BREAKING NEWS

CM ममता का प्रधानमंत्री पर तंज- एक दिन ऐसा आएगा जब देश का नाम नरेन्द्र मोदी के नाम पर रखा जाएगा ◾‘जनभागीदारी’ देश की आजादी के 75 वें वर्ष के उत्सव की मूल भावना, भारत के गौरव की भी हो झलक : PM मोदी◾मराठा आरक्षण पर SC का राज्यों से सवाल, क्या आरक्षण सीमा 50 फीसदी से बढ़ाई जा सकती है?◾मुकेश अंबानी के घर के बाहर मिले विस्फोट मामले की जांच अब NIA करेगी◾रेप के आरोपी को पीड़िता से शादी करने के लिए नहीं कहा, गलत की गई रिपोर्टिंग : CJI◾बाटला हाउस एनकाउंटर मामले में इंडियन मुजाहिदीन आरिज खान दोषी करार, 15 मार्च को सजा सुनाएगी कोर्ट ◾बिहार विधान परिषद में गुस्से में दिखे CM नीतीश, RJD एमएलसी को कहा- 'पहले नियम जान लो' ◾Punjab Budget : 1.13 लाख किसानों का कर्ज माफ, बुजुर्गों की पेंशन 750 रुपए से बढ़ाकर 1500 महीना◾नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों के बीच उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रावत दिल्ली तलब ◾सिंघु बॉर्डर पर फायरिंग, कार से आए 4 युवक गोली चलाकर फरार, जांच में जुटी पुलिस◾मेगन और हैरी ने शाही परिवार के साथ विवादों को लेकर खुलकर की बात, कहा- कभी आए थे सुसाइड के खयाल ◾देश में लगातार तीसरे दिन कोरोना के 18 हजार से अधिक मामलों की पुष्टि, एक्टिव केस 1 लाख 88 हजार ◾TOP 5 NEWS 08 MARCH: आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस : पीएम मोदी ने नारी शक्ति को किया सलाम, कहा- भारत को महिलाओं पर गर्व◾आज का राशिफल (08 मार्च 2021)◾बंगाल चुनाव : मोदी ने ममता को बताया धोखेबाज, बोलीं- झूठे हैं मोदी ◾उत्तराखंड : भाजपा कोर ग्रुप की अचानक हुई बैठक से प्रदेश में बढ़ी सियासी सरगर्मी ◾हरियाणा ने आपूर्ति घटाई, दिल्ली में जलसंकट का खतरा ◾तेजप्रताप की बहन की रिंग सेरीमनी में एक हुआ यादव परिवार ◾कम हो सकती है संसद सत्र की अवधि ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

विदेश मंत्री जयशंकर ने फ्रांस के राष्ट्रपति से की मुलाकात, रणनीतिक मुद्दों पर हुई चर्चा

विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से मुलाकात की और महत्वपूर्ण रणनीतिक मुद्दों पर उनके साथ ‘अच्छी’ चर्चा की। दोनों नेताओं की मंगलवार को पेरिस शांति मंच में मुलाकात हुई। जयशंकर ने बैठक के बाद ट्वीट किया, ‘‘पेरिस शांति मंच में इमैनुएल मैक्रों से मुलाकात हुई। महत्वपूर्ण रणनीतिक मुद्दों पर अच्छी चर्चा हुई।’’ 

वर्ष 1998 में भारत और फ्रांस के बीच रणनीतिक भागीदारी स्थापित हुई थी। रक्षा, सुरक्षा सहयोग, अंतरिक्ष सहयोग और असैन्य परमाणु सहयोग रणनीतिक भागीदारी के महत्वपूर्ण घटक हैं। भारतीय वायु सेना ने पिछले महीने फ्रांस से 36 लड़ाकू विमानों की खेप से पहला राफेल लड़ाकू विमान ग्रहण किया था। 

ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए ब्राजील की राजधानी पहुंचे PM मोदी

शांति मंच में जयशंकर ने अपने संबोधन के दौरान, द्विपक्षीय और बहुपक्षीय रूप से राष्ट्रों द्वारा समन्वित कार्रवाई का आह्वान किया, ताकि आतंकवाद और चरमपंथ की ताकतों को डिजिटल क्षेत्र में उपस्थिति से रोका जा सके। साइबर जगत में शासन के संबंध में जयशंकर ने कहा कि महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे पर साइबर हमलों सहित विशिष्ट सुरक्षा खतरों से निपटने के लिए, देशों को जल्द कार्रवाई और इसका असर कम करने के लिए समझौता करने पर विचार करना चाहिए। 

उन्होंने कहा कि ऑनलाइन जगत से आतंकवादी और हिंसक चरमपंथी विषयवस्तु को समाप्त करने के लिए भारत ‘क्राइस्टचर्च कॉल’ का समर्थन करता है । इसके तहत देशों को समान सोच वाले देशों के साथ काम करते हुए सुनिश्चित करना है कि डिजिटल जगत हमारी सुरक्षा के लिए खतरा बने बिना हमारे समाज और अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए काम करे। 

इस साल 15 मार्च को न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च शहर में आतंकवादी हमले में मुस्लिम समुदाय के 51 लोगों की मौत हो गयी थी। इस आतंकवादी घटना का इंटरनेट पर लाइव प्रसारण कर दिया गया था। इसी घटना के बाद ‘क्राइस्टचर्च कॉल’ कार्य योजना की शुरूआत की गयी। भारत ने ऑनलाइन जगत में आतंकवाद और चरमपंथी विषयवस्तु से मुकाबले और इंटरनेट को सुरक्षित बनाने के लिए फ्रांस, न्यूजीलैंड, कनाडा और कई अन्य देशों के साथ हाथ मिलाया है। 

जयशंकर ने कहा कि साइबर जगत को खुला, सुरक्षित बनाए रखने के लिए अगर वैश्विक नियमन ना भी तैयार हो तो कम से कम वैश्विक सहमति बनाने की जरूरत है । इसके लिए पहले से ज्यादा बहुपक्षीय होने की जरूरत है । उन्होंने कहा कि भारत जैसे बड़े विकासशील देश के लिए डिजिटल जगत और इसकी प्रौद्योगिकी हमारे लोकतंत्र और विकास कार्यक्रमों में बड़ी भूमिका निभा रहा है। 

उन्होंने कहा कि विश्व के सबसे बड़े 1.2 अरब बायोमीट्रिक आधारित डिजिटल यूनिक पहचान पत्र कार्यक्रम, 1.2 अरब मोबाइल फोन कनेक्शन, एक अरब बैंक खाते, और 50 करोड़ से ज्यादा इंटरनेट कनेक्शन ने बड़ा ढांचा तैयार किया है, जो शासन के साथ विकास को बढ़ावा दे रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘हम अवसर से रोमांचित हैं लेकिन साइबर जगत के खतरों के बारे में चिंतित भी हैं । ’’