माण के बाद गाजियाबाद वापस चला गया।

पुलिस ने बताया कि प्रतापगढ़ जिले के शुकुलापुर गांव में तीन दिन पहले 'कोरोना माता' मंदिर बना था और सैकड़ों ग्रामीणों ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए पूजा-अर्चना शुरू कर दी थी। मंदिर वास्तव में चंदा इकट्ठा करने के बाद ग्रामीणों के एक समूह द्वारा बनाया गया था। ग्रामीणों ने कोरोना माता से प्रार्थना करना शुरू कर दिया कि 'कोविड -19 की छाया कभी शुकुलापुर और आसपास के गांवों पर न पड़े।'

इतना ही नहीं, उन्होंने मंदिर में पूजा-अर्चना करते समय मास्क के इस्तेमाल और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे कोविड-19 प्रोटोकॉल के महत्व पर भी प्रकाश डाला। मूर्ति ने भी नकाब पहना था। नाम न छापने की शर्त पर बात करने वाले ग्रामीणों ने दावा किया, "कोरोना वायरस महामारी और इसके घातक प्रभाव को देखने के बाद, जिसने हजारों लोगों की जिंदगी छीन ली, हमने पूरे विश्वास के साथ एक 'नीम' के पेड़ के नीचे कोरोना माता मंदिर स्थापित करने का फैसला किया। देवता निश्चित रूप से लोगों को घातक बीमारी से राहत देंगे।"

छोटे सफेद पत्थर की मूर्ति को खुले मंदिर में दीवार पर स्थापित किया गया है। मूर्ति की स्थापना के साथ ही रोजाना पूजा का आयोजन किया जा रहा था और ग्रामीण लोगों को घातक बीमारी से बचाने के लिए आशीर्वाद मांग रहे थे। मंदिर के पुजारी राधे श्याम ने कहा, "हमने पहले 'चेचक माता' (चेचक माता) का नाम सुना है जिन्होंने बीमारी को ठीक किया था। इसी तरह, हमने इस विश्वास के साथ कोरोना माता मंदिर की स्थापना की थी कि माता सभी कठिनाइयों का समाधान करेगी। हमने ग्रामीणों से धन इक्ठ्ठा किया।"

उन्होंने कहा, हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब देश में इस तरह का मंदिर बना है। "जब प्लेग और चेचक जैसी अन्य घातक बीमारियां गांवों और कस्बों में फैल गईं और कई लोगों को मार डाला, तो लोग भी इसी तरह पूजा करते थे।" ग्रामीणों ने दावा किया कि भक्तों को मूर्ति को छूने की अनुमति नहीं थी और उन्होंने देवी को केवल पीले फूल चढ़ाए।

राजधानी दिल्ली में कोविड-19 पर लगी ब्रेक, तीन महीने में सबसे कम नए मामले आये सामने